स्वास्थ्य

कोविड-19: वैक्सीन प्रयासों को वित्तीय मज़बूती देने पुकार

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने सभी देशों से वैश्विक महामारी कोविड-19 के ख़िलाफ़ एक असरदार वैक्सीन को हर किसी के लिये हर स्थान पर उपलब्ध कराने के लिये ज़रूरी वित्तीय संसाधनों का तत्काल इन्तज़ाम किये जाने की पुकार लगाई है. बताया गया है कि वैश्विक प्रयासों के अन्तर्गत वैक्सीन के लिये उतनी ही धनराशि की ज़रूरत है जितना धन दुनिया में सिगरेटों पर दो सप्ताह में कुल ख़र्च किया जाता है.

दुनिया को वैश्विक आर्थिक मन्दी के गर्त में जाने से बचाना होगा

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि वैश्विक स्वास्थ्य महामारी कोविड-19 के आर्थिक व सामाजिक परिणाम उतने ही भयावह हैं जितनी हमें आशंका थी. उन्होंने चेतावनी भरे अन्दाज़ में कहा कि अन्तरराष्ट्रीय समुदाय को अगर वैश्विक आर्थिक मन्दी से बचना है तो, ठोस कार्रवाई अभी करनी होगी, नहीं तो दशकों में हासिल किया गया विकास ग़ायब हो सकता है.

कोविड-19: दुर्सूचना पर वाजिब चिन्ताएँ सुनी जाएँ और डर दूर किये जाएँ

कोविड-19 महामारी के कारण दुनिया भर में व्याप्त अनिश्चितता, भय और चिन्ता के माहौल में संयुक्त राष्ट्र के वरिष्ठ पदाधिकारी दुनिया भर में लोगों की बात सुनने, उनकी चिन्ताओं की वैधता को समझने और ग़लत जानकारी और विज्ञान पर आधारित सटीक सूचना के बीच अन्तर समझने में उनकी मदद करने के लिये तत्पर हैं.

कोविड-19: मृतक संख्या दस लाख, 'दिमाग़ों को सुन्न कर देने वाला एक पड़ाव'

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने दुनिया भर में कोविड-19 महामारी के कारण होने वाली मौतों की संख्या 10 लाख होने पर कहा है कि निसन्देह, ये आँकड़ा, एक तकलीफ़देह पड़ाव के रूप में हमारे दिमाग़ों को सुन्न करने वाला है, मगर विश्व को हर एक इनसान की ज़िन्दगी को नज़रों से ओझल नहीं होने देना होगा.

कोविड-19: महामारी के ख़िलाफ़ लड़ाई में 'रैपिड टैस्ट' होंगे नए औज़ार

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने कोरोनावायरस संक्रमण का मिनटों में पता लगाने वाले टैस्ट को स्वीकृति मिलने की घोषणा की है.  प्रति यूनिट पाँच डॉलर क़ीमत वाली ऐसी 12 करोड़ परीक्षण किटें अगले छह महीनों में साझीदार संगठनों के साथ मिलकर तैयार की जाएँगी जिनसे निम्न व मध्य आय वाले देशों में परीक्षणों का दायरा बढ़ाने में सफलता मिलने की उम्मीद है. 

समुद्री नाविकों को महामारी के दौरान 'अहम कामगार' घोषित करने की अपील

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने देशों की सरकारों से एक बार फिर अपील की है कि वो उन सैकड़ों-हज़ारों नाविकों और अन्य समुद्री कामगारों की मदद के लिये काम करें जो कोविड-19 महामारी के कारण महीनों से समुद्रों में फँसे हुए हैं. कुछ मामलों तो इन लोगों को समुद्रों में फँसे हुए साल भर से भी ज़्यादा हो गया है.

कोविड-19: देशों से भ्रामक सूचनाओं की बाढ़ पर रोक लगाने की पुकार

संयुक्त राष्ट्र और उसके साझीदार संगठनों ने सभी देशों से भ्रामक सूचनाओं की भरमार (Infodemic) पर अंकुश लगाने आग्रह किया है. यूएन एजेंसियों ने आगाह किया है कि वैश्विक महामारी कोविड-19 के दौरान वास्तविक और वर्चुअल/ऑनलाइन दुनिया में ग़लत जानकारियों की भरमार हो गई है. 

कोविड-19: 2021 तक वैक्सीन की दो अरब खुराकें तैयार करने की योजना

विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 एक अभूतपूर्व वैश्विक संकट है जिससे निपटने के लिये अभूतपूर्व वैश्विक कार्रवाई की आवश्यकता है. संयुक्त राष्ट्र स्वास्थ्य एजेंसी – विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने सोमवार को वर्ष 2021 के अन्त तक कोरोनावायरस वैक्सीन की दो अरब खुराकें उपलब्ध कराने की योजना पेश करते हुए यह बात कही है.

शिक्षा: गर्म भोजन और कुछ ‘पौष्टिक पाउडर’

विश्व खाद्य कार्यक्रम (World Food Programme) भारत में एक ऐसा अनूठा कार्यक्रम चला रहा है, जिसके तहत स्कूल के बच्चों को सरकारी अपरान्ह भोजन योजना के साथ-साथ, पूर्ण पोषण सुनिश्चित करने के लिये विटामिन और खनिजों से भरपूर पोषक सहायक ख़ुराक दी जाती है. बच्चे प्यार से इसे ‘जादुई बुरादा’ कहते हैं. 

भारत: बिहार में बाढ़ से राहत में लैंगिक संवेदनशीलता

भारत के पूर्वी प्रदेश बिहार में बढ़ती कोविड-19 महामारी और ऊपर से बाढ़ की मार ने लोगों की मुसीबतें कई गुना बढ़ा दी हैं. ख़ासतौर पर किशोरियों और महिलाओं के लिये ज़रूरी सेवाओं तक पहुँच बहुत कठिन हो गई है. ऐसे में भारत में संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष (यूएनएफ़पीए) ने महिलाओं और किशोरियों को स्वास्थ्य व स्वच्छता सम्बन्धी विभिन्न आवश्यक सेवाएँ देने का बीड़ा उठाया है.