स्वास्थ्य

कोविड-19: 'ओमिक्रॉन का BA.2 प्रकार, है चिन्ता का कारण'

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के तत्वावधान में एकत्र हुए कुछ वैज्ञानिकों ने मंगलवार को एक वक्तव्य जारी करके कहा है कि कोविड-19 के ओमिक्रॉन वैरिएण्ट से ही निकले एक और वायरस रूप BA.2 को चिन्ता का कारण मानते रहना चाहिये.

कोविड-19: स्वास्थ्य कर्मी ‘ख़तरनाक अनदेखी’ के शिकार

संयुक्त राष्ट्र की स्वास्थ्य और श्रम एजेंसियों ने सोमवार को कहा है कि दुनिया भर में स्वास्थ्य टीमों को, कोविड-19 महामारी के दौरान जिस तरह की “ख़तरनाक अनदेखी” का सामना करना पड़ा है, उनसे निपटने के लिये, और ज़्यादा सुरक्षित कामकाजी हालात की दरकार है.

कोविड-19: छह अफ़्रीकी देशों को मिलेगी mRNA वैक्सीन उत्पादन के लिये टैक्नॉलॉजी 

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि कोविड-19 महामारी के विरुद्ध लड़ाई में एक अहम औज़ार साबित होने वाली mRNA वैक्सीन की टैक्नॉलॉजी, अफ़्रीकी देशों को भी उपलब्ध कराई जा रही है. शुरुआत में यह प्रौद्योगिकी मिस्र, केनया, नाइजीरिया, सेनेगल, दक्षिण अफ़्रीका और ट्यूनीशिया को हस्तान्तरित की जा रही है, जिससे ये देश स्वयं इन टीकों का उत्पादन करने में सक्षम होंगे. 

भारत: ओडिशा में अस्थाई क्लीनिक के ज़रिये, स्वास्थ्य सेवाओं को मिली मज़बूती

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भारत के ओडिशा प्रदेश में, कोविड-19 के दौरान अपने साझीदारों के साथ मिलकर ऐसे अस्थाई क्लीनिक स्थापित किये, जिनसे लोगों को निर्बाध ढंग से अति-आवश्यक स्वास्थ्य सुविधाएँ उपलब्ध कराई गई हैं.

योरोपीय क्षेत्र में, बाल अवस्था कैंसर के उपचार व देखभाल में व्याप्त विषमताएँ

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने मंगलवार को अपनी एक नई रिपोर्ट जारी की है जिसमें योरोपीय क्षेत्र में बाल्यावस्था में कैंसर मामलों के निदान, उपचार व देखभाल में व्याप्त विषमताएँ उजागर हुई हैं. यूएन एजेंसी के अनुसार, हर वर्ष बच्चों में कैंसर के हज़ारों मामलों का पता चलता है, जिनमें से बड़ी संख्या में बच्चों की मौतें अब भी हो रही हैं.

कोविड-19: महामारी पर क़ाबू पाने के रास्ते पर अफ़्रीका, सतर्कता पर बल

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने अफ़्रीका में कोविड-19 संक्रमण के पहले मामले की पुष्टि होने के लगभग दो वर्ष बाद, मौजूदा रुझानों के आधार पर कहा है कि यदि यही हालात रहे, तो वर्ष 2022 में वैश्विक महामारी पर नियंत्रण पाया जा सकता है. मगर, संगठन ने चेतावनी दी है कि इसे सुनिश्चित करने के लिये सतर्कता बनाई रखनी होगी.

2022 में, महामारी के ख़ात्मे के लिये, 23 अरब डॉलर की अपील

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश समेत अन्य विश्व नेताओं ने वैश्विक महामारी कोविड-19 का वर्ष 2022 में ख़ात्मा करने के इरादे से बुधवार को, न्यायसंगत उपचार, निदान व वैक्सीन वितरण पर केन्द्रित व्यवस्था, एक्ट एक्सीलरेटर (ACT-Accelerator) के लिये 16 अरब डॉलर की रक़म इकट्ठा करने की एक अपील जारी की है. 

उम्र दराज़ लोगों के लिये एआई के लाभ और ख़तरे रेखांकित

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने बुधवार को कहा है कि कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Artificial Intelligence - AI) प्रौद्योगिकियाँ उम्रदराज़ लोगों के स्वास्थ्य व रहन-सहन को बेहतर बना सकती हैं, बशर्ते कि इन प्रौद्योगिकियों के डिज़ायन, क्रियान्वयन और प्रयोग में से, उम्र की छाप यानि आयुवाद को हटा दिया जाए.

चरम निर्धनता में वृद्धि चिन्ताजनक, सार्वभौमिक सामाजिक संरक्षा उपाय हैं ज़रूरी

सामाजिक विकास के लिये यूएन आयोग का 60वाँ सत्र सोमवार को आरम्भ हुआ है, जिसमें कोविड-19 महामारी के कारण अत्यधिक निर्धनता और खाद्य असुरक्षा में, पिछले 20 वर्षों में पहली बार दर्ज की गई वृद्धि और इससे उपजी चुनौतियों से निपटने के उपायों पर चर्चा हो रही है.

भारत: कोविड-19 टीकाकरण अभियान के लिये यूएन सहयोग

संयुक्त राष्ट्र ने भारत में कोविड-19 वैक्सीन के टीकाकरण अभियान के लिये हरसम्भव सहायता सुनिश्चित करने का आश्वासन दिया है. भारत सरकार का कहना है कि 30 जनवरी, 2022 को देश की 75 प्रतिशत वयस्क आबादी को कोविड-19 टीकों की दो ख़ुराक़ें दिये जाने, यानि उनके पूर्ण टीकाकरण का कार्य पूरा कर लिया गया है. यूएन एजेंसियों और भारत सरकार के साझा प्रयासों से जुड़ी अहम जानकारी...