मानवाधिकार

ब्राज़ील: लापता पत्रकार और कार्यकर्ता की तलाश बढ़ाने का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार कार्यालय ने शुक्रवार को ब्राज़ील सरकार से, एक ब्रितानी पत्रकार और एक आदिवासी अधिकार कार्यकर्ता को ढूंढने के लिये प्रयास तेज़ करने का आग्रह किया है, जो लगभग एक सप्ताह पहले, अमेज़ॉन के एक दूरदराज़ वाले ख़तरनाक इलाक़े में लापता हो गए थे.

यूक्रेन में तीन विदेशी लड़ाकों को मौत की सज़ा सुनाए जाने की निन्दा

संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय ने यूक्रेन में तीन विदेशी लड़ाकों को, स्वयं घोषित दोनेत्सक लोक गणराज्य की एक अदालत द्वारा मौत की सज़ा सुनाए जाने की निन्दा की है. 

म्याँमार: सैन्य नेतृत्व की ‘डिजिटल तानाशाही’ की निन्दा

संयुक्त राष्ट्र के स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने म्याँमार में सैन्य नेतृत्व द्वारा ‘डिजिटल तानाशाही’ स्थापित किये जाने की निन्दा करते हुए सदस्य देशों से आग्रह किया है कि देश को ‘डिजिटल काले अध्याय’ में ले जाने की इन कोशिशों पर तुरन्त लगाम लगाई जानी होगी. 

यूक्रेन: यौन हिंसा के ‘बढ़ते मामलों’ और तस्करी के जोखिम पर सुरक्षा परिषद में चिन्ता 

सशस्त्र हिंसक संघर्ष में यौन हिंसा के मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र महासचिव की विशेष प्रतिनिधि प्रमिला पैटन ने, सोमवार को सुरक्षा परिषद में सदस्य देशों को आगाह किया है कि यूक्रेन में रूसी सैन्य बलों द्वारा यौन हिंसा किये जाने के आरोप बढ़ते जा रहे हैं. उन्होंने खेद प्रकट करते हुए कहा कि पीड़ादाई वास्तविकता और युद्ध के औज़ार के रूप में बलात्कार का इस्तेमाल रोके जाने की वैश्विक समुदाय की आकांक्षा में एक बड़ी खाई है.  

इसराइल से एक बैदुइन गाँव की बेदख़ली और विध्वंस को रोकने की पुकार

संयुक्त राष्ट्र की मानवाधिकार परिषद द्वारा नियुक्त दो स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने शुक्रवार को कहा है कि इसराइल को फ़लस्तीन के नक़ाब रेगिस्तानी इलाक़े में यहूदी-मात्र बस्तियाँ बसाने के लिये, एक बैदुइन गाँव को ध्वस्त करने की योजनाओं पर लगाम लगानी होगी, क्योंकि इस गाँव के ध्वस्त होने से सैकड़ों स्थानीय निवासी विस्थापित हो जाएंगे.

WHO: तम्बाकू उद्योग को पर्यावरणीय नुक़सान के लिये जवाबदेह ठहराने की दरकार

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने मंगलवार को कहा है कि तम्बाकू उद्योग, पर्यावरण व मानव स्वास्थ्य दोनों को बर्बाद करता है, और तम्बाकू उद्योग को इसके द्वारा की जा रही तबाही के लिये, और ज़्यादा जवाबदेह ठहराए जाने की ज़रूरत है.

पर्यावरण के लिये ज़्यादा कार्रवाई हो, वरना पृथ्वी के 'मानव बलिदान का क्षेत्र' बन जाने का जोखिम

मानवाधिकार विशेषज्ञों का कहना है कि वातावरण को एक प्रमुख मुद्दा बनाने के लिये, विश्व का पहला सम्मेलन, पाँच दशक पहले स्वीडन में हुआ था, तब से ये समझ बढ़ी है कि अगर इनसानों ने पृथ्वी की देखभाल करने में कोताही बरती, तो ये ग्रह मानव बलिदान का क्षेत्र बनकर रह जाएगा. पृथ्वी की रक्षा के लिये आगे की कार्रवाई पपर चर्चा करने के लिये, इस सप्ताह स्टॉकहोम में ताज़ा विचार-विमर्श शुरू होने वाला है, उस सन्दर्भ में सोमवार को, विशेषज्ञों ने आगाह किया है कि ऐसे कहीं ज़्यादा विशाल प्रयासों की आवश्यकता है जिनके ज़रिये हर साल लाखों ज़िन्दगियाँ बचाई जा सकें.

यूएन मानवाधिकार प्रमुख की चीन यात्रा, बेहतर सम्बन्धों के वादे के साथ सम्पन्न

संयुक्त राष्ट्र की मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बाशेलेट ने चीन की अपनी आधिकारिक यात्रा के समापन पर, उनके कार्यालय और चीन सरकार के बीच मानवाधिकार मुद्दों पर सम्पर्क क़ायम करने के नए क्षेत्रों की घोषणा की है. उन्होंने छह दिन के इस यात्रा मिशन के दौरान उठाए गए विभिन्न मानवाधिकार मुद्दों के बारे में निष्कर्ष भी जारी किये हैं.

मध्य पूर्व:संघर्ष का टिकाऊ समाधान निकालने पर काम करने की पुकार

मध्य पूर्व शान्ति प्रक्रिया के लिये संयुक्त राष्ट्र के विशेष संयोजक टोर वैनेसलैण्ड ने सुरक्षा परिषद में कहा है कि इसराइलियों और फ़लस्तीनियों को अपने बीच संघर्ष का केवल प्रबन्धन करने के दायरे से बाहर निकलकर, संघर्ष को हल करने की दिशा में आगे बढ़ना होगा.

अफ़ग़ान प्रशासन से गम्भीर मानवाधिकार चुनौतियों से निपटने का आग्रह

अफ़ग़ानिस्तान में मानवाधिकारों की स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र के स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञ रिचर्ड बैनेट ने देश में मानवाधिकारों के लिये उत्पन्न गम्भीर चुनौतियों और आर्थिक व मानवीय संकट पर चिन्ता व्यक्त की है. उन्होंने तालेबान प्रशासन से कथनी और करनी के बीच की दूरी ख़त्म करके, एक ऐसा रास्ता अपनाने का आग्रह किया है जिससे महिलाओं व लड़कियों समेत सभी अफ़ग़ान नागरिकों के लिये स्थिरता व स्वतंत्रता सुनिश्चित की जा सके.