मानवीय सहायता

मोज़ाम्बीक में विनाशकारी तूफ़ान की फिर आशंका के मद्देनज़र राहत कार्य तेज़

संयुक्त राष्ट्र और उसकी सहभागी संस्थाओं ने मोज़ाम्बीक के उत्तरी तटवर्ती क्षेत्रों में एक और विनाशकारी तूफान की आशंका को देखते हुए गुरूवार को आपातकालीन बचाव व राहत कार्य उपाय शुरू कर दिए हैं.

वेनेज़्वेला में मानवीय स्थिति बदतर, 70 लाख लोगों को मदद की दरकार

वेनेज़्वेला मुद्दे पर परस्पर विरोधी प्रस्तावों के पारित न हो पाने के करीब एक महीने बाद वहां कायम स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में फिर चर्चा हुई है. बुधवार की बैठक में वेनेज़्वेला को एक बड़ी वास्तविक मानवीय समस्या बताया गया है जहां 70 लाख लोगों को सहायता की ज़रूरत है और हर दिन पांच हज़ार लोग देश छोड़कर जाने को मजबूर हैं. 

11 करोड़ से ज़्यादा लोगों को नहीं मिला पर्याप्त भोजन

दुनिया के 53 देशों में पिछले साल 11 करोड़ से ज़्यादा लोगों को ज़रूरत के अनुसार पर्याप्त भोजन नहीं मिल पाया जिससे उनकी जान पर ख़तरा मंडराता रहा. 2017 में ऐसे लोगों की संख्या लगभग 12 करोड़ थी. खाद्य एवं कृषि संगठन (FAO), विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) और यूरोपीय संघ की ओर से जारी एक नई रिपोर्ट में ये तथ्य उभरकर सामने आए हैं.

हैज़े के बढ़ते मामलों के बीच यमनी अस्पताल पर हमले की जांच

यमन में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार टीम विद्रोहियों के नियंत्रण वाले इलाक़े में स्थित एक अस्पताल पर कथित हवाई हमले की जांच कर रही है. मंगलवार को इस हमले में सात आम नागरिकों के मारे जाने की ख़बर है. उधर मानवीय राहत से जुड़े एक वरिष्ठ अधिकारी ने चिंता जताई है कि यमन में हैज़े के मामले जंगल में आग की तरह फैल रहे हैं.

'इडाई' प्रभावित बच्चों को जल्द से जल्द राहत और सुरक्षा की ज़रूरत

चक्रवाती तूफ़ान ‘इडाई’ से सबसे ज़्यादा प्रभावित मोज़ाम्बिक के बेयरा शहर में राहत एजेंसियों को धीरे धीरे तबाही की व्यापकता का अंदाज़ा लग रह है. शनिवार को संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) की प्रमुख ने कहा है कि देश भर में 10 लाख से ज़्यादा पीड़ितों को राहत पहुंचाने के लिए और अंतरराष्ट्रीय मदद की आवश्यकता है.

भारी बारिश के चलते 'इडाई' प्रभावित इलाक़ों में हालात विकट

मोज़ाम्बिक, मलावी और ज़िम्बाब्वे में चक्रवाती तूफ़ान 'इडाई' से तबाही के बाद कई प्रभावित इलाक़ों में अब भी भारी बारिश हो रही है जिससे स्थिति और बिगड़ने की आशंका गहरा रही है. तूफ़ान के बाद जलस्तर बढ़ने से घरों की छतों और पेड़ों की शरण लिए लोगों तक पहुंचना भी चुनौतीपूर्ण साबित हो रहा है. व्यापक स्तर पर राहत एवं बचाव कार्य जारी है.

तूफ़ान प्रभावित इलाक़ों में राहत अभियानों में जुटी यूएन एजेंसियां

चक्रवाती तूफ़ान 'इडाई' से तीन अफ़्रीकी देशों में हुई तबाही के बाद, संयुक्त राष्ट्र राहत एजेंसियां और साझेदार संगठनों ने व्यापक पैमाने पर राहत कार्यों को शुरू किया है. मोज़ाम्बिक, मलावी और ज़िम्बाब्वे के प्रभावित इलाक़ों में फंसे लाखों लोगों की भोजन, शरण और स्वास्थ्य संबंधी ज़रूरतों को पूरा किया जा रहा है. 

'हर घंटे बढ़ रहा है' तूफ़ान से तबाही का दायरा

चक्रवाती तूफ़ान 'इडाई' के गुज़रने के बाद तीन अफ़्रीकी देशों में उससे हुई तबाही का दायरा स्पष्ट होता जा रहा है. सिर्फ़ मोज़ाम्बिक में ही एक हज़ार लोगों की इस आपदा में मौत होने की आशंका ज़ाहिर की गई है. संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों का कहना है कि आपदा की व्यापकता हर घंटे बढ़ती जा रही है.

 

तूफ़ान प्रभावित अफ़्रीकी देशों में राहत कार्य तेज़

मोज़ाम्बिक, मलावी और ज़िम्बाब्वे में क़हर बरपाने वाले चक्रवाती तूफ़ान 'इडाई' के बाद संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों ने प्रभावितों तक राहत पहुंचाने का कार्य तेज़ कर दिया है. तीन अफ़्रीकी देशों में जान-माल की भारी हानि हुई है और मलावी में ही अब तक 150 लोगों की मौत हो चुकी है. यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने तूफ़ान से हुई तबाही पर शोक जताया है.

'समाप्त नहीं हुआ है अभी सीरिया में संकट'

सीरिया के भविष्य के लिए समर्थन जुटाने के उद्देश्य से होने वाले 'ब्रसेल्स सम्मेलन' से पहले, संयुक्त राष्ट्र की तीन एजेंसियों ने आगाह किया है कि संकट अब भी बना हुआ है. सीरिया में विकट परिस्थितियों में रह रहे लोगों की सतत और व्यापक सहायता के लिए 3.3 अरब डॉलर की अपील की गई है.