मानवाधिकार

बेलारूस: विमान को जबरन उतारे जाने व पत्रकार की गिरफ़्तारी पर गहरी चिन्ता

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने बेलारूस में एक यात्री विमान को जबरन उतारे जाने और उसके बाद सरकार के विरुद्ध कथित रूप से मुखर पत्रकार को हिरासत में लिये जाने पर गहरी चिन्ता जताई है.

म्याँमार: सैन्य नेतृत्व के विरुद्ध प्रतिबन्धों का स्वागत, अन्य देशों से कार्रवाई का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र के एक स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञ ने इस सप्ताह, चँद देशों की सरकारों द्वारा, म्याँमार में सैन्य नेतृत्व के विरुद्ध समन्वित प्रतिबन्ध लगाये जाने की घोषणा का स्वागत किया है. यूएन के विशेष रैपोर्टेयर टॉम एण्ड्रयूज़ ने गुरुवार को जारी अपने वक्तव्य में अन्य देशों से अमेरिका, ब्रिटेन और कैनेडा की राह पर चलने का आहवान किया है.

यूएन मानवाधिकार प्रमुख की, इसराइल-फ़लस्तीन संकट में, तनाव कम करने की अपील

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बाशेलेट ने फ़लस्तीनी क्षेत्र ग़ाज़ा और इसराइल में लगातार विस्फोटक होते हालात और रक्तपात के बीच शनिवार को, तनाव कम करने और सभी सम्बद्ध पक्षों से अन्तरराष्ट्रीय क़ानून का सम्मान किये जाने की अपील की है.

क़ाबिज़ फ़लस्तीनी इलाक़ों और इसराइल में हिंसा - यूएन प्रमुख ने जताई चिन्ता

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने क़ाबिज़ फ़लस्तीनी इलाक़ों में मंगलवार को हिंसा में आई तेज़ी पर गम्भीर चिन्ता जताई है. इस बीच, यूएन मानवाधिकार कार्यालय (OHCHR) ने बीते दिनों में प्रदर्शनकारियों और इसराइली पुलिस के बीच झड़पों और हवाई कार्रवाई के बाद, शान्ति बहाली के लिये दोगुने प्रयास किये जाने की अपील की है.

म्याँमार: ‘क्रूर दमनात्मक कार्रवाई’ पर विराम के कोई आसार नहीं

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यालय (OHCHR) ने आगाह किया है कि ऐसे समय जब दुनिया की नज़रें, म्याँमार में शान्तिपूर्ण प्रदर्शनकारियों के विरुद्ध दमनात्मक कार्रवाई पर टिकी हैं, देश में सैन्य नेतृत्व ने, अपनी ही जनता के ख़िलाफ़ मानवाधिकारों के अन्य उल्लंघनों को अंजाम देना जारी रखा है. यूएन प्रवक्ता ने म्याँमार में, सैन्य तख़्ता पलट के 100 दिन पूरे होने पर  कहा कि विरोध-प्रदर्शन कर रहे लोगों को दबाने की कार्रवाई में कमी आने के कोई संकेत नहीं हैं.

पूर्वी येरूशलम में हिंसा – अधिकतम संयम बरते जाने का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने क़ाबिज़ पूर्वी येरूशलम में जारी हिंसा और शेख़ जर्राह व सिलवान इलाक़ों में रह रहे फ़लस्तीनी परिवारों की उनके घरों से बेदख़ली की आशंका पर गहरी चिन्ता जताई है. ख़बरों के अनुसार बीती कुछ रातों से जारी हिंसक झड़पों में 200 से ज़्यादा फ़लस्तीनी और 17 इसराइली सुरक्षाकर्मी घायल हुए हैं.   

 

इसराइल से, फ़लस्तीनियों की जबरन बेदख़ली तुरन्त रोकने का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय (OHCHR) ने इसराइल से, पूर्वी येरूशलम में, फ़लस्तीनी लोगों को उनके घरों से जबरन बेदख़ल किये जाने की कार्रवाई को तुरन्त रोके जाने का आहवान किया है. साथ ही, शेख़ जर्राह बस्ती और अन्य इलाक़ों में, सुरक्षा व व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिये, बल प्रयोग करने में अधिकतम संयम बरते जाने का भी आग्रह किया है.

म्याँमार: स्वास्थ्य केन्द्रों पर हमलों से ख़तरे में कोविड-19 जवाबी कार्रवाई

म्याँमार में 1 फ़रवरी को सैन्य तख़्ता पलट के बाद से अब तक चिकित्साकर्मियों और मेडिकल केन्द्रों पर कम से कम 158 हमले हो चुके हैं और विरोध प्रदर्शनों में हिस्सा लेने वाले 139 डॉक्टरों को गिरफ़्तार किया गया है. म्याँमार में संयुक्त राष्ट्र के कार्यालय ने बुधवार को कहा है कि मौजूदा हालात में कोविड-19 पर जवाबी कार्रवाई के साथ-साथ अन्य महत्वपूर्व स्वास्थ्य सेवाओं के लिये भी जोखिम पैदा हो गया है.   

ईरान: राजनैतिक क़ैदी को, चिकित्सा आधार पर, रिहा करने का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र के स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने मंगलवार को ईरान सरकार से राजनैतिक कार्यकर्ता मोहम्मद नूरीज़ाद को तत्काल रिहा किये जाने का आग्रह किया है. ख़बरों के अनुसार, उपयुक्त चिकित्सा देखभाल के अभाव में, मोहम्मद नूरीज़ाद के  गम्भीर स्वास्थ्य समस्याओं का शिकार होने, यहाँ तक कि, उनकी मृत्यु होने की भी आशंका जताई गई है.

कोलम्बिया: हिंसा में अनेक हताहत, शान्ति की अपील

संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय ने कोलम्बिया के काली शहर में हुई हिंसा पर गहरी चिन्ता जताई है जहाँ पुलिस द्वारा प्रदर्शनकारियों पर गोली चलाए जाने की घटना में, अनेक लोगों के हताहत होने की ख़बरें हैं.