मानवाधिकार

म्याँमार: ताज़ा झड़पों के कारण हज़ारों लोग विस्थापित

संयुक्त राष्ट्र के मानवीय सहायता मामलों के कार्यालय (OCHA) ने कहा है कि म्याँमार में सुरक्षा बलों और क्षेत्रीय सशस्त्र गुटों के बीच ताज़ा लड़ाई के कारण, देश भर में, हज़ारों लोगों को विस्थापित होना पड़ा है.

नेपाल: नई नियुक्तियों से मानवाधिकार आयोग की स्वतन्त्रता पर असर, यूएन विशेषज्ञ

संयुक्त राष्ट्र के स्वतन्त्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने नेपाल के राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में हाल ही में नए सदस्यों की नियुक्ति किये जाने पर गम्भीर चिन्ता जताई है. यूएन मानवाधिकार विशेषज्ञों ने मंगलवार को एक वक्तव्य जारी करके कहा कि इन नियुक्तियों से आयोग की स्वतन्त्रता, सत्यनिष्ठा और वैधता कमज़ोर हुई है.

ट्रान्सजैण्डर लोगों के स्वास्थ्य एवं कल्याण की मुहिम

ट्रान्सजैण्डर अधिनियम और नियमों के सफल कार्यान्वयन के लिये एक आम और पारदर्शी तन्त्र की खोज पर, मेडिकल एपिडेमियोलॉजिस्ट, व भारत में यूएनएड्स (UNAIDS) के देश-निदेशक और संगठन की मानवाधिकार कार्रवाई के लिये सम्मान प्राप्त डॉक्टर बिलाली कैमारा का ब्लॉग…

जियॉर्ज फ़्लॉयड हत्या मामले में अदालत के फ़ैसले का स्वागत

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त (OHCHR) मिशेल बाशेलेट ने अमेरिका में जियॉर्ज फ़्लायड हत्या मामले में पूर्व पुलिस अधिकारी डेविड शॉविन को दोषी क़रार दिये जाने के फ़ैसले का स्वागत किया है. यूएन मानवाधिकार कार्यालय प्रमुख ने बुधवार को एक बयान जारी करके कहा कि इस मुक़दमे का कोई अन्य फ़ैसला, न्याय का उपहास रहा होता.

शेख़ा लतीफ़ा के सम्बन्ध में ठोस जानकारी दिये जाने की माँग

संयुक्त राष्ट्र के स्वतन्त्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) से शेख़ा लतीफ़ा मोहम्मद अल मख़तूम के बारे में अर्थपूर्ण जानकारी मुहैया कराए जाने की माँग की है. साथ ही ये भी माँग की गई है कि शेख़ा लतीफ़ा की सुरक्षा व कल्याण के बारे में, बिना देरी के आश्वासन दिये जाएँ. 

यूनीसेफ़ की चेतावनी, फ़िलहाल टीगरे में संकट का कोई अन्त नज़र नहीं आ रहा

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष – यूनीसेफ़ ने मंगलवार को कहा है कि इथियोपिया के टीगरे क्षेत्र में, लगभग छह महीने पहले संघर्ष छिड़ने के बाद, बड़े पैमाने पर आम लोगों का उत्पीड़न किये जाने की, बहुत परेशान करने वाली ख़बरें लगातार आ रही हैं.

म्याँमार: आम जन के साथ एकजुटता और उनकी रक्षा ज़रूरी, यूएन विशेषज्ञ का आग्रह

म्याँमार में मानवाधिकारों की स्थिति पर स्वतन्त्र मानवाधिकार विशेषज्ञ टॉम एण्ड्रयूज़ ने ध्यान दिलाया है कि अन्तरराष्ट्रीय समुदाय का यह दायित्व है कि म्याँमार में, अपने ही देश की सेना द्वारा किये जा रहे हमलों का सामना कर रहे लोगों की रक्षा की जाए. यूएन न्यूज़ के साथ उनकी ख़ास बातचीत का यह दूसरा हिस्सा है, जिसमें विशेष रैपोर्टेयर ने म्याँमार के पड़ोसी देशों से, सुरक्षा की ख़ातिर भाग रहे लोगों को शरण देने का आग्रह किया है.

ब्रिटेन: श्वेत वर्चस्व को सामान्य बताने की कोशिश करने वाली रिपोर्ट की निन्दा

संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार विशेषज्ञों ने ब्रिटेन सरकार द्वारा समर्थित एक रिपोर्ट की यह कहते हुए निन्दा की है कि इसमें ऐतिहासिक तथ्यों को और ज़्यादा झूठ के आवरण में, व तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया है और इससे नस्लवाद व नस्लीय भेदभाव को बढ़ावा मिल सकता है.

म्याँमार: सेना की पूरी कोशिश, 'दुनिया के सामने सच्चाई ना आए'

म्याँमार में मानवाधिकारों की स्थिति पर सयुक्त राष्ट्र के विशेष रैपोर्टेयर टॉम एण्ड्रयूज़ ने यूएन न्यूज़ के साथ एक ख़ास इण्टरव्यू में बताया है कि सैन्य नेतृत्व पूरी कोशिश कर रहा है कि देश से सच को बाहर जाने से रोका जा सके. उनके मुताबिक़ सेना नहीं चाहती है कि म्याँमार में हालात के बारे में, दुनिया को सही जानकारी मिल सके. यूएन विशेषज्ञ ने उन उपायों का इस्तेमाल किये जाने की सिफ़ारिश की है कि जोकि अतीत में सफल साबित हो चुके हैं.  

'शरीर मेरा है, मगर फ़ैसला मेरा नहीं' महिला सशक्तिकरण पर यूएन रिपोर्ट

संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि 57 विकासशील देशों की लगभग आधी महिलाओं को गर्भनिरोधक का उपयोग करने, स्वास्थ्य देखभाल की मांग करने या फिर अपनी कामुकता सहित अपने शरीर के बारे में निर्णय लेने का अधिकार नहीं है.