मानवाधिकार

'अनचाहे गर्भ मामलों की चौंकाने वाली संख्या, विश्व की नाकामी'

संयुक्त राष्ट्र की यौन व प्रजनन स्वास्थ्य एजेंसी – UNFPA की बुधवार को प्रकाशित एक रिपोर्ट में कहा गया है कि दुनिया भर में हर साल जितने गर्भ ठहरते हैं, उनमें से लगभग आधे यानि क़रीब 12 करोड़ 10 लाख गर्भ अनचाहे होते हैं.

अफ़ग़ानिस्तान: लड़कियों की पढ़ाई पर रोक चिन्ताजनक, ‘शिक्षा के अधिकार का सम्मान हो’

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने रविवार रात जारी अपने एक प्रैस वक्तव्य में अफ़ग़ानिस्तान में कक्षा छह से ऊपर की पढ़ाई कर रही लड़कियों के लिये शिक्षा को नकारे जाने पर गहरी चिन्ता व्यक्त करते हुए, तालेबान से शिक्षा के अधिकार का सम्मान किये जाने का आग्रह किया है. 

पार-अटलाण्टिक दास व्यापार, इतिहास का ‘काला अध्याय’

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने शुक्रवार, 25 मार्च को, ‘दासता एवं पार-अटलाण्टिक दास व्यापार के पीड़ितों के स्मरण के लिये अन्तरराष्ट्रीय दिवस’ नस्लवाद के विरुद्ध एकजुट होकर खड़े होने और गरिमा व समानता के आधार पर समाज निर्माण का आहवान किया है. यूएन प्रमुख ने पार-अटलाण्टिक दास व्यापार को इतिहास का एक बहुत काला अध्याय क़रार देते हुए मानवता के विरुद्ध एक स्पष्ट अपराध बताया है. 

प्रसव के दौरान बुरा बर्ताव, 'स्वास्थ्य देखभाल व मानवाधिकार समस्या'

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और मानव प्रजनन कार्यक्रम (HRP) का एक नया अध्ययन दर्शाता है कि विश्व भर में महिलाओं को प्रसव के दौरान बुरे बर्ताव का सामना करना पड़ता है, जोकि अस्वीकार्य है.

अफ़ग़ानिस्तान: हाईस्कूल छात्राओं की स्कूल वापसी पर पाबन्दी, यूएन ने जताई गहरी निराशा

मानवाधिकार मामलों के लिये संयुक्त राष्ट्र उच्चायुक्त (OHCHR) मिशेल बाशेलेट ने अफ़ग़ानिस्तान में हाई स्कूल की छात्राओं की स्कूल वापसी के मुद्दे पर तालेबान द्वारा लिये गए यू-टर्न पर गहरी हताशा व निराशा व्यक्त की है. अफ़ग़ानिस्तान की सत्ता पर पिछले वर्ष तालेबान का वर्चस्व स्थापित होने के छह महीने बाद भी, लड़कियों की माध्यमिक स्कूलों में अभी वापसी नहीं हो पाई है.   

'महिलाओं और लड़कियों को, हिंसा मुक्त, सुरक्षित, गरिमापूर्ण, स्वतंत्र जीवन का अधिकार'

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने लैंगिक भेदभाव पर आधारित हिंसा का उन्मूलन करने में लड़कों व पुरुषों की महत्वपूर्ण भूमिका की ज़रूरत विषय पर मंगलवार को आयोजित एक कार्यक्रम में कहा है कि महिलाओं व लड़कियों के ख़िलाफ़ हिंसा शायद, “सबसे दीर्घकालीन और घातक महामारी” है.

दक्षिण सूडान: महिलाओं व लड़कियों के लिये ‘नारकीय माहौल’, एक यूएन रिपोर्ट

दक्षिण सूडान में संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार आयोग की एक ताज़ा रिपोर्ट में कहा गया है कि युद्धक गतिविधियों के दौरान महिलाओं व लड़कियों के ख़िलाफ़ व्यापक पैमाने पर हो रही यौन हिंसा को व्यवस्थागत लापरवाही और दण्डमुक्ति के माहौल से और बढ़ावा मिल रहा है.

नस्लभेद व नफ़रत के ख़िलाफ़ एक सुर में बोलना होगा, एंतोनियो गुटेरेश

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने शुक्रवार को कहा है कि दुनिया भर के तमाम समाजों में आज भी नस्लभेद ने, संस्थानों, सामाजिक ढाँचों और हर एक इनसान की दैनिक ज़िन्दगी में ज़हर घोल रखा है. उन्होंने नफ़रत को सामान्य बनाने, गरिमा का हनन किये जाने और हिंसा को भड़कावा देने के चलन के ख़िलाफ़ आयोजित एक विशेष सम्मेलन में ये बात कही.

ब्रिटेन के राष्ट्रीयता व सीमाएँ विधेयक के 'चिन्ताजनक' प्रस्तावों में बदलाव का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र की मानवाधिकार प्रमुख मिशेल बाशेलेट ने, ब्रिटेन से उसकी सीमा नीति में प्रस्तावित बदलावों पर फिर से विचार करने का आग्रह किया है. उन्होंने साथ ही आगाह करते हुए ये भी कहा है कि प्रस्तावित बदलावों से, कमज़ोर हालात वाले लोगों की, देश में अनियमित तरीक़े से आमद को अपराध क़रार दे दिया जाएगा.

लीबिया में ‘समानान्तर सरकारों’ की आशंका के बीच बढ़ता तनाव

संयुक्त राष्ट्र में शान्तिनिर्माण व राजनैतिक मामलों की प्रमुख रोज़मैरी डीकार्लो ने कहा है कि लीबिया में जारी राजनैतिक गतिरोध के बीच, देश के फिर से दो समानान्तर सरकारों में बँट जाने का ख़तरा है. इसके मद्देनज़र, उन्होंने सचेत किया है कि 28 लाख पंजीकृत मतदाताओं की चुनावी आकांक्षाएँ साकार किये जाने और कड़ी मेहनत से दर्ज की गई प्रगति को बरक़रार रखने को प्राथमिकता बनाना होगा.