मानवाधिकार

'मैं अपनी आपबीती बताना कभी बन्द नहीं करूंगी'

फ़ैशन की दुनिया में सवाल "आपने क्या पहना था?" सशक्तिकरण का प्रतीक होता है, रचनात्मकता का जश्न मनाता हुआ प्रतीत होता है और व्यक्ति की सामाजिक हैसियत दर्शाता है. लेकिन यौन हिंसा से बचे लोगों के लिये, यह सवाल, एक परम्परागत दोष मढ़ने की रणनीति बन जाता है. यौन हिंसा के इर्द-गिर्द सवालों और मुद्दों पर रौशनी डालती एक प्रदर्शनी पर वीडियो फ़ीचर...

नेलसन मण्डेला: 'नैतिकता के विशाल उदाहरण व सन्दर्भ'

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने दक्षिण अफ़्रीका में रंगभेद की नीति समाप्त होने के बाद के देश के प्रथम काले राष्ट्रपति बने और नस्लवादी न्याय के प्रतीक नेलसन मण्डेला को उनकी याद में अन्तरराष्ट्रीय दिवस के अवसर पर अपने सन्देश में, "हमारे समय की एक विशाल हस्ती" बताते हुए कहा कि वो आज भी हमारे लिये " नैतिकता का उदाहरण व सन्दर्भ" बने हुए हैं.

एक बेहतर दुनिया के लिये नेलसन मण्डेला की जंग का जश्न

संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों ने सोमवार को यूएन मुख्यालय स्थिति सभागार में एकत्र होकर, नेलसन मण्डेला दिवस मनाया. ये समारोह हर किसी को अपने समुदायों में बदलाव लाने के लिये प्रेरित करने और कार्रवाई करने का एक मौक़ा है.

‘समुदायों के उद्धारक और पीढ़ियों के संरक्षक’ नेलसन मण्डेला को अभिवादन

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने दक्षिण अफ़्रीका में रंगभेद की नीति समाप्त होने के बाद के देश के प्रथम काले राष्ट्रपति बने और नस्लवादी न्याय के प्रतीक नेलसन मण्डेला को उनकी याद में अन्तरराष्ट्रीय दिवस के अवसर पर अपने सन्देश में, "हमारे समय की एक विशाल हस्ती" बताते हुए कहा कि वो आज भी हमारे लिये " नैतिकता का उदाहरण व सन्दर्भ" बने हुए हैं.

श्रीलंका में गम्भीर संकट टालने के लिये रोकथाम उपायों पर बल

श्रीलंका में संयुक्त राष्ट्र की रैज़िडेण्ट कोऑर्डिनेटर हैना सिंगर-हामदी ने श्रीलंका में मौजूदा घटनाक्रम व नाज़ुक परिस्थितियों पर चिन्ता जताते हुए कहा है कि मानवीय संकट की रोकथाम के लिये तुरन्त कारगर प्रयास किये जाने होंगे. यूएन न्यूज़ हिन्दी के साथ एक विशेष बातचीत...

मीडिया कर्मियों की स्वतंत्रता के लिये दिनोंदिन बढ़ते जोखिम, यूएन प्रमुख

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने मंगलवार, 3 मई, को ‘विश्व प्रैस स्वतंत्रता दिवस’ के अवसर पर जारी अपने सन्देश में पत्रकारों और मीडिया कर्मियों की आज़ादी पर बढ़ते ख़तरों के प्रति आगाह किया है. यूएन प्रमुख ने कहा है कि वैश्विक स्वास्थ्य से लेकर जलवायु संकट, भ्रष्टाचार और मानवाधिकारों के हनन तक, पत्रकारों को अपने काम के बढ़ते राजनीतिकरण व विभिन्न पक्षों की तरफ़ से ख़ामोश कराने के प्रयासों का सामना करना पड़ रहा है.

जनसंहार शब्द अन्तरराष्ट्रीय क़ानून का हिस्सा किस तरह बना

संयुक्त राष्ट्र ने ‘जनसंहार की रोकथाम पर सन्धि’ को वर्ष 1948 में पारित किया था. सन्धि की ऐतिहासिक बुनियाद, इसके प्रावधान और हाल के दशकों में जनसंहारों को रोक पाने में मिली विफलता, विश्व के समक्ष मौजूदा चुनौतियों को रेखांकित करते हैं. बढ़ते जोखिमों की पृष्ठभूमि में, जनसंहार की रोकथाम पर यूएन के विशेष सलाहकार ऐडामा डिएन्ग ने, सर्वजन से इस अपराध के विरुद्ध खड़े होने का आहवान किया है. एक वीडियो रिपोर्ट...

डॉक्टर हंसा मेहता स्मृति सम्वाद 2022

भारत की प्रसिद्ध महिलाधिकार पैरोकार, शिक्षाविद, समाज सुधारक और लेखिका डॉक्टर हंसा मेहता की स्मृति में, संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में मंगलवार, 15 मार्च को, भारतीय मिशन के सहयोग से, एक स्मृति सम्वाद आयोजित किया गया. एक वीडियो रिपोर्ट...

यूएन मुख्यालय में डॉक्टर हंसा मेहता स्मृति सम्वाद

भारत की प्रसिद्ध महिलाधिकार पैरोकार, शिक्षाविद, समाज सुधारक और लेखिका डॉक्टर हंसा मेहता की स्मृति में, संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में मंगलवार, 15 मार्च को, भारतीय मिशन के सहयोग से, एक स्मृति सम्वाद आयोजित किया गया.

श्रीलंका: मानवाधिकार हनन के मामलों से निपटने के लिये सुधारों की अपील

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बाशेलेट ने श्रीलंका में "लोकतांत्रिक संस्थानों को कमज़ोर करने वाले, अल्पसंख्यकों की परेशानियाँ बढ़ाने वाले, और सुलह में बाधा डालने वाले, सैन्यीकरण एवं जातीय-धार्मिक राष्ट्रवाद की ओर निरन्तर जारी रुझान" को रेखांकित किया है.