स्वास्थ्य

कोविड-19: नस्लभेद के ख़िलाफ़ प्रदर्शनों को समर्थन, सतर्कता बरतने की अपील

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने नस्लभेद के विरोध में दुनिया के अनेक शहरों में हुए प्रदर्शनों का समर्थन किया है लेकिन साथ ही आगाह किया है कि इन विरोध प्रदर्शनों में हिस्सा लेते समय लोगों को संक्रमण से बचाव के लिए निरन्तर सावधानी बरतनी होगी. पिछले दस में से 9 दिनों के दौरान कोरोनावायरस संक्रमण के एक लाख से ज़्यादा मामलों की पुष्टि हुई है जिससे चिन्तित यूएन स्वास्थ्य एजेंसी ने स्पष्ट किया है कि यह समय बेपरवाह होने का नहीं है. 

खाद्य सुरक्षा दिवस: सभी की है अहम भूमिका

ख़राब या अस्वस्थ भोजन खाने से हर साल दुनिया भर में लगभग 60 करोड़ लोग बीमार पड़ते हैं, जोकि लगभग हर दस व्यक्ति में से एक व्यक्ति का आँकड़ा है, इनमें से भी लगभग 4 लाख 20 हज़ार लोग हर साल ख़राब भोजन खाने के कारण मौत के मुँह में चले जाते हैं. संयुक्त राष्ट्र की विशेषीकृत एजेंसियों ने रविवार को विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस के मौक़े पर इस मुद्दे की तरफ़ ध्यान आकर्षित किया है.

कोविड-19: सार्वजनिक स्थलों पर फ़ेस मास्क के इस्तेमाल की सिफ़ारिश

जिन इलाक़ों में वैश्विक महामारी कोविड-19 व्यापक स्तर पर फैल रही है, वहाँ सरकारों को सार्वजनिक परिवहन, दुकानों और अन्य बन्द स्थानों पर फ़ेस मास्क के इस्तेमाल के लिए प्रोत्साहन देना होगा. ख़ासकर उन स्थानों पर जहाँ शारीरिक दूरी बरता जाना मुश्किल है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO)  ने संक्रमण से बचाव के लिए शुक्रवार को अपने दिशानिर्देशों में ताज़ा जानकारी जारी की है जिसमें फ़ेस मास्क के इस्तेमाल को बचाव उपायों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बताया गया है. 

कोविड-19: प्रदर्शनकारियों से बहुत ऐहतियात बरतने का आग्रह

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने सचेत किया है कि अमेरिका और अन्य देशों में अपनी आवाज़ बुलन्द करने के लिए सड़क पर उतरने वाले प्रदर्शनकारियों को कोरोनावायरस संक्रमण से बचने या अन्य लोगों को संक्रमित करने से बचाने के लिए हर सावधानी बरतनी होगी. यूएन स्वास्थ्य एजेंसी ने स्पष्ट शब्दों में कहा है कि दुनिया अब भी वैश्विक महामारी की चपेट में है और लापरवाही से संक्रमण की दूसरी लहर उत्पन्न हो सकती है.

कोविड-19: किफ़ायती, सुलभ वैक्सीन के लिए वैश्विक एकजुटता की दरकार

वैश्विक महामारी कोविड-19 मौजूदा पीढ़ी के लिए अब तक का सबसे बड़ा सार्वजनिक स्वास्थ्य संकट है और इस चुनौती पर पार पाने के लिए एक वैक्सीन का होना अपने आप में पर्याप्त नहीं है. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने गुरुवार को एक वर्चुअल बैठक को सम्बोधित करते हुए ध्यान दिलाया कि वैश्विक एकजुटता की भावना के साथ वैक्सीन को हर जगह हर व्यक्ति के लिए उपलब्ध कराना होगा.

साइकिल: महामारी में भरोसेमन्द, किफ़ायती और हरित वाहन

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि वैश्विक महामारी कोविड-19 के दौरान और इसके बाद दुनिया कैसे आगे बढ़ेगी, इस बारे में साइकिल की भी बहुत अहम भूमिका है. बुधवार को मनाए गए विश्व साइकिल दिवस के मौक़े पर कहा गया है कि साइकिल के ज़रिये दुनिया भर में स्वास्थ्यपरक और ज़्यादा टिकाऊ भविष्य बनाने के लिए सार्थक बदलाव लाने में आसानी होगी.

कोविड-19: एशियाई देशों से अभिव्यक्ति की आज़ादी को नहीं दबाने का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बाशेलेट ने कहा है कि एशिया-प्रशान्त क्षेत्र के दर्जन से भी ज़्यादा देशों ने कोविड-19 महामारी का मुक़ाबला करने के प्रयासों के तहत अभिव्यक्ति की आज़ादी को भी दबाया है जो बहुत चिन्ताजनक है. 

कोविड-19: शरणार्थियों, प्रवासियों, विस्थापितों पर तिहरी गाज

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने आशा व्यक्त करते हुए कहा है कोविड-19 संकट के कारण पूरी दुनिया इस मुद्दे पर पुनर्विचार कर सकेगी कि शरणार्थियों, प्रवासियों और देशों के ही भीतर विस्थापित लोगों को किस तरह से समर्थन दिया जाए. 

कोविड-19: भेदभाव के कारण अल्पसंख्यकों पर दहला देने वाला असर

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बाशेलेट ने कहा है कि इस बारे में तुरन्त ठोस क़दम उठाए जाने की ज़रूरत है कि नस्लीय व जातीय अल्पसंख्यकों पर वैश्विक स्वास्थ्य महामारी कोविड-19 के ग़ैर-आनुपातिक असर ना हो. मानवाधिकार उच्चायुक्त ने मंगलवार को कहा कि कोविड-19 महामारी ने कुछ देशों में चेता देने वाली असमानताएँ उजागर कर दी हैं:

काँगो लोकतान्त्रिक गणराज्य में ईबोला का 11वाँ फैलाव

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि काँगो लोकतान्त्रिक गणराज्य में ईबोला के नए मामले सामने आने के बाद उससे और कोविड-19 से निपटने में देश की मदद की जाएगी.