स्वास्थ्य

कोविड-19: जी20 नेताओं से समावेशी, न्यायोचित पुनर्बहाली का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने इटली की राजधानी रोम में, शनिवार को जी20 समूह की बैठक के दौरान, देशों से कोविड-19 पर जवाबी कार्रवाई के तहत, न्यायसंगत ढंग से टीकाकरण प्रयासों को मज़बूती देने का आहवान किया है ताकि लोगों की ज़िन्दगियों की रक्षा की जा सके. 

महामारी का ख़ात्मा करने के लिये वैश्विक कार्यक्रम को अब भी, अरबों डॉलर की ज़रूरत

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने गुरूवार को एक नई रणनीति घोषित की है जिसमें कोविड-19 महामारी से बचाने वाली वैक्सीन्स, टैस्ट, जाँच और उपचार की उपलब्धता में मौजूद असमानता का मुक़ाबला करने के लिये, क़रीब 23 अरब 40 करोड़ डॉलर की रक़म का प्रबन्ध किये जाने की पुकार लगाई गई है.

अफ़ग़ानिस्तान में जच्चा-बच्चा की मदद के लिये संयुक्त राष्ट्र की प्रतिबद्धता, नजाबा की कहानी

अफ़ग़ानिस्तान में अगस्त में, तालेबान का नियंत्रण होने के बाद से बिगड़े हालात के कारण, जच्चा-बच्चा स्वास्थ्य सेवाएँ व्यापक गम्भीर रूप से बाधित हुई हैं और इनमें शिशुओं को जन्म देना भी कठिनाइयों से भर गया है. संयुक्त राष्ट्र की प्रजनन व जच्चा-बच्चा स्वास्थ्य एजेंसी – UNFPA, वास्तविक व ज़मीनी हालात में जीवनरक्षक सेवाएँ मुहैया कराने में सक्रिय है. एजेंसी के अनुसार, 36 वर्षीय नजाबा ऐसी माताओं में से एक हैं जिन्होंने गर्भावस्था के दौरान गम्भीर ख़तरों के साथ-साथ बढ़ती असुरक्षा के हालात का सामना किया है.

कोविड-19: महामारी के कारण, अनुमान से अधिक रोज़गारों का नुक़सान

अन्तरराष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) के एक नए विश्लेषण के अनुसार, कोरोनावायरस संकट की वजह से, वर्ष 2021 के दौरान कामकाजी घण्टों में हुआ नुक़सान, पहले जताए गए अनुमानों से कहीं अधिक है. रिपोर्ट में सचेत किया गया है कि विकसित और विकासशील देशों में पुनर्बहाली, दो अलग-अलग रास्तों व रफ़्तार पर आगे बढ़ रही हैं, जिससे वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिये जोखिम पैदा हो रहा है. 

कोविड-19 से मौत का शिकार हुए स्वास्थ्यकर्मियों की संख्या एक लाख 80 हज़ार तक

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने गुरूवार को कहा है कोविड-19 महामारी के कारण, दुनिया भर में, जनवरी 2020 से मई 2021 के बीच, 80 हज़ार से एक लाख 80 हज़ार के बीच स्वास्थ्यकर्मियों व देखभाल कर्मियों की मौत हो जाने का अनुमान है.

भारत: कोविड-19 वैक्सीन के एक अरब टीके दिये जाने की 'उपलब्धि' पर बधाई 

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने भारत में कोविड-19 टीकाकरण मुहिम के तहत, लोगों को एक अरब वैक्सीन ख़ुराकें दिये जाने का आँकड़ा पार होने पर बधाई दी है. दक्षिण-पूर्व एशिया के लिये यूएन एजेंसी की क्षेत्रीय निदेशक ने, कोविड-19 के विरुद्ध लड़ाई में इसे एक अहम पड़ाव क़रार दिया है. 

कोविड-19: यौन व प्रजनन स्वास्थ्य अधिकारों की पुनर्बहाली का आग्रह

स्वास्थ्य के अधिकार पर संयुक्त राष्ट्र की स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञ ने बुधवार को यूएन महासभा में सदस्य देशों को ध्यान दिलाते हुए कहा है कि यौन एवं प्रजनन स्वास्थ्य अधिकार, मानवाधिकार हैं और कोरोनावायरस संकट से उबरते हुए इन अधिकारों की पुनर्बहाली भी की जानी होगी.

अफ़ग़ानिस्तान में पोलियो टीकाकरण अभियान को तालेबान का समर्थन

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और यूएन बाल कोष – यूनीसेफ़ ने, अफ़ग़ानिस्तान में, घर-घर जाकर सभी बच्चों को पोलियो ख़ुराकें पिलाने का अभियान फिर शुरू किये जाने को, तालेबान नेतृत्व द्वारा समर्थन दिये जाने के फ़ैसले का स्वागत किया है.

क्या हम परिवहन को सुरक्षित व टिकाऊ बना सकते हैं? सड़क सुरक्षा दूत ज्याँ तॉद के साथ एक इण्टरव्यू

बहुत से विकसित देशों ने जीवाश्म ईंधन के प्रयोग से चलने वाली कारों को, आने वाले दशकों में सड़कों से हटाने की योजनाओं का ऐलान किया है, मगर सड़क सुरक्षा के लिये संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत ज्याँ तॉद का ज़ोर है कि विकासशील देशों में, सार्वजनिक परिवहन साधनों की उपलब्धता और दुर्घटनाओं में कमी लाने की चुनौती जैसे तात्कालिक चिन्ता के कारण मौजूद हैं, जिनसे प्राथमिकता के आधार पर निपटे जाने की ज़रूरत है.

क़दम बढाएँ, 25 प्रतिशत वयस्क नहीं करते हैं पर्याप्त व्यायाम

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) का कहना है कि दुनिया भर में अगर लोग ज़्यादा सक्रिय रहें और व्यायाम करें तो, हर साल लगभग 50 लाख लोगों की मौत को टाला जा सकता है. मगर बहुत से लोग ऐसे इलाक़ों में रहते और बसते हैं जहाँ ऐसे स्थान या तो बहुत कम हैं या बिल्कुल हैं ही नहीं, जहाँ वो सुरक्षित तरीक़ से टहल सकें, दौड़ सकें, साइकिल चला सकें या अन्य शारीरिक गतिविधियों में सक्रिय रह सकें.