स्वास्थ्य

डीपीआर कोरिया में कोविड-19 का प्रकोप चिन्ताजनक, हरसम्भव समर्थन का आश्वासन

दक्षिण पूर्व एशिया क्षेत्र के लिये विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO SEARO) ने कोरिया लोकतांत्रिक जनगणराज्य (डीपीआरके) में कोविड-19 महामारी के प्रकोप पर चिन्ता व्यक्त करते हुए, महामारी से निपटने में हर सम्भव सहायता प्रदान करने का संकल्प जताया है. 

सहायक टैक्नॉलॉजी: सर्वाधिक ज़रूरतमन्दों के लिये सुलभता बढ़ाने पर बल

संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों की एक नई रिपोर्ट बताती है कि विकलांगता की अवस्था में जीवन व्यतीत कर रहे क़रीब एक अरब बच्चों, वयस्कों और वृद्धजन के लिये सहायक टैकनॉलॉजी की आवश्यकता को नकारा जा रहा है. सोमवार को प्रकाशित की गई इस रिपोर्ट में देशों की सरकारों व उद्योग जगत से आग्रह किया गया है कि हालात में बेहतरी लाने के लिये वित्त पोषण पर ध्यान दिया जाना होगा. 

सर्वजन के लिये सेहतमन्द आहार पर केन्द्रित नया गठबन्धन

संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों ने सर्वजन के लिये स्वस्थ आहार सुनिश्चित करने, खाद्य प्रणालियों में कायापलट कर देने वाले बदलाव लाने और टिकाऊ विकास लक्ष्यों की प्राप्ति के इरादे से, एक गठबन्धन आधिकारिक रूप से प्रस्तुत किया है. यूएन एजेंसियों का कहना है कि इस पहल के ज़रिये, स्वास्थ्य, पोषण व पर्यावरणीय सततता को मज़बूत किया जाएगा. 

शराब को बढ़ावा देने के लिये ऑनलाइन मार्केटिंग, सख़्त नियामन उपायों पर ज़ोर

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की एक नई रिपोर्ट के अनुसार, शराब पीने को बढ़ावा देने के लिये ऑनलाइन मार्केटिंग का इस्तेमाल बढ़ रहा है, जिसमें ज़्यादा मात्रा में ऐल्कोहॉल का सेवन करने वाले लोगों और युवाओं पर विशेष रूप से लक्षित विज्ञापन तैयार किये जाते हैं. यूएन एजेंसी ने बढ़ते स्वास्थ्य जोखिमों के मद्देनज़र कारगर नियामन उपायों की आवश्यकता को रेखांकित किया है. 

स्वास्थ्य रक्षा व संक्रमण से बचाव के लिये, हाथों की स्वच्छता पर बल

हाथों की बेहतर साफ़-सफ़ाई और संक्रमण की रोकथाम व नियंत्रण उपायों की मदद से स्वास्थ्य देखभाल केंद्रों व अस्पतालों में होने वाले संक्रमण के 70 फ़ीसदी मामलों की रोकथाम की जा सकती है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने संक्रमण रोकथाम व नियंत्रण पर अपनी पहली रिपोर्ट प्रकाशित की है, जिसे अन्य वैज्ञानिकों रिपोर्टों और अध्ययनों से प्राप्त तथ्यों के आधार पर तैयार किया गया है. 

यूक्रेन संकट: बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य पर भीषण असर, देखभाल सेवाओं पर ज़ोर

संयुक्त राष्ट्र मानवीय राहतकर्मियों ने आगाह किया है कि यूक्रेन में पिछले 10 हफ़्तों से जारी युद्ध का बच्चों पर विनाशकारी असर हुआ है, जिसके मद्देनज़र, उनकी मानसिक स्वास्थ्य ज़रूरतों को पूरा करने और मनोसामाजिक समर्थन सुनिश्चित करने के लिये प्रयासों का दायरा व स्तर तेज़ी से बढ़ाया जा रहा है.

कार्यस्थल पर सामूहिक समझौतों के ज़रिये, विषमता से लड़ाई में मिली मदद

अन्तरराष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) ने कहा है कि तेज़ी से बदल रही कामकाजी दुनिया में, कोविड-19 के पश्चात वैश्विक पुनर्बहाली, विषमता से निपटने और वेतन को न्यायसंगत बनाये रखने के लिये, कामगारों और प्रबन्धन के बीच सम्वाद व सामूहिक समझौते बेहद अहम हैं.

कोविड-19: वैश्विक महामारी के कारण 'डेढ़ करोड़ लोगों की मौत', नया विश्लेषण

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने वैश्विक महामारी के सम्बन्ध में नए आँकड़े जारी किये हैं जिनके अनुसार कोविड-19 की वजह से वर्ष 2021 के अन्त तक, सीधे तौर पर या बीमारी से उपजी अन्य वजहों से लगभग एक करोड़ 49 लाख लोगों की मौत हुई. यूएन एजेंसी ने इस निष्कर्ष पर पहुँचने के लिये अतिरिक्त मृतक संख्या की गणना की है.

भारत के 'टीकाकरण चैम्पियन' - सभी बाधाओं का डटकर किया मुक़ाबला

भारत ने जनवरी 2021 में कोविड-19 के विरुद्ध दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान शुरू किया और देश अपनी कुल आबादी के 61.3 प्रतिशत लोगों का पूर्ण टीकाकरण करने में सफल रहा है. यह विशाल प्रयास, देश भर में टीकाकरण अभियान से जुड़े स्वास्थ्यकर्मियों और स्वैच्छिक कार्यकर्ताओं के योगदान से सम्भव हुआ.

कोविड-19: वायरस के नए उप-प्रकारों के प्रति सतर्कता बरते जाने का आग्रह

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने आगाह किया है कि कोविड-19 संक्रमण मामलों व मौतों में गिरावट जारी है, मगर अफ़्रीका और अमेरिका क्षेत्र में ओमिक्रॉन वैरीएण्ट के उप-प्रकार, संक्रमण मामलों में उछाल की वजह बन रहे हैं.