शांति और सुरक्षा

युद्धग्रस्त यमन में जल्द 'शान्ति हासिल करना सम्भव'

यमन के लिए संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने सुरक्षा परिषद को वहाँ के हालात से अवगत कराते हुए भरोसा जताया है कि देश हिंसा पर जल्द विराम लगने के नज़दीक पहुँच गया है लेकिन आशावान होने के साथ-साथ सतर्कता बरतते रहना ज़रूरी है. उनके मुताबिक शान्ति क़ायम करने के लिए हुई बातचीत में ठोस प्रगति हुई है, विशेषकर युद्धविराम के मुद्दे पर.

अफ़ग़ानिस्तान में 'भयावह' हमलों की कड़ी निंदा, दोषियों को सज़ा की माँग

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल के एक अस्पताल में हुए भयावह हमले की कड़े शब्दों में निंदा की है. मंगलवार को दो अलग-अलग हमलों मे कम से कम 38 लोगों की मौत हुई है जिनमें कुछ बच्चे भी हैं. यूएन प्रमुख ने देश में हिंसक घटनाओं में तेज़ी आने पर चिंता जताई है और कहा है कि हालात पर नज़र रखी जा रही है.

 

 

'इराक़ को तुच्छ राजनीति के दलदल से निकलकर रचनात्मक बनना होगा'

इराक़ में संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष अधिकारी जीनिन हैनिस प्लैसशाएर्ट ने कहा है कि इराक़ में कोविड-19 महामारी और घटते तेल भंडारों जैसे जटिल संकटों के बावजूद अगर राजनैतिक इच्छाशक्ति से काम लिया जाए तो देश को ज़्यादा ख़ुशहाल और समावेशी बनाया जा सकता है. इराक़ दूत ने देश के ताज़ा हालात की जानकारी देते हुए मंगलवार को सुरक्षा परिषद की एक वर्चुअल बैठक में ये बात कही.

'नाज़ियों की हार के 75 वर्ष बाद, आज भी बहुत से लोग युद्ध की विभीषिका में हैं'

संयुक्त राष्ट्र हर वर्ष 8 और 9 मई को उन लाखों लोगों को याद करता है जिनकी ज़िन्दगी दूसरे विश्व युद्ध के दौरान ख़त्म हो गई थी. उस भीषण तबाही वाले संघर्ष के बाद ही संयुक्त राष्ट्र वजूद में आया था. यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने शुक्रवार, 8 मई को एक वीडियो संदेश में आगाह करते हुए कहा कि मतभेद अब भी मौजूद हैं, और उन्होंने एक ऐसी दुनिया बनाने की पुकार लगाई जिसकी बुनियाद शान्ति व एकता पर टिकी हो.

सीरिया में 'टाइम बम' जैसे हालात, 'और उपेक्षा ना करे दुनिया'

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त (OHCHR) मिशेल बाशेलेट ने शुक्रवार को चिंता जताई है इस्लामिक स्टेट (दाएश) सहित हिंसा में शामिल कुछ पक्ष कोविड-19 महामारी का इस्तेमाल फिर से संगठित होने और आम आबादी को निशाना बनाने के लिए कर रहे हैं. सीरिया में हिंसा में हताहत होने वाले आम लोगों की बढ़ती संख्या और मानवाधिकार हनन के मामल निर्बाध गति से जारी रहने के बीच उन्होंने यह बात कही है.    

कोविड-19: चुनौतियों से निपटने में युवाओं की व्यापक भागीदारी की पुकार 

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि देशों को विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 की मौजूदा चुनौती से निपटने के प्रयासों के तहत युवाओं की प्रतिभाओं का उपयोग करने के लिए ज़्यादा प्रयास करने होंगे. यूएन सुरक्षा परिषद ने पाँच वर्ष पहले युवा, शांति व सुरक्षा पर एक प्रस्ताव पारित किया था जिसकी समीक्षा के लिए सोमवार को हुई बैठक के दौरान महासचिव गुटेरेश ने सुरक्षा परिषद को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के ज़रिए यह जानकारी दी है. 

अफ़ग़ानिस्तान: 2020 की पहली तिमाही में 500 से ज़्यादा लोगों की मौत

संयुक्त राष्ट्र की एक नई रिपोर्ट दर्शाती है कि अफ़ग़ानिस्तान में हिंसा के कारण वर्ष 2020 के पहले तीन महीनों के दौरान 500 से ज़्यादा आम नागरिकों की मौत हुई जिनमें 150 से ज़्यादा बच्चे थे. रिपोर्ट में देश में कोविड-19 महामारी के बढ़ते ख़तरे के बीच सभी पक्षों से आम लोगों को हिंसा के दंश से बचाने के लिए ज़्यादा प्रयास करने की ज़रूरत पर बल दिया गया है.

मल्टीमीडिया सामग्री

यूएन न्यूज़ की मल्टीमीडिया सामग्री यहॉं उपलब्ध है. 

कोविड-19: 'साझा दुश्मन' से लड़ाई में सहयोग से खुल सकता है शांति का रास्ता

विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 से निपटने के प्रयासों में आपसी सहयोग से इसराइल और फ़लस्तीन के लिए ऐसे अवसरों का सृजन संभव है जिन्हें अपनाकर दोनों पक्ष मध्यपूर्व में शांति स्थापित करने और दशकों से चले आ रहे विवाद पर विराम लगाने में कर सकते हैं. मध्यपूर्व शांति वार्ता के लिए यूएन के विशेष समन्वयक निकोलय म्लादेनॉफ़ ने गुरुवार को वीडियो कान्फ़्रेंसिंग ज़रिए सुरक्षा परिषद को क्षेत्र में हालात से अवगत कराते हुए यह बात कही है. 

रमज़ान करीम संदेश

यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने रमज़ान शुभकामना संदेश में कहा है कि इस बार का ये पवित्र मौक़ा बहुत मुश्किल भरे वक़्त में आया है. बहुत से लोग युद्ध और अशांन्ति वाले इलाक़ों में रहने को मजबूर हैं, उनका ख़याल रखना भी अहम है. साथ ही, महासचिव ने युद्धविराम की अपनी अपील भी दोहराई है...