मानवाधिकार

योरोपीय सीमाओं पर हिंसा विराम व शरणार्थी सुरक्षा की अपील

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी (UNHCR) के उच्चायुक्त फिलिपो ग्रैण्डी ने योरोप में शरणार्थियों और पनाह मांगने वालों को और ज़्यादा सुरक्षा मुहैया कराने का आग्रह किया है.

यूक्रेन: संघर्ष के कारण बच्चों की एक पूरी पीढ़ी प्रभावित, यूनीसेफ़

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष – यूनीसेफ़ ने शुक्रवार को कहा है कि यूक्रेन के पूर्वी इलाक़े में पिछले आठ वर्षों के दौरान शिशु केन्द्रों और स्कूलों पर हमले होना एक दुखद वास्तविकता है. मौजूदा संघर्ष शुरू होने के बाद से, अभी तक 750 से ज़्यादा स्कूल क्षतिग्रस्त हुए हैं.

दक्षिण सूडान में, 2020 के दौरान हिंसा के मामलों में 42 प्रतिशत की कमी

दक्षिण सूडान में संयुक्त राष्ट्र मिशन - उनमिस (UNMISS) की एक ताज़ा रिपोर्ट में कहा गया है कि देश वर्ष 2020 की तुलना में, साल 2021 में आम लोगों के ख़िलाफ हुई हिंसक घटनाओं में 42 प्रतिशत की कमी दर्ज की गई है.

'मैडागास्कर में बाल यौन शोषण व्यापक व आम भी'

संयुक्त राष्ट्र के स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने गुरूवार को कहा है कि मैडागास्कर में पर्यटन स्थलों में, बाल यौन शोषण बहुत फैला हुआ है और इसे सहन भी किया जाता है. उन्होंने मैडागास्कर सरकार से बच्चों व युवाओं को यौन शोषण, बाल वेश्यावृत्ति व अन्य तरह के बाल अधिकार हनन से बचाने के लिये ठोस कार्रवाई किये जाने का आहवान किया है.

विकलांगजन के समक्ष मौजूद अवरोधों को दूर करने की पुकार

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने विकलांगजन के अधिकारों को बढ़ावा देने के मुद्दे पर एक बैठक को सम्बोधित करते हुए ध्यान दिलाया है कि विकलांगजन अक्सर समाज के सर्वाधिक निर्धन और वंचित समुदायों में होते हैं. यूएन प्रमुख ने विश्व के हर कोने और जीवन के हर पहलू में विकलांगजन के अधिकारों को बढ़ावा दिये जाने के लिये निवेश की पुकार लगाई है.

आस्थाओं के बीच पुल निर्माण का आहवान

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने शुक्रवार, 4 फ़रवरी, को ‘अन्तरराष्ट्रीय मानव बन्धुत्व दिवस’ पर, नफ़रत भरे सन्देशों व भाषणों, असहिष्णुता, भेदभाव व शारीरिक हिंसा के बढ़ते मामलों पर एक चेतावनी जारी की है.

अफ़ग़ानिस्तान: लापता मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के हालात पर चिन्ता

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय (OHCHR) ने अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल में, हाल ही में, महिलाधिकारों के सम्बन्ध में हुए प्रदर्शनों के सिलसिले में अगवा किये गए छह लोगों की अभी तक गुमशुदगी के बारे में गम्भीर चिन्ता व्यक्त की है.

म्याँमार: संकट का एक साल, समाधान अवसरों का लाभ उठाने पर बल

म्याँमार के लिये संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नोएलीन हेज़र ने कहा है कि देश में सैन्य तख़्तापलट के एक वर्ष बाद हिंसा व क्रूरता गहन हुई हैं, मगर संकट के समाधान के लिये अवसर अब भी मौजूद हैं और अन्तरराष्ट्रीय समुदाय को उनका लाभ उठाना होगा. 

म्याँमार: आम लोगों की आवाज़ सर्वोपरि, यूएन प्रमुख का आग्रह 

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने म्याँमार में सैन्य तख़्तापलट का एक वर्ष पूरे होने के मौक़े पर, आम लोगों के साथ एकजुटता व्यक्त की है, और देश के समावेशी व लोकतांत्रिक समाज की दिशा में लौटने के लिये क़दम बढ़ाने का आहवान किया है. म्याँमार में सैन्य नेतृत्व ने लोकतांत्रिक रूप से चुनी गई आंग सान सू ची सरकार को, एक फ़रवरी 2021 को बेदख़ल कर दिया था, जिसके बाद से देश राजनैतिक संकट से जूझ रहा है. 

‘कुष्ठ रोग के प्रभावितों के विरुद्ध भेदभावपूर्ण क़ानून तुरन्त ख़त्म हों’

संयुक्त राष्ट्र की एक स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञ ऐलिस क्रूज़ ने कहा है कि दुनिया भर में 100 से भी ज़्यादा ऐसे क़ानून लागू हैं जो कुष्ठ रोग से प्रभावित लोगों के विरुद्ध भेदभाव करते हैं और उन क़ानूनों को तात्कालिक ज़रूरत के साथ ख़त्म किया जाना चाहिये.