मानवाधिकार

मानवाधिकारों को चुनौतियां कई लेकिन उम्मीद कायम

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने मानवाधिकार परिषद को संबोधित करते हुए कहा है कि दुनिया के कई हिस्सों में आम जन के अधिकार ख़तरे में हैं. इसके बावजूद उन्होंने आशा का दामन नहीं छोड़ा है क्योंकि सामाजिक न्याय के लिए हो रहे सशक्त आंदोलन प्रगति लाने में सफल भी हो रहे हैं. 

'युद्धापराध' माना जा सकता है दक्षिण सूडान में मानवाधिकारों का हनन

दक्षिण सूडान में जारी मानवाधिकार हनन के मामलों के चलते हज़ारों लोग घर छोड़ने के लिए मजबूर हुए हैं. इससे चिंतित मानवाधिकार आयोग ने स्थानीय प्रशासन और अन्य पक्षों से पांच महीने पहले शांति समझौते पर नए सिरे से हुई सहमति का सम्मान करने और उसे लागू करने का आग्रह किया है. 

यूएन मानवाधिकार प्रमुख ने पुलवामा हमले की कठोर निंदा की

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बाशलेट ने जम्मू कश्मीर राज्य के पुलवामा ज़िले में भारतीय सुरक्षा बलों पर हुए आत्मघाती बम हमले की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए दोषियों को सज़ा दिलाने का आग्रह किया है. उन्होंने आशा जताई है कि भारत और पाकिस्तान क्षेत्र में असुरक्षा बढ़ाने वाले कदमों से दूर रहेंगे. 

दक्षिण सूडान में यौन हिंसा के मामलों में तेज़ी से बढ़ोत्तरी

दक्षिण सूडान के यूनिटी प्रांत में यौन हिंसा के बढ़ते मामलों के बाद संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय  (OHCHR) ने स्थानीय प्रशासन से पीड़ितों को सुरक्षा प्रदान करने और दोषियों को सज़ा दिलाने के लिए तत्काल कदम उठाने का अनुरोध किया है.  यौन हिंसा में आठ साल की बच्चियों तक को निशाना बनाए जाने की रिपोर्टें सामने आई हैं. 

भावी पीढ़ियों के लिए मूल भाषाओं में प्राण फूंकने की पुकार

हाल के दशकों में पुरखों के ज़माने से चली आ रही सैंकड़ों भाषाएं धीरे धीरे शांत होने लगी हैं. उन्हीं के साथ विलुप्त हो गई है उन्हें बोलने वाले लोगों की संस्कृति, ज्ञान और परंपराएं. जो भाषाएं बच गईं हैं उन्हें संरक्षित रखने और नए प्राण फूंकने के लिए संयुक्त राष्ट्र ने मूल भाषाओं के अंतरराष्ट्रीय वर्ष की आधिकारिक शुरुआत की है.