शांति और सुरक्षा

यमन: हिंसा में कमी और सहायता राशि में वृद्धि से उम्मीदें बंधी

यमन में संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने कहा है कि देश में हिंसा में कमी आने के बाद वहां बदहाल हालात में जीवन गुज़ार रहे आम लोगों के लिए आशा बंधने के संकेत मिले हैं. ज़रूरतमंदों के लिए सहायता राशि में 20 फ़ीसदी का इज़ाफ़ा हुआ है जिसके बाद बंद पड़े मानवीय राहत कार्यक्रम फिर से शुरू कर दिए गए हैं लेकिन हिंसा पर पूर्ण विराम लगाने के लिए अभी और ज़्यादा प्रयास करने होंगे.

प्रथम कमेटी: निरस्त्रीकरण और अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे

हर साल सितंबर में संयुक्त राष्ट्र महासभा के वार्षिक सत्र में हिस्सा लेने के लिए दुनिया भर के नेता एकत्र होते हैं और लगभग एक सप्ताह के लिए दुनिया की नज़रें इस पर टिक जाती हैं. इस सत्र में अगले वर्ष के लिए एजेंडा तय किया जाता है जिस पर काम भी इसी वक़्त शुरू हो जाता है. लेकिन फ़ैसलों को किस तरह एक्शन में बदला जाए, उसके लिए सदस्य देशों के प्रतिनिधि छह प्रमुख कमेटियों के रूप में अपना कामकाज आगे बढ़ाते हैं. महासभा की छह कमेटियों के परिचय की इस श्रंखला में पेश है प्रथम कमेटी के बारे में कुछ जानकारी. प्रथम कमेटी पर अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा और निरस्त्रीकरण से संबंधित मुद्दों की ज़िम्मेदारी है.

दक्षिण सूडान: डर के माहौल में चुनौतियों को समझने की कोशिश

दक्षिण सूडान के लासू में हिंसक वारदातों के बढ़ने से स्थानीय जनता के सामने पेश आ रही चुनौतियों को समझने और उनके समाधान तलाश करने के लिए एक प्रतिनिधिमंडल ने इलाक़े का दौरा किया है. इस प्रतिनिधिमंडल में संयुक्त राष्ट्र मिशन (UNMISS) के फ़ोर्स कमांडर ब्रिगेडियर शैलेश तिनाइकर और दक्षिण सूडान में भारत के राजदूत एसडी मूर्ति शामिल थे.

दुनिया भर में बिगड़ रही है मानवाधिकारों की स्थिति: मानवाधिकार उच्चायुक्त

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बाशेलेट ने संयुक्त राष्ट्र महासभा को बताया है कि दुनिया भर में बहुपक्षवाद के लिए चुनौतियाँ बढ़ती जा रही हैं जिन्हें नकारा नहीं जा सकता, अलबत्ता मानवाधिकारों के सार्वभौमिक घोषणा-पत्र में हुई ऐतिहासिक सहमतियों को मज़बूत करने के लिए सदस्य देशों के साथ मिल-जुलकर काम किया जा सकता है. संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष मानवाधिकार पदाधिकारी मिशेल बाशेलेट ने मंगलवार को महासभा की तीसरी कमेटी के सामने वार्षिक रिपोर्ट पेश करते हुए ये बात कही. इस कमेटी पर दुनिया भर में सामाजिक, मानवीय और सांस्कृतिक मुद्दों से निपटने की ज़िम्मेदारी है.

हेती में शांतिरक्षा मिशन समाप्त, लेकिन यूएन का समर्थन जारी रहेगा

हेती में 15 वर्ष से चला आ रहा संयुक्त राष्ट्र शांतिरक्षा अभियान समाप्त हो रहा है लेकिन देश में स्थिरता और लोकतंत्र की जड़ें मज़बूत करने के लिए संगठन का संकल्प जारी रहेगा. संयुक्त राष्ट्र शांति अभियानों के अवर महासचिव ज़्यां-पियरे लॉकोआ ने मंगलवार को सुरक्षा परिषद को यह जानकारी देते हुए यूएन मिशन की उपलब्धियों के बारे में जानकारी साझा की.

सीरिया: सैन्य अभियान के बीच दाएश लड़ाकों के छूट जाने का ख़तरा

सीरिया के पूर्वोत्तर इलाक़े में तुर्की की सैन्य कार्रवाई से आतंकवादी गुट आईसिल (दाएश) के बड़ी संख्या में लड़ाकों की अनचाही रिहाई की आशंका जताई गई है जिसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने हिंसा प्रभावित क्षेत्र में बदहाल सुरक्षा व्यवस्था और चरमराते स्वास्थ्य तंत्र के बीच लड़ाई तुरंत रोके जाने और हर हाल में आम नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की अपील की है.

बुर्किना फासो में मस्जिद पर हुए हमले की कड़ी भर्त्सना

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने बुर्किना फासो के उत्तरी शहर सलमोस्सी में एक मस्जिद पर किए गए हमले की कड़ी भर्त्सना की है. मस्जिद पर शुक्रवार 11 अक्तूबर को दोपहर की नमाज़ के समय हमला किया गया था.

इथियोपियाई पीएम को नोबेल शांति पुरस्कार पर बधाई

संयुक्त राष्ट्र ने इथियोपिया के प्रधानमंत्री आबिय अहमद को वर्ष 2019 का नोबेल शांति पुरस्कार जीतने पर बधाई दी है. यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने इथियोपिया और एरीट्रिया के बीच मेलमिलाप क़ायम करने और शांति समझौते में उनकी भूमिका की सराहना की है.

सीरिया में सैन्य तनाव बढ़ने पर आम लोगों की सुरक्षा की चिंता

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी (यूएनएचसीआर) ने गुरूवार को कहा है कि सीरिया के पूर्वोत्तर इलाक़े में हाल के दिनों में बढ़े सैन्य तनाव के कारण लाखों लोगों को सुरक्षा की ख़ातिर वो इलाक़ा छोड़ना पड़ा है. इससे एक दिन पहले यानी बुधवार को ही तुर्की ने सीरिया में कुछ हवाई औरर ज़मीनी हमले किए थे.

जर्मनी में यहूदी उपासना स्थल पर हमले की कड़ी निंदा

जर्मनी में हाले शहर में एक यहूदी उपासना स्थल के बाहर बुधवार को हुए हमले में दो लोगों की मौत हो गई है. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने इस हमले को ग़ैर-यहूदीवाद का त्रासद प्रकटीकरण बताते हुए उसकी कड़े शब्दों में निंदा की है.