स्वास्थ्य

कोविड-19: विशेष सत्र में महामारी की समीक्षा

संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों ने, गुरुवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा के विशेष सत्र में, दुनिया भर में स्वास्थ्य महामारी कोविड-19 के कारण हुई तबाही, उसका मुक़ाबला करने के सर्वश्रेष्ठ उपायों पर ग़ौर करने, और आगे बढ़ने का रास्ता निकालने के उपायों पर विचार किया.

विकलाँग व्यक्तियों के अधिकारों को पहचान व सुरक्षा देने की ज़रूरत

संयुक्त राष्ट्र ने समाजों में विकलाँग व्यक्तियों के और ज़्यादा समावेशन और उनके मानवाधिकारों को पहचान देने के साथ-साथ उनका सम्मान किये जाने का आहवान किया है. गुरुवार को विकलाँग व्यक्तियों के अन्तरराष्ट्रीय दिवस पर ये आहवान किया गया है. 

'कोविड-19: वेतनों पर महामारी की तबाही की अभी तो शुरुआत है'

अन्तरराष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) के प्रमुख ने आगाह करते हुए कहा है कि कोविड-19 महामारी की वैक्सीन आने के बाद भी, दुनिया भर में, लोगों के वेतन व रोज़गारों पर पड़ रहे दबाव नहीं रुकेंगे. संगठन के महानिदेशक गाय रायडर ने बुधवार को यह चेतावनी ऐसे समय जारी की है जब महामारी के कारण दुनिया भर में वेतन और भत्तों में बढ़ोत्तरी को धीमा बना दिये जाने या उलट दिये जाने के बारे में एक अहम रिपोर्ट जारी हो रही है.

2021 में मुसीबत में फँसे लोगों की मदद के लिये 35 अरब डॉलर की अपील

संयुक्त राष्ट्र के आपदा राहत कार्यों के मुखिया मार्क लोकॉक ने कहा है कि वर्ष 2021 में, दुनिया भर में लगभग साढ़े 23 करोड़ लोगों को मानवीय सहायता व सुरक्षा की ज़रूरत होगी, जोकि एक रिकॉर्ड संख्या होगी, और वर्ष 2020 की तुलना में क़रीब 40 प्रतिशत ज़्यादा. उन्होंने कहा है कि ऐसा मुख्य रूप से कोविड-19 के कारणों से होगा.

एड्स दिवस: महामामारियों के ख़िलाफ़ वैश्विक एकजुटता की पुकार

संयुक्त राष्ट्र ने मंगलवार, 1 दिसम्बर को, विश्व एड्स दिवस पर, ना केवल कोविड-19 महामारी पर क़ाबू पाने बल्कि एक अन्य वैश्विक महामारी एड्स पर भी क़ाबू पाने के लिये वैश्विक एकजुटता व साझा ज़िम्मेदारी से प्रयास करने का आहवान किया है. एड्स के बारे में कहा गया है कि ये बीमारी पहली बार उभरने के 40 वर्ष बाद भी अभी ख़त्म नहीं हुई है.

कोविड-19 ने दुनिया भर में मलेरिया पर क़ाबू पाने के प्रयास किये धीमे

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि जीवन-रक्षक स्वास्थ्य सेवाओं में ख़ामियों के कारण मलेरिया पर क़ाबू पाने के प्रयासों में नकारात्मक असर पड़ रहा है और कोरोनावायरस महामारी, मलेरिया बीमारी पर क़ाबू पाने के प्रयासों को और ज़्यादा धक्का पहुँचा सकती है.

कोविड-19: वैक्सीन आने पर भी, टैस्ट अति महत्वपूर्ण उपाय रहेंगे

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने के मुखिया ने कहा है कि कोविड-19 का मुक़ाबला करने के उपायों में, अगर वैक्सीन का इस्तेमाल शुरू भी कर दिया जाए, तब भी टैस्ट यानि परीक्षण, एक अति महत्वपूर्ण विकल्प रहेगा.

एचआईवी से वैश्विक नुक़सान, कोविड-19 के कारण, बहुत ज़्यादा होगा

संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि देशों को एचआईवी/एड्स का मुक़ाबला करने के लिये नए महत्वाकाँक्षी लक्ष्य निर्धारित करने चाहिये ताकि लाखों अतिरिक्त लोगों को कोविड-19 महामारी से सम्बन्धित संक्रमण और मौतों से बचाया जा सके. 

कोविड के बाद की दुनिया के लिये बुनियादी बदलावों की ज़रूरत

ऐसे में जबकि, कोविड-19 महामारी दुनिया भर में एक सदी में सबसे गम्भीर और विनाशकारी स्वास्थ्य, सामाजिक-आर्थिक और मानवीय संकट पैदा करने पर आमादा है,  संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने मंगलवार को एक उच्चस्तरीय परिचर्चा में इस स्थिति का लाभ वास्तविक, बुनियादी और आवश्यक बदलाव लाने के लिये एक अवसर के रूप में करने की पुकार लगाई है.

कोविड-19: वैक्सीन खोज की अन्धेरी सुरंग में नज़र आई दमदार रौशनी

विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने कहा है कि कोविड-19 के ख़िलाफ़ वैक्सीन की खोज, जाँच-पड़ताल के साथ ही, अन्य प्रामाणिक सार्वजनिक स्वास्थ्य उपाय भी अपनाए जा रहे हैं, मगर अब इस बारे में कुछ ठोस उम्मीद जागी है कि स्वास्थ्य महामारी का ख़ात्मा करने में वैक्सीनें असरदार भूमिका निभाएँगी.