मानवीय सहायता

बेरूत विस्फोट: मानवीय राहत के लिए 56 करोड़ डॉलर की अपील

लेबनान में बेरूत बन्दरगाह पर भीषण विस्फोट से हुई व्यापक तबाही से देश में उपजे संकट के मद्देनज़र संयुक्त राष्ट्र ने जीवनरक्षक मानवीय राहत कार्यों, पुनर्निर्माण और आर्थिक पुनर्बहाली के लिए 56 करोड़ डॉलर की अपील जारी की है. यूएन ने उम्मीद जताई है कि पर्याप्त वित्तीय संसाधनों की मदद से साझीदार संगठनों के साथ मिलकर प्रभावित लोगों के लिए भोजन, स्वास्थ्य रक्षा, शरण व संरक्षण के अलावा जल और स्वच्छता का इन्तज़ाम कर पाना सम्भव होगा. 

बेरूत विस्फोट: यूएन एजेंसी भोजन की क़िल्लत से बचने के प्रयासों में जुटी 

विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) लेबनान में भीषण विस्फोट के बाद भोजन की क़िल्लत होने की आशंका के बीच हालात से निपटने के लिये अपने प्रयास तेज़ कर रहा है. आर्थिक संकट और कोविड-19 महामारी से जूझ रहे देश में बेरूत बन्दरगाह पर हुए विस्फोट से भारी नुक़सान हुआ है और अनेक इमारतों के साथ खाद्य भण्डारण की व्यवस्था पर भी बुरा असर पड़ा है, जिन्हें पुनर्बहाल करने का प्रयास किया जा रहा है.   

बेरूत: विस्फोट से शरणार्थियों पर भी असर, राहत कार्य में तेज़ी

लेबनान की राजधानी बेरूत के बन्दरगाह पर एक सप्ताह पहले हुए भीषण विस्फोट में अनेक शरणार्थी भी हताहत हुए हैं. शरणार्थी मामलों की संयुक्त राष्ट्र एजेंसी (UNHCR) ने मंगलवार को बताया कि अब तक कम से कम 34 शरणार्थियों की मौत होने की पुष्टि हो चुकी है लेकिन यह संख्या और बढ़ने की आशंका है. 124 शरणार्थी घायल हुए हैं जिनमें 20 की हालत गम्भीर बताई गई है जबकि सात अन्य लापता हैं.

बेरूत विस्फोट: लेबनान को हरसम्भव सहायता का संकल्प

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने लेबनान में पिछले सप्ताह हुए भीषण विस्फोट के बाद स्थानीय जनता के साथ एकजुटता ज़ाहिर करते हुए भरोसा दिलाया है कि यूएन और उसके साझीदार संगठन प्रभावितों तक आपात राहत पहुँचाने के काम में दिन-रात जुटे हैं.  यूएन प्रमुख ने विस्फोट के कारणों की तह तक जाने व जवाबदेही तय करने के लिए घटना की विश्वसनीय व पारदर्शी जाँच कराए जाने का आग्रह किया है.

लेबनान विस्फोट: 'त्वरित कार्रवाई से ही तकलीफ़ें कम की जा सकेंगी'

संयुक्त राष्ट्र की उप महासचिव आमिना जे मोहम्मद ने कहा है कि लेबनान को विस्फोक से उत्पन्न हुए संकट उबरने और बेहतर तरीक़े से पुनर्निर्माण करने के लिये “हम सभी को एकजुट होने की ज़रूरत होगी”. रविवार को दानदाताओं के एक वर्चुअल सम्मेलन में आमिना जे मोहम्मद ने ये पुकार लगाई.

लेबनान को तत्काल सहायता मुहैया कराने में लगीं यूएन एजेंसियाँ

लेबनान की राजधानी बेरूत में मंगलवार को हुए घातक बम विस्फोट हज़ारों लोग घायल हुए और लाखों लोगों को बेघर भी होना पड़ा, तबाही के स्तर को देखते हुए, संयुक्त राष्ट्र ने प्रभावितों के लिये राहत कार्य तत्काल और बहुत तेज़ी से शुरू किये. संयुक्त राष्ट्र की विशेषीकृत एजेंसियों का व्यापक नैटवर्क एक जुट होकर राजधानी बेरूत में प्रभावित लोगों की मदद करने में लग गया है ताकि लोगों को फिर से उनके पैरों पर खड़ा किया जा सके. अगर आप भी बेरूत के लोगों की मदद करने के बारे में सोच रहे हैं तो हमने यहाँ यूएन एजेंसियों द्वारा किये जा रहे सहायता व राहत कार्यों के बारे में कुछ विवरण प्रस्तुत किया है और आप चाहें तो किस तरह योगदान कर सकते हैं.

लेबनान: जीवितों की तलाश के बीच विशाल ज़रूरतों की चेतावनी 

लेबनान के बेरूत शहर में भारी तबाही का सबब बनने वाले भीषण विस्फोट के बाद यूएन एजेंसियों ने शुक्रवार को कहा है कि मौजूदा हालात में ज़रूरतों का दायरा और स्तर बहुत व्यापक हैं और तत्काल व्यापक सहायता उपलब्ध करानी होगी. इस विस्फोट में अब तक 150 से ज़्यादा लोगों के मौत हो चुकी है और हज़ारों लोग घायल व बेघर हुए हैं. राहत और बचाव अभियान के बीच हताहतों की संख्या बढ़ने की आशंका जताई जा रही है. 

लेबनान: भीषण विस्फोट के पीड़ितों के लिये मानवीय सहायता के संगठित प्रयास

लेबनान की राजधानी बेरूत के बन्दरगाह में भीषण विस्फोट से हुई तबाही की व्यापकता जैसे-जैसे स्पष्ट हो रही है, प्रभावितों तक मदद पहुँचाने के प्रयास भी तेज़ हो रहे हैं. संकट की इस घड़ी में लेबनान में स्वास्थ्य सुविधाओं की क्षमता मज़बूत करने के उद्देश्य से 20 टन मेडिकल सामग्री व आपूर्ति से भरा विमान बेरूत पहुँचा है. लेबनान में मानवीय राहत समन्वयक व यूएन प्रतिनिधि ने कहा है कि इस तबाही से उबरने के लिये लेबनान को वैश्विक समर्थन की ज़रूरत है. 

लेबनान: भीषण विस्फोट के बाद अस्पतालों की मदद करना यूएन की शीर्ष प्राथमिकता

संयुक्त राष्ट्र  लेबनान की राजधानी बेरूत में मंगलवार को हुए भीषण विस्फोट के बाद स्थानीय प्रशासन को राहत अभियान में नज़दीकी सहयोग प्रदान कर रहा है. बेरूत के बन्दरगाह पर हुए इस धमाके से पूरा शहर थरथरा उठा और अनेक इलाकों में व्यापक नुक़सान हुआ है. अब तक इस घटना में 130 लोगों की मौत हुई है, हज़ारों लोग घायल हुए हैं और बड़ी संख्या में लोग बेघर हो गए हैं.     

दक्षिण एशियाई देशों में विनाशकारी बाढ़ से लाखों बच्चे प्रभावित

बांग्लादेश, भारत और नेपाल में कई हफ़्तों से हो रही मूसलाधार बारिश, बड़े पैमाने पर आई बाढ़ और भूस्खलन की घटनाओं के कारण लाखों बच्चे और उनके परिवार प्रभावित हुए हैं. संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) के मुताबिक 40 लाख से ज़्यादा बच्चों को तत्काल जीवनरक्षक सहायता प्रदान किये जाने की ज़रूरत है और मौजूदा हालात में अन्य लाखों बच्चों पर भी जोखिम मंडरा रहा है.