स्वास्थ्य

अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस: शारीरिक व मानसिक तंदरुस्ती को बढ़ावा

संयुक्त राष्ट्र, सोमवार, 21 जून, को सातवां ‘अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस’ मना रहा है जिसके ज़रिये, समग्र स्वास्थ्य एवँ मानव कल्याण के लिये इस प्राचीन ज्ञान की अहमियत को रेखांकित किया जा रहा है. 

भारत: कोविड-19 की दूसरी लहर ज़्यादा जानलेवा

भारत में संयुक्त राष्ट्र की रैज़िडेण्ट कोऑर्डिनेटर, रेनाटा डेज़ालिएन ने कहा है कि देश में कोविड-19 संक्रमण की दूसरी लहर और वायरस के फैलाव की तेज़ रफ़्तार ने सभी को हैरान कर दिया है. उन्होंने सचेत किया है कि इससे सबक़ लेकर सम्भावित तीसरी लहर से निपटने के लिये स्वास्थ्य तैयारियों को पुख़्ता बनाना होगा. 

भारत: कोविड-19 की दूसरी लहर का रूप बहुत अलग, बहुत घातक

भारत में संयुक्त राष्ट्र की रैज़िडेण्ट कोऑर्डिनेटर, रेनाटा डेज़ालिएन ने कहा है कि देश में कोविड-19 संक्रमण की दूसरी लहर और वायरस के फैलाव की तेज़ रफ़्तार ने सभी को हैरान कर दिया है. इससे सबक़ लेकर सम्भावित तीसरी लहर के लिये तैयारियों को पुख़्ता बनाना होगा. उन्होंने यूएन न्यूज़ के साथ एक ख़ास बातचीत में बताया कि मौजूदा संकट के दौरान यूएन एजेंसियाँ, स्वास्थ्य सेवा प्रणाली व टीकाकरण मुहिम को मज़बूती प्रदान करने और कोविड-19 से प्रभावित लोगों तक सहायता पहुँचाने, सभी मोर्चों पर सक्रिय हैं.

विश्व स्वास्थ्य ऐसेम्बली: यूएन महासचिव का सन्देश

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने विश्व स्वास्थ्य ऐसेम्बली को सम्बोधित करते हुए कहा है कि कोविड-19 महामारी, अपने साथ पीड़ा की एक सुनामी लाई है. उन्होंने मौजूदा संकट से निपटने के लिये, विश्व नेताओं से कोरोनावायरस वैक्सीन, परीक्षण और उपचार की न्यायसंगत सुलभता को सुनिश्चित करने वाली एक वैश्विक योजना के साथ तत्काल आगे बढ़ने का आहवान किया है.

विश्व स्वास्थ्य ऐसेम्बली में महासचिव - वैक्सीन के लिये वैश्विक योजना का आहवान

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने सदस्य देशों से, मौजूदा कोरोनावायरस संकट का अन्त करने और सर्वजन के लिये एक सुरक्षित व स्वस्थ भविष्य सुनिश्चित करने के लक्ष्य के साथ, निडर निर्णय लिये जाने की पुकार लगाई है. यूएन प्रमुख ने सोमवार को विश्व स्वास्थ्य ऐसेम्बली के 74वें सत्र को सम्बोधित करते हुए कहा कि कोविड-19 महामारी  पर क़ाबू पाने के लिये वैक्सीन, परीक्षण और उपचार की न्यायसंगत सुलभता सुनिश्चित की जानी होगी.

भारत: जंगल में आग की तरह फैल रहा है संक्रमण, यूनीसेफ़ की चेतावनी

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने चिन्ता जताई है कि भारत में कोविड-19 संक्रमण की नई लहर, देश भर में जंगल की आग की तरह फैल रही है. दक्षिण एशिया के अन्य देशों, नेपाल, श्रीलंका और मालदीव में भी कोविड-19 संक्रमण के मामलों में तेज़ बढ़ोत्तरी के कारण, हालात गम्भीर हो गए हैं. यूएन एजेंसी के मुताबिक़ वायरस हर आयु वर्ग के लोगों को संक्रमित कर रहा है जिनमें बच्चे और नवजात शिशु भी हैं. 

भारत: वैक्सीन उत्पादन बढ़ाने की ज़रूरत

भारत में संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) की प्रतिनिधि, डॉक्टर यासमीन अली हक़ ने, कोविड-19 संकट के दौरान, सबसे अहम ज़रूरतों पर ध्यान केन्द्रित करते हुए, देश में टीकाकरण जारी रखने पर बल दिया है. उन्होंने यूएन न्यूज़ के साथ एक ख़ास बातचीत में ज़ोर देकर कहा कि वैश्विक महामारी पर जवाबी कार्रवाई के तहत, सभी देशों को एक साथ मिलकर, वैक्सीन उत्पादन का दायरा व स्तर बढ़ाने के लिये रणनीति बनानी चाहिये.

 

भारत: कोविड-19 से निपटने के उपायों और वैक्सीन उत्पादन का विस्तार ज़रूरी

भारत में कोविड-19 संक्रमण के मामलों में आई तेज़ी से भयावह स्थिति पैदा हो गई है. देश में संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) की प्रतिनिधि, डॉक्टर यासमीन अली हक़ ने यूएन न्यूज़ के साथ एक ख़ास बातचीत में कहा कि इस संकट के दौरान, सबसे अहम ज़रूरतों पर ध्यान केन्द्रित करते हुए, टीकाकरण जारी रखना होगा. उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि वैश्विक महामारी पर जवाबी कार्रवाई के तहत सभी देशों को एक साथ मिलकर, वैक्सीन उत्पादन का दायरा व स्तर बढ़ाने के लिये रणनीति बनानी चाहिए.

भारत: यूएन मदद में सक्रिय

भारत में अप्रैल महीने के दौरान, कोविड-19 की दूसरी लहर ने भीषण तबाही मचा दी है. भारत में विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रतिनिधि, डॉक्टर रॉड्रिको एच ऑफ्रिन का कहना है कि कोविड-उपयुक्त व्यवहार ही इस महामारी के रोकथाम की कुंजी है. वीडियो रिपोर्ट...

भारत में कोविड-19 की रोकथाम के लिये हरसम्भव कोशिश

भारत में कोविड-19 की दूसरी लहर ने भीषण तबाही मचा दी है. महामारी के संक्रमण के, हर रोज़ तीन से चार लाख के बीच मामले सामने आ रहे हैं और भारी संख्या में लोग उचित समय पर इलाज और संसाधनों की कमी के कारण मौत का शिकार बन रहे हैं. इस भयावह स्थिति को समझने और इससे निपटने के उपायों को लेकर, भारत में विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रतिनिधि, डॉक्टर रॉड्रिको एच ऑफ्रिन ने, यूएन न्यूज़ के साथ एक ख़ास बातचीत में कहा कि कोविड-उपयुक्त व्यवहार ही इस महामारी के रोकथाम की कुंजी है...