मानवीय सहायता

टिड्डियों के झुंड से फ़सलों को भारी नुक़सान, खाद्य सुरक्षा को ख़तरा

पूर्वी अफ़्रीका के देशों में लाखों-करोड़ों टिड्डियों के झुंड ने फ़सलों को भारी नुक़सान पहुंचाया है जिससे क्षेत्र में खाद्य सुरक्षा को ख़तरा पैदा हो गया है. संयुक्त राष्ट्र ने सोमवार को एक चेतावनी जारी करते हुए कहा कि टिड्डियों के क़हर से निपटने के लिए असरदार कार्रवाई करने का समय निकला जा रहा है और समय पर असरदार कार्रवाई नहीं की गई तो एक बड़ा मानवीय संकट पैदा हो सकता है.

सीरिया: रोकना होगा जानमाल का नुक़सान और विशाल विस्थापन

सीरिया के लिए संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत गियर पीडरसैन ने कहा है कि सीरिया के पश्चिमोत्तर इलाक़े – इदलिब में हवाई और ज़मीनी हमलों में आई तेज़ी के कारण विस्थापित होने वाले लोगों की बाढ़ सी आ गई है और जान-माल का भी भारी नुक़सान हुआ है.

शरणार्थी पुनर्वास: अभी कम हैं मददगार हाथ!

दुनिया भर में वैसे तो लगभग 14 लाख शरणार्थी ऐसे हैं जिन्हें पुनर्वास की तुरंत ज़रूरत है मगर केवल 63 हज़ार 696 को ही वर्ष 2019 में संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी के ज़रिए फिर से ज़िन्दगी शुरू करने का मौक़ा मिला. ये शरणार्थियों की कुल संख्या का केवल साढ़े चार प्रतिशत हिस्सा है. कारण है कि दुनिया भर में सरकारों की तरफ़ से इन शरणार्थियों को पुनर्वास की समुचित पेशकश नहीं हो रही है.

सीरिया: इदलिब में भड़की ताज़ा लड़ाई पर 'गहरी चिन्ता'

संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने सीरिया के पश्चिमोत्तर इलाक़े में युद्ध गतिविधियों में आई तेज़ी पर गहरी चिन्ता जताते हुए तमाम सैन्य गतिविधियां तुरंत रोके जाने की पुकार लगाई है.

यमन: युद्ध में तेज़ी को रोकना होगा, इससे पहले कि बहुत देर हो जाए

यमन के लिए संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने मंगलवार को सुरक्षा परिषद के एक आपात सत्र में कहा कि देश में सरकार समर्थक सेनाओं और विद्रोहियों समर्थित लड़ाकों के बीच हिंसा में हाल के समय में आई तेज़ी को रोकना होगा, इससे पहले कि बहुत देर हो जाए. दोनों पक्षों के बीच बीते कुछ सप्ताहों के दौरान कुछ शांति बनी हुई थी.

यूएन प्रमुख ने तुर्की में आए भूकंप पर शोक जताया

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने तुर्की में भूकंप से जान-माल की हानि पर गहरा शोक प्रकट किया है. शुक्रवार रात रिक्टर पैमाने पर 6.8 की तीव्रता वाले भूकंप से तुर्की का पूर्वी हिस्सा दहल गया जिसमें कम से कम 29 लोगों की मौत हुई है और डेढ़ हज़ार से ज़्यादा लोग घायल हुए हैं. 
 

सीरिया: हिंसा में फंसी महिलाओं की स्वास्थ्य ज़रूरतों पर संकट

पूर्वोत्तर सीरिया के हिंसा प्रभावित इलाक़ों से आम नागरिकों का विस्थापन जारी रहने के  कारण महिलाओं व लड़कियों के लिए सुरक्षित माहौल, शरण और प्रजनन स्वास्थ्य सुविधाओं की तत्काल ज़रूरतें पैदा हो गई हैं. संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष (UNFPA) के इस सप्ताह की नवीनतम जानकारी में यह स्थिति सामने आई है.

लीबिया: जनता की भलाई व स्थिरता की ख़ातिर, राजनैतिक हल ज़रूरी

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि लीबिया में अनेक वर्षों से जारी संघर्ष के कारण मानवीय स्थिति ख़तरनाक हो गई है, लाखों आम लोगों को भारी तकलीफ़ों का सामना करना पड़ रहा है और वहाँ संघर्ष और भीषण होने के साथ-साथ तबाही भी बढ़ती जा रही है. 

हेती: भूकंप के प्रभावितों की याद, भविष्य संवारने में मदद का वादा भी

हेती में जनवरी 2010 में आए विनाशकारी भूकंप में लगभग दो लाख 20 लोगों की मौत हो गई थी और तीन लाख से ज़्यादा घायल हुए थे. मृतकों में संयुक्त राष्ट्र के 102 कर्मचारी भी थे.  केवल 35 सेकंड तक चले 7.0 की तीव्रता वाले उस भूकंप के बाद लगभग 15 लाख लोग बेघर भी हो गए थे. भूकंप के दस वर्ष पूरे होने के अवसर पर प्रभावितों को यूएन मुख्यालय में शुक्रवार को आयोजित एक विशेष कार्यक्रम में सम्मान के साथ याद किया गया.

'माली में शांति समझौता लागू करना ही स्थिरता का एक मात्र रास्ता'

संयुक्त राष्ट्र शांतिरक्षा विभाग के प्रमुख ज्याँ पियर लैक्रोइ ने बुधवार को सुरक्षा परिषद को बताया कि माली में 2015 के शांति समझौते को लागू करना ही देश में स्थिरता स्थापित करने का एक मात्र प्रशस्त करता है. ज्याँ पियर लैक्रोइ ने पश्चिम अफ्रीकी देश माली में ताज़ा स्थिति के बारे में सुरक्षा परिषद को अवगत कराया.