मानवीय सहायता

2020 में सहायता के ज़रूरतमंदों की होगी रिकॉर्ड संख्या

संयुक्त राष्ट्र की आपदा राहत एजेंसी के प्रमुख ने कहा है कि वर्ष 2020 में दुनिया भर में लगभग 16 करोड़ 80 लाख लोगों को मदद की ज़रूरत होगी और ये लोग 50 से भी अधिक देशों में मौजूद होंगे. एजेंसी के प्रमुख मार्क लोकॉक ने इतनी बड़ी संख्या में लोगों की मदद ज़रूरतों को पूरा करने के लिए 29 अरब डॉलर की मानवीय सहायता रक़म जुटाने का आहवान किया है.

इराक़: प्रदर्शनों व अशांति में नज़र राष्ट्रीय एकता की नई लहर

इराक़ में दशकों से चली आ रहे सांप्रदायिक प्रतिरोध और संघर्ष के हालात के बाद अब देशभक्ति या राष्ट्रीयता की नई भावना जड़ जमाती नज़र आ रही है, ये कहना है इराक़ में संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत जिनीन हैनिस प्लासकार्ट का जिन्होंने मंगलवार को सुरक्षा परिषद को ताज़ा हालात की जानकारी देते हुए ये बात कही. 

पूर्वी यूक्रेन में बच्चों की सुरक्षा के लिए राजनैतिक समाधान की दरकार

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष - यूनीसेफ़ ने कहा है कि यूक्रेन के पूर्वी इलाक़े में लगभग 5 लाख बच्चे अपने शारीरिक व मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य के लिए लगातार गंभीर ख़तरों का सामना कर रहे हैं. 

जलवायु संकट: "गर्त में खड़े रहकर खुदाई रोकनी होगी, नहीं तो..."

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने ज़ोर देकर कहा है कि विश्व स्तर पर मौजूद जलवायु संकट का मुक़ाबला करने के लिए दुनिया को ज़्यादा जवाबदेही, ज़िम्मेदारी और प्रभावशाली नेतृत्व की ज़रूरत है. इसके लिए उन्होंने सोमवार को मैड्रिड में शुरू हो रहे जलवायु सम्मेलन कॉप-25 में तमाम देशों से और ज़्यादा महत्वाकांक्षाएँ व संकल्पों का भी आहवान किया है.

कॉंगो में हिंसा में फंसे आम लोगों की सुरक्षा के लिए चिंता

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी (UNHCR) और उसके साझेदार संगठनों ने कॉंगो लोकतांत्रिक गणराज्य (डीआरसी) में लाखों आम नागरिकों की सुरक्षा को लेकर गहरी चिंता जताई है. देश के पूर्वी हिस्से के बेनी क्षेत्र में घातक हिंसा और व्यापक प्रदर्शनों से हालात बिगड़ गए हैं और प्रभावित इलाक़ों में मानवीय सहायता पहुंचाना मुश्किल हो गया है.

यमन में राजनैतिक समाधान के लिए उम्मीदें नज़र आईं

यमन में जारी संकट का राजनैतिक समाधान निकालने के लिए प्रयासों ने गति पकड़ी है और संघर्षरत पक्षों के बीच अनेक मुद्दों पर समझौते होने के आसार नज़र आ रहे हैं. यमन के लिए संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने शुक्रवार को सुरक्षा परिषद को ताज़ा हालात की जानकारी देते हुए ये बात कही है. 

लाखों अफगान ‘गंभीर खाद्य असुरक्षा’ से पीड़ित - एक तिहाई को तत्काल मानवीय सहायता की ज़रूरत

सोमवार को जारी नवीनतम एकीकृत खाद्य सुरक्षा चरण वर्गीकरण (IPC) अलर्ट के अनुसार, अफगानिस्तान में 1 करोड़ 2 लाख 30 हज़ार लोग "गंभीर खाद्य असुरक्षा" की स्थिति में रह रहे हैं और पिछले तीन महीनों में (अगस्त से अक्टूबर 2019) एक तिहाई अफगान आबादी को तत्काल मानवीय सहायता की ज़रूरत थी. 

ऑस्ट्रेलिया में 'विनाशकारी' दावानल: सतर्कता बरतने की चेतावनी

ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में भीषण आग जारी रहने से भारी तबाही की आशंका व्यक्त की गई है. संयुक्त राष्ट्र के मौसम विज्ञान विशेषज्ञों ने ऑस्ट्रेलियाई सरकार की चेतावनी को दोहराते हुए लोगों को सचेत किया है कि तेज़ी से फैलते ख़तरे और विस्फोटक स्थिति में हर हाल में सतर्कता बरती जानी चाहिए.

लीबिया में अब भी मानवाधिकार उल्लंघन, हिंसा और अत्याचारों का सिलसिला जारी

अंतरराष्ट्रीय आपराधिक न्यायालय ने सुरक्षा परिषद को बताया है कि लीबिया में क़रीब एक दशक पहले जब से न्यायालय ने काम शुरू किया है तब से अभी तक हिंसा के दौर, अत्याचार और क़ानून की बेपरवाही का माहौल ज्यों का त्यों बना हुआ है. अंतरराष्ट्रीय आपराधिक न्यायालय की मुख्य अभियोजक फ़तू बेनसूदा ने बुधवार को अपनी वार्षिक रिपोर्ट सुरक्षा परिषद में पेश करते हुए कहा कि “लीबिया में हिंसा में बढ़ोत्तरी हुई है.”

पूर्वोत्तर सीरिया में हिंसा के बीच डेढ़ लाख से ज़्यादा विस्थापन को मजबूर

संयुक्त राष्ट्र के मानवीय राहत कार्यालय (UNOCHA) ने कहा है कि पूर्वोत्तर सीरिया में लगभग दो हफ़्तों से चली आ रही हिंसा के कारण अब तक एक लाख 80 हज़ार से ज़्यादा लोग अपने घरों और शरणगाहों को छोड़ने पर मजबूर हुए हैं. इनमें 80 हज़ार से ज़्यादा बच्चे भी हैं और सभी विस्थापितों को तत्काल मानवीय सहायता की आवश्यकता है.