शांति और सुरक्षा

क्यों पड़ रहे हैं जीने के लाले!

मंगलवार 16 अक्तूबर को विश्व खाद्य दिवस मनाते हुए इन हालात पर गहरी चिन्ता जताई गई कि अब भी लड़ाई-झगड़ों, संघर्षों या फिर राजनातिक अस्थिरता वाले अब भी बहुत से ऐसे देश हैं जहाँ जीवित रहने के लिए खाने-पीने का सामान कम पड़ता जा रहा है.

नादिया मुराद और डॉक्टर डेनिस को नोबेल शांति पुरस्कार

वर्ष 2018 का नोबेल शान्ति पुरस्कार इराक़ी मूल की एक यज़ीदी मानवाधिकार कार्यकर्ता व संयुक्त राष्ट्र की एक सदभावना दूत नादिया मुराद और कोंगो गणराज्य (डीआरसी) के एक चिकित्सक डॉक्टर डेनिस मुकवेगे को देने की घोषणा की गई है.

‘गांधी के रास्ते से निकलेंगे हल'

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतॉनियो गुटेरेश ने अन्तरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस के मौक़े पर उम्मीद जताई है कि राजनेताओं और राजनीतिज्ञ लोगों की भलाई करने के लक्ष्य हासिल करने के लिए महात्मा गांधी के रास्ते पर चलने और उनके सिद्धान्तों और मूल्यों को अपनाने की कोशिश करेंगे.

टूट रहा है भरोसा, कैसे बचाएं…

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है आज के दौर में दुनिया भर में भरोसा टूटा हुआ नज़र आता है. तमाम देशों के राष्ट्रीय संस्थानों में लोगों का भरोसा, देशों के बीच आपसी भरोसा और नियम और क़ानून पर आधारित एक वैश्विक व्यवस्था में भरोसा, सभी चकनाचूर हुआ नज़र आता है.