मानवाधिकार

लीबिया: राजनैतिक गतिरोध दूर करने के लिये सकारात्मक क़दमों की दरकार

संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत यैन क्यूबिस ने गुरूवार को सुरक्षा परिषद में चेतावनी भरे शब्दों में कहा कि लीबिया में युद्धविराम समझौते को लागू करने वाले – एक दूसरे पर निर्भर रास्ते और राजनैतिक प्रगति और आर्थिक सुधार, पीछे की ओर मुड़ जाने के जोखिम का सामना कर रहे हैं.

'स्टैन स्वामी की हिरासत में मौत, भारत के मानवाधिकार रिकॉर्ड पर एक धब्बा'

संयुक्त राष्ट्र की एक मानवाधिकार विशेषज्ञ मैरी लॉलॉर ने बृहस्पतिवार को कहा है कि भारत में एक मानवाधिकार पैरोकार फ़ादर स्टैन स्वामी की मृत्यु सरकारी हिरासत में होना, देश के मानवाधिकार रिकॉर्ड पर हमेशा के लिये एक धब्बा रहेगा.

म्याँमार में बदतर हुए हालात, अन्तरराष्ट्रीय समुदाय से सहायता का आग्रह

म्याँमार के लिये स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञ टॉम एण्ड्रयूज़ ने आगाह किया है कि कोविड-19 के डेल्टा वेरिएंट के तेज़ फैलाव, संक्रमण मामलों में उछाल और बदहाल स्वास्थ्य प्रणाली के बीच म्याँमार में संकट, और ज़्यादा गहरा हो रहा है.

टीगरे में मानवीय सहायता क़ाफ़िले निर्बाध व जल्द पहुँचने देने की अपील

संयुक्त राष्ट्र के मानवीय सहायता कर्मियों ने इथियोपिया के युद्धग्रस्त क्षेत्र टीगरे में मानवीय  सहायता सामग्री जल्द से जल्द पहुँचाने के लिये बाधा रहित पहुँच आसान बनाने की अपील की है. संयुक्त राष्ट्र की मानवीय सहायता एजेंसियों द्वारा भेजे गए ट्रक कई दिनों की यात्रा के बाद हाल ही में टीगरे की राजधानी मेकेल्ले पहुँचे पाए हैं और उन्हें रास्ते में अनेक स्थानों पर तलाशी व जाँच-पड़ताल का सामना करना पड़ा जिससे बहुत देर हुई.

फ़लस्तीनी इलाक़ों में इसराइली यहूदी बस्तियों को युद्धापराध क़रार देने का आहवान

इसराइल द्वारा 1967 से क़ब्ज़ा किये हुए फ़लस्तीनी क्षेत्रों में मानवाधिकार स्थिति के लिये संयुक्त राष्ट्र के विशेष रैपोर्टेयर माइकल लिन्क ने अन्तरराष्ट्रीय समुदाय से, फ़लस्तीनी इलाक़ों में बसाई जा रही इसराइली यहूदी बस्तियों को, अन्तरारष्ट्रीय आपराधिक न्यायालय की रोम संविधि के तहत युद्धापराध क़रार देने की पुकार लगाई है.

यूनीसेफ़: पश्चिम व मध्य अफ्रीका में बच्चों पर हमले व उनका अपरहरण रोके जाने की पुकार

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष – यूनीसेफ़ की अध्यक्षा हैनरिएटा फ़ोर ने कहा है कि पश्चिम और मध्य अफ्रीका क्षेत्र के कुछ इलाक़ों में बच्चों पर होने वाले हमलों और छात्रों सहित बच्चों का अपहरण किये जाने जैसी चिन्ताजनक गतिविधियाँ रोकने के लिये तत्काल कार्रवाई करने की ज़रूरत है. 

म्याँमार: 'राजनैतिक संकट ने ले लिया है बहुकोणीय मानवाधिकार आपदा का रूप'

संयुक्त राष्ट्र की मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशाल बाशेलेट ने मंगलवार को चेतावनी भरे शब्दों में कहा है कि म्याँमार में फ़रवरी 2021 में सेना द्वारा सत्ता का तख़्तापलट करने के साथ जो दौर शुरू हुआ था उसने आम आबादी के ख़िलाफ़ चौतरफ़ा हमलों का रूप ले लिया है जिसका दायरा लगातार बढ़ता गया है और जो व्यवस्थित ढंग से हो रहा है.

भारत: स्टैन स्वामी के निधन पर यूएन मानवाधिकार कार्यालय ने जताया दुख और व्यथा

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय ने भारत में एक 84 वर्षीय मानवाधिकार कार्यकर्ता फ़ादर स्टैन स्वामी के निधन पर बहुत दुख व्यक्त करते हुए कहा है कि वो इस निधन पर व्यथित भी है. स्टैन स्वामी का भारत के वाणिज्यिक शहर मुम्बई में सोमवार को निधन हो गया था.

बेलारूस: व्यापक मानवाधिकार हनन के बीच, सिविल सोसायटी पर 'चौतरफ़ा हमला'

बेलारूस में मानवाधिकारों की स्थिति की निगरानी के लिये नियुक्त स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञ अनाइस मरीन ने सोमवार को कहा है कि देश में बीते वर्ष मानवाधिकार स्थिति का अभूतपूर्व संकट देखा गया है. उन्होंने साथ ही, देश में प्रशासन व अधिकारियों से दमन की नीति तुरन्त रोकने और देश के लोगों की वाजिब और जायज़ आकांक्षाओं का पूर्ण सम्मान करने का आहवान किया है.

इण्टरनेट व मोबाइल फ़ोन पर पाबन्दियों के बढ़ते चलन से अधिकारों के लिये गम्भीर ख़तरा

संयुक्त राष्ट्र के एक शीर्ष स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञ ने कहा है कि दुनिया भर में अनेक स्थानों पर असहमति को दबाने के लिये इंटरनेट और मोबाइल फ़ोन सेवाएँ बन्द कर देने का चलन बहुत बढ़ गया है और बहुत से देशों में ये बहुत जटिल भी हो गया है क्योंकि सरकारें सत्ता अपने हाथों में रखना चाहती हैं.