स्वास्थ्य

कोविड-19: 40 फ़ीसदी आबादी के टीकाकरण में विफलता, 'नैतिक शर्मिन्दगी'

विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने कहा है कि वर्ष 2021 के अन्त तक 40 फ़ीसदी विश्व आबादी के टीकाकरण का लक्ष्य पूरा कर पाना सम्भव था, मगर उसमें मिली विफलता एक नैतिक शर्मिन्दगी है और इसकी क़ीमत, लोगों को अपने जीवन से चुकानी पड़ी है. 

2021 पर एक नज़र:  वायरस को 'कम करके आँकना, होगी एक बड़ी भूल' 

कोविड-19 महामारी के विरुद्ध बेहद कम समय में, चमत्कारी ढँग से कारगर वैक्सीन विकसित होने के बावजूद, कोरोनावायरस का फैलना और उसका रूप व प्रकार बदलना जारी है. वैश्विक महामारी के लम्बा खिंच जाने की एक प्रमुख वजह, वैश्विक सहयोग व एकजुटता का अभाव बताई गई है. वर्ष 2021 के दौरान, विकासशील देशों में आबादी को संक्रमण से रक्षा कवच प्रदान करने के लिये वैक्सीन वितरण की शुरुआत की गई, और भावी स्वास्थ्य संकटों से निपटने की तैयारियों की दिशा में क़दम बढ़ाये गए. 

संक्रामक बीमारियाँ हैं विश्वव्यापी ख़तरा, रोकथाम के लिये पुख़्ता तैयारियों पर बल 

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि वैश्विक महामारी ध्यान दिलाती है कि दुनिया स्थानीय स्तर पर फैलने वाली बीमारियों के सीमाओं से परे जाकर फैलने और उन्हें विश्वव्यापी महामारियों के रूप में उभरने से रोकने के लिये तैयार नहीं है. 

कोविड-19: ताबड़तोड़ बूस्टर टीके लगाने से, 'वैक्सीन विषमता गहराने का ख़तरा'

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने आगाह किया है कि कोविड-19 से बचाव के लिये अन्धाधुन्ध तरीक़े से, वैक्सीन के अतिरिक्त टीके (Booster dose) लगाने के कार्यक्रमों से वैश्विक महामारी के लम्बा खिंच जाने और विश्व में वैक्सीन विषमता गहराने की आशंका है.

कोविड-19: 'नुवैक्सोविड' वैक्सीन को आपात प्रयोग के लिये WHO की स्वीकृति

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने वैश्विक महामारी कोविड-19 से बचाव के लिये 'नुवैक्सोविड' (Nuvaxovid™) वैक्सीन के आपात प्रयोग को मंज़ूरी दे दी है. योरोपीय औषधि एजेंसी (EMA) द्वारा वैक्सीन की समीक्षा किये जाने और उसे स्वीकृति दिये जाने के बाद यह घोषणा की गई है.  

 

कोविड-19: संक्रमण मामलों में उछाल, 'ओमिक्रॉन' वैरीएण्ट ने 'डेल्टा' को छोड़ा पीछे

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने आगाह किया है कि इस बात के लगातार साक्ष्य मिल रहे हैं कि कोरोनावायरस के ‘ओमिक्रॉन’ वैरीएण्ट के फैलने की रफ़्तार अब डेल्टा नामक वैरीएण्ट से तेज़ हो रही है. कोविड-19 महामारी से हर सप्ताह क़रीब 50 हज़ार लोगों की मौत हो रही है.

कोविड-19: ‘कोवोवैक्स’ वैक्सीन को आपात प्रयोग के लिये मंज़ूरी

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोविड-19 महामारी से बचाव के लिये ‘कोवोवैक्स’ नामक वैक्सीन के आपात प्रयोग को स्वीकृति दे दी है, जिसके बाद यह करोड़ों लोगों के लिये उपलब्ध हो सकेगी. यह वैक्सीन, नोवावैक्स कम्पनी के लाइसेंस के तहत, भारत के सीरम इन्स्टीट्यूट में निर्मित है. 

अफ़ग़ानिस्तान: संकटग्रस्त देश में, जच्चा-बच्चा के लिये जीवनरक्षक सहायता

अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल का मलालाई मातृत्व अस्पताल, देश के व्यस्ततम अस्पतालों में से एक है जो हर दिन, इस दुनिया में क़रीब 85 नवजात शिशुओं का स्वागत करता है. इनमें लगभग 20 बच्चे ऑपरेशन के ज़रिये पैदा होते हैं. मगर देश में मौजूदा संकट, मरीज़ों की देखभाल करने की चिकित्सा स्टाफ़ की क्षमता को बुरी तरह प्रभावित कर रहा है.

सर्दियों और छुट्टियों का मौसम: कोविड-19 से बचाव के उपाय

शीत ऋतु के आगमन के संग आने वाली छुट्टियाँ, पारम्परिक रूप से हर आयु के लोगों के लिये अपने प्रियजन से मिलने-जुलने, पारिवारिक आयोजनों, धार्मिक उत्सवों और मित्रों-परिचितों के साथ घुलने-मिलने का अवसर रहा है. इस दौरान बड़ी संख्या में लोग, घरेलू या अन्तरराष्ट्रीय यात्रा करने की योजना भी बनाते हैं. मगर, कोविड-19 महामारी अब भी फैल रही है और इसलिये बेहद सतर्क रहने की आवश्यकता है. चन्द महत्वपूर्ण ऐहतियाती उपायों पर एक नज़र...

कोविड-19: अमेरिका क्षेत्र में, 2021 में, तीन गुना ज़्यादा मामले

अमेरिका क्षेत्र में स्थित यूएन स्वास्थ्य अधिकारियों ने बुधवार को कहा है कि कोविड-19 महामारी के पहले वर्ष की तुलना में, दूसरे वर्ष यानि 2021 में वहाँ संक्रमण और मौतों के मामलों में कम से कम तीन गुना वृद्धि होने के कारण, स्थिति बहुत ख़राब रही है.