एसडीजी

यूएन रिपोर्ट: भोजन की बर्बादी रोकने की पुकार

संयुक्त राष्ट्र खाद्य एवं कृषि संगठन (UNFAO) की नई रिपोर्ट दर्शाती है कि मानव उपभोग के लिए पैदा किया जाने वाला एक तिहाई से ज़्यादा भोजन या तो बर्बाद हो जाता है या फिर उसका नुक़सान होता है.  इस रिपोर्ट में ऐसे समाधान भी पेश किए गए हैं जिन्हें अपनाए जाने से असरदार ढंग से भोजन की विशालकाय बर्बादी की रोकथाम के साथ-साथ भुखमरी से निपटने और टिकाऊ विकास लक्ष्यों को हासिल करने में भी मदद मिलेगी.

 

 

जापान में हेगिबिस तूफ़ान का असर कम, साहस व तैयारी के लिए नेतृत्व की सराहना

जापान में हेगिबिस तूफ़ान जान-माल की भारी तबाही हुई है, ऐसे में संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने जलवायु आपदा से निपटने के प्रयासों में जापानी नेतृत्व की भूमिका की सराहना की है. महासचिव ने साथ ही इस तरह की प्राकृतिक आपदाओं से निपटने में जापान की पहले से ही की गई व्याक तैयारियों का ख़ास उल्लेख किया है.

जैव विविधता, अर्थव्यवस्था और जलवायु

जलवायु आपदा ने दुनिया भर में जीवन के हर पहलू को प्रभावित किया है. बहुत से युवा भी अब समस्या की गंभीरता को समझने लगे हैं और अपने-अपने स्तर पर प्रयास कर रहे हैं. ऐसी ही युवा चैंपियन हीता लखानी के साथ संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में अंशु शर्मा की बातचीत.

चुनौतीपूर्ण बदलाव संभव बना रही हैं लड़कियां

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि विश्व में एक अरब से ज़्यादा युवा लड़कियां ऐसे बदलावों का वाहक बन रही हैं जो स्वत:स्फूर्त हैं और जिन्हें आगे बढ़ने से रोका नहीं जा सकता है. 'अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस' के अवसर पर अपने संदेश में उन्होंने कहा कि बचपन में शादी किए जाने, पढ़ाई पूरी ना हो पाने और समान अवसरों से वंचित होने की चुनौतियों के बावजूद वे प्रगति पथ पर अग्रसर हैं.

दुनिया में भुखमरी का अंत कैसे सुनिश्चित हो?

पृथ्वी पर हर एक इंसान का पेट भरने लायक पर्याप्त भोजन का उत्पादन हो रहा है, लेकिन फिर भी विश्व के कुछ हिस्सों में भुखमरी बढ़ती जा रही है और 82 करोड़ से ज़्यादा लोग "लगातार कुपोषण का शिकार" बने हुए हैं. दुनिया में हर इंसान को पर्याप्त भोजन मिले – ये सुनिश्चित करने के लिए आख़िर क्या क़दम उठाए जा रहे हैं?

युवाओं में आत्महत्या के बढ़ते स्तर पर गहरी चिंता

दुनिया भर में क़रीब आठ लाख लोग हर साल आत्महत्याओं की वजह से मौत के मुँह में चले जाते हैं - हर चालीस सेकंड में एक व्यक्ति की मौत. विश्व स्वास्थ्य संगठन के आँकड़ों के अनुसार 15 से 29 वर्ष की उम्र के युवाओं में मौत का यह दूसरा सबसे बड़ा कारण है. गुरूवार 10 अक्तूबर को विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर आत्महत्याओं को रोकने के प्रयासों के बारे में जागरूकता बढ़ाने पर ही ज़ोर दिया गया है.

महिलाओं में ताक़त का अलख

अजयता शाह एक ऐसी युवा कार्यकर्ता हैं जो राजस्थान में महिलाओं को उनके अधिकारों के बारे में जागरूक बनाने के साथ-साथ उनके सशक्तिकरण के लिए काम कर रही हैं. अजयता शाह सितंबर में संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में हुई विभिन्न गतिविधियों में शिरकत करने के लिए आई हुई थीं. यूएन न्यूज़ की अंशु शर्मा ने न्यूयॉर्क में अजयता शाह से ख़ास बातचीत की...

विश्व पर्यावास दिवस: कचरे को संपदा में बदलने पर ज़ोर

कचरे की बढ़ती समस्या सार्वजनिक स्वास्थ्य, पर्यावरण और जलवायु पर हानिकारक असर डाल रही है लेकिन आधुनिकतम तकनीक और नवप्रवर्तन (इनोवेशन) के ज़रिए इस चुनौती का बेहतर और सस्ता समाधान भी तलाश किया जा सकता है. सोमवार को विश्व पर्यावास दिवस (World Habitat Day) पर संदेश दिया गया है कि शहरों और समुदायों को कचरे की उपलब्धता को एक व्यवसायिक अवसर के रूप में देखना होगा.

काँगो गणराज्य में जटिल हालात में ईबोला से 1000 जीवित बचने पर बड़ी तसल्ली

काँगो लोकतांत्रिक गणराज्य में एक हज़ार लोग ईबोला के चंगुल से जीवित बचने में कामयाब हो गए हैं. संयुक्त राष्ट्र ने इस कामयाबी का श्रेय कोंगो के स्वास्थ्य अधिकारियों के नेतृत्व और हज़ारों स्थानीय स्वास्थ्यकर्मियों और साझीदारों की कड़ी मेहनत को दिया है.

गाँधी@150:चिरजीवी अमन मशाल

2019 महात्मा गाँधी के जन्म का 150वाँ वर्ष है. यूएन मुख्यालय में भी इस अवसर पर 24 सितंबर को एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इस कार्यक्रम में संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश, भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख़ हसीना सहित अनेक अंतरराष्ट्रीय हस्तियों ने शिरकत की. इस विशेष बैठक को इन नेताओं ने संबोधित भी किया और गाँधी संदेश के ज़रिए अमन की मशाल को फिर से प्रज्ज्लित किया.