मानवीय सहायता

हेती: भूकंप के प्रभावितों की याद, भविष्य संवारने में मदद का वादा भी

हेती में जनवरी 2010 में आए विनाशकारी भूकंप में लगभग दो लाख 20 लोगों की मौत हो गई थी और तीन लाख से ज़्यादा घायल हुए थे. मृतकों में संयुक्त राष्ट्र के 102 कर्मचारी भी थे.  केवल 35 सेकंड तक चले 7.0 की तीव्रता वाले उस भूकंप के बाद लगभग 15 लाख लोग बेघर भी हो गए थे. भूकंप के दस वर्ष पूरे होने के अवसर पर प्रभावितों को यूएन मुख्यालय में शुक्रवार को आयोजित एक विशेष कार्यक्रम में सम्मान के साथ याद किया गया.

'माली में शांति समझौता लागू करना ही स्थिरता का एक मात्र रास्ता'

संयुक्त राष्ट्र शांतिरक्षा विभाग के प्रमुख ज्याँ पियर लैक्रोइ ने बुधवार को सुरक्षा परिषद को बताया कि माली में 2015 के शांति समझौते को लागू करना ही देश में स्थिरता स्थापित करने का एक मात्र प्रशस्त करता है. ज्याँ पियर लैक्रोइ ने पश्चिम अफ्रीकी देश माली में ताज़ा स्थिति के बारे में सुरक्षा परिषद को अवगत कराया.

हेती भूकंप विनाश के दस वर्ष: यूएन मदद जारी रखने का संकल्प

12 जनवरी 2010 को हेती में सिर्फ़ 35 सेकंड का एक भूकंप आया मगर उसकी तीव्रता 7.0 थी जिसने राजधानी पोर्ट ओ प्रिंस को दहलाकर रख दिया. उस महाविनाशकारी भूकंप में लगभग 2 लाख 20 लोगों की मौत हुई और तीन लाख से ज़्यादा घायल हुए. लगभग 15 लोगों के घर छिन गए. महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने उस भूकंप के दस वर्ष पूरे होने पर जारी अपने संदेश में कहा है कि संयुक्त राष्ट्र हेती और वहाँ के लोगों के बेहत भविष्य निर्माण में मदद करना जारी रखेगा. (यूएन महासचिव का वीडियो संदेश...)

सीरिया को मदद मुहैया कराने की समय सीमा अंतिम क्षणों में बढ़ी

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने सीरिया के सीमावर्ती इलाक़ों में रहने वाले लाखों आम नागरिकों को मानवीय सहायता पहुँचाने के संयुक्त राष्ट्र के अभियानों को जारी रखने के लिए शुक्रवार देर शाम मंज़ूरी दे दी. लेकिन सुरक्षा परिषद के कुछ सदस्यों ने ये मानवीय सहायता पहुँचाने के लिए सीमा चौकियों की संख्या और समय दायरा कम किए जाने पर निराशा भी व्यक्त की.

सीरिया के इदलिब में हालात आम लोगों के लिए एक 'दुस्वपन'

सीरिया के दक्षिणी इदलिब इलाक़े में हिंसक संघर्ष में तेज़ी आने से 15 दिसंबर से अब तक तीन लाख आम नागरिकों को अपना घर छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा है. सीरिया में संयुक्त राष्ट्र क्षेत्रीय मानवीय सहायता उपसमन्यवयक मार्क कट्स ने हालात पर गहरी चिंता जताते हुए कहा है कि हिंसा प्रभावितों के लिए वहां रहना एक दुस्वपन बन गया है.

यूनीसेफ़: जंगलों में आग से धधकते ऑस्ट्रेलिया को मदद की पेशकश

ऑस्ट्रेलिया को आग की लपटों में झुलसा देने और अपने साथ तबाही लाने वाली भीषण आग से चिंतित संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने ऑस्ट्रेलियाई सरकार और साझेदार संगठनों को राहत प्रयासों में समर्थन देने की पेशकश की है. यूनीसेफ़ के मुताबिक़ ऑस्ट्रेलिया इस समय एक अभूतपूर्व आपदा का सामना कर रहा है.

दक्षिण सूडान में मारी गई यूएन राहतकर्मी के बेटे का पिता से पुनर्मिलन

दक्षिण सूडान में सशस्त्र गुटों के दौरान लड़ाई की चपेट में आने से संयुक्त राष्ट्र प्रवासन एजेंसी की एक महिला कर्मचारी की मौत हो गई थी और उनके चार वर्षीय बेटे को अगवा कर लिया गया था. शुक्रवार को राजधानी जूबा में रिहाई के बाद बच्चे का अपने पिता के साथ भावनात्मक पुनर्मिलन हुआ. 

सीरियाई बच्चों के लिए नया साल शांतिपूर्ण होने की कामना

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) की कार्यकारी निदेशक हेनरीएटा फ़ोर ने नए साल पर एक अपील जारी करते हुए कहा है कि सीरिया में युद्ध की समाप्ति ही बच्चों के लिए सुरक्षा सुनिश्चित कर सकती है. देश के पश्चिमोत्तर में इदलिब गवर्नरेट में बुधवार को एक प्राइमरी स्कूल में रॉकेट हमले में पांच बच्चों की मौत हो गई.

सब-सहारा अफ़्रीका में भुखमरी का विकराल रूप

विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) का एक नया विश्लेषण दर्शाता है कि सब-सहारा देशों में भुखमरी से पीड़ित लोगों की संख्या बढ़ रही है और आगामी महीनों में ज़िम्बाब्वे, दक्षिण सूडान, कॉंगो लोकतांत्रिक गणराज्य सहित अन्य देशों में लाखों लोगों का जीवन बचाने के लिए खाद्य सहायता की ज़रूरत होगी.

ज़िम्बाब्वे में 80 लाख लोग भुखमरी का शिकार, राहत की पुकार

विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) ने लंबे समय से सूखे और आर्थिक मंदी के कारण भुखमरी की चपेट में आए ज़िम्बाब्वे के लाखों लोगों के लिए सभी देशों से मदद की अपील की है.