एसडीजी

लैंगिक समानता पर दुनिया भर में सुस्त रफ़्तार

महिलाओं की स्थिति व अधिकारों के बारे में 1995 में हुए बीजिंग सम्मेलन के 25 वर्ष पूरे होने के अवसर पर एक समीक्षा रिपोर्ट तैयार की गई है जिसमें लैंगिक समानता को प्रोत्साहित करने वाली महत्वाकांक्षी योजना ‘बीजिंग प्लैटफ़ॉर्म फ़ॉर एक्शन’ को विभिन्न देशों में किस तरह लागू किया जा रहा है. साथ ही रिपोर्ट में पुरुषों और महिलाओं के बीच ज़्यादा समानता और न्याय सुनिश्चित करने का भी आहवान किया गया है.

बच्चे किसी भी देश में यौन शोषण से सुरक्षित नहीं

पूरी दुनिया में कहीं भी ऐसी कोई सुरक्षित जगह नहीं है जहाँ बच्चों का यौन शोषण, यौन दुराचार और बच्चों को वेश्यावृत्ति के लिए इस्तेमाल नहीं किया जाता हो. संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद ने मंगलवार को एक ताज़ा रिपोर्ट में ये बात कही है.

मानवता के लिए ज़रूरी है वन्यजीव व प्रकृति का संरक्षण

संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम के न्यूयॉर्क कार्यालय के प्रमुख और सहायक महासचिव सत्या त्रिपाठी ने वन्यजीवों व प्रकृति के संरक्षण को मानवता के अस्तित्व के लिए बेहद अहम क़रार दिया है. उन्होंने वर्ष 2020 को प्रकृति के लिए सुपर साल (super year) बताया क्योंकि इस साल इतनी बैठकें और सम्मेलन हो रहे हैं जिनसे निकलने वाले समाधानों से पर्यावरण के विनाश पर विराम लगाया जा सकता है. पेश है विश्व वन्यजीव दिवस के अवसर पर यूएन हिंदी न्यूज़ के प्रमुख महबूब ख़ान के साथ उनकी एक ख़ास बातचीत.

भारत में 'शून्य-बजट' प्राकृतिक खेती से लाभ

भारत के आंध्र प्रदेश राज्य में 'शून्य-बजट' प्राकृतिक खेती के ज़रिए किसानों की प्रत्यक्ष लागत कम करने का प्रयास किया जा रहा है. इस प्रणाली में स्थानीय और ग़ैर-सिंथेटिक कृषि सामग्री के उपयोग से पैदावार और कृषि स्वास्थ्य को बढ़ावा मिलता है.

10 नई प्रवासी प्रजातियों को वन्यजीव समझौते के तहत मिलेगा संरक्षण

प्रवासी प्रजातियों के संरक्षण पर संधि (सीएमएस) के 13वें सम्मेलन, कॉन्फ्रेंस ऑफ पार्टीज़ यानी कॉप-13 के समापन पर 10 प्रवासी प्रजातियों को वैश्विक वन्यजीव समझौते में शामिल करने की घोषणा की गई है जिससे उनके संरक्षण के प्रयासों को मज़बूती मिलेगी. इन प्रजातियों में एशियन एलिफ़ेंट, जैगुआर और ग्रेट इंडियन बस्टर्ड सहित अन्य प्रजातियां शामिल हैं. 
 

प्रवासी प्रजातियों पर कॉप-13 सम्मेलन गाँधीनगर में

दुनिया भर में जीव-जन्तुओं और पशु-पक्षियों की लाखों प्रवासी प्रजातियाँ हैं जो अपने अस्तित्व के लिए देशों की सीमाओं से भी परे तक का सफ़र करती हैं. इनमें से बहुत सी प्रजातियों के वजूद के लिए ही ख़तरा पैदा हो गया है. इन प्रजातियों का वजूद बचाने और इनका जीवन आसान बनाने के मुद्दों पर चर्चा के लिए भारतीय गुजरात के गाँधीनगर में हो रहा है अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन कॉप-13.

सड़क दुर्घटनाओं में मौतों की संख्या 2030 तक 50 फ़ीसदी कम करने का लक्ष्य

सड़क सुरक्षा पर स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम में तीसरे मंत्रिस्तरीय सम्मेलन में सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली मौतों में वर्ष 2030 तक कम से कम 50 फ़ीसदी की कमी लाने की पुकार लगाई गई है. सड़क दुर्घटनाओं में हर साल 13 लाख से ज़्यादा मौतें होती हैं, पांच करोड़ से ज़्यादा लोग घायल होते हैं और देशों को उनके सकल घरेलू उत्पाद में तीन फ़ीसदी तक का नुक़सान उठाना पड़ता है.

'पोलियो उन्मूलन यूएन की प्राथमिकता'

इंसानों को विकलांग बनाने वाली और संभवतः घातक बीमारी से बचाने के लिए पाकिस्तान में लाखों बच्चों को वैक्सीन पिलाने का अभियान ज़ोर-शोर से चलाया गया है. विश्व भर में पोलियो के प्रकोप के कुछ आख़िरी ठिकानों में पाकिस्तान भी शामिल है.

जलवायु कार्रवाई तेज़ करने पर बल, शरणार्थियों की मदद के लिए पाकिस्तान की सराहना

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने लंबे समय तक भारी संख्या में शरणार्थियों को अपने यहाँ पनाह देने में असाधारण दरिया-दिली और मज़बूती दिखाने व जलवायु परिवर्तन की चुनौती का मुक़ाबला करने में अहम भूमिका के लिए पाकिस्तान की सराहना की है. महासचिव ने रविवार को पाकिस्तान की तीन दिन की यात्रा शुरू करते हुए इस्लामाबाद में ये बात कही.

'रेडियो लोगों को आपस में जोड़ता है'

ख़बरों, विस्तृत कार्यक्रमों और महत्वपूर्ण सूचनाओं के एक आसान स्रोत के रूप में रेडियो की पहचान सर्वविदित है. आम लोगों के साथ संवाद में रेडियो की महत्ता को पहचान देने के लिए हर वर्ष 13 फ़रवरी को रेडियो दिवस मनाया जाता है. महासचिव का संदेश...