स्वास्थ्य

कोरोनावायरस: ऑनलाइन धोखाधड़ी के मामलों से सावधान रहने की अपील

दुनिया भर में कोरोनावायरस (COVID-19) के बढ़ते मामलों के बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी दी है कि इस महामारी के फैलने का फ़ायदा अब अपराधी भी उठाने की कोशिश कर रहे हैं. यूएन स्वास्थ्य एजेंसी के मुताबिक आपराधिक तत्व ख़ुद को विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रतिनिधियों के रूप में पेश करते हुए अनजान लोगों के धन और संवेदनशील जानकारी चुराने में जुटे हैं.
 

कोरोनावायरस से जोखिम 'अति गंभीर' स्तर पर, लेकिन रोकथाम अब भी संभव

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोनावायरस संक्रमण के मामलों और प्रभावित देशों की संख्या में लगातार बढ़ोत्तरी को चिंताजनक क़रार देते हुए जोखिम के स्तर को बढ़ा कर ‘अति गंभीर’ की श्रेणी में कर दिया है. शुक्रवार को यूएन स्वास्थ्य एजेंसी ने कहा कि कोविड-19 महामारी को रोकने के लिए देशों को तेज़ और सख़्त क़दम उठाने होंगे

कोरोनावायरस को नज़रअंदाज़ करने की 'घातक भूल ना करे कोई देश'

विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टैड्रोस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने सभी देशों से कोरोनावायरस (COVID-19) के बढ़ते मामलों की रोकथाम के लिए जल्द से जल्द प्रयासों का दायरा बढ़ाने का आग्रह किया है. उन्होंने चेतावनी भरे अंदाज़ में कहा है कि किसी भी देश को यह नहीं मानना चाहिए कि वो इससे प्रभावित नहीं होगा. ऐसा सोचना एक घातक ग़लती होगी.

कोरोनावायरस: चीन से बाहर अन्य देशों में संक्रमण के मामलों में तेज़ बढ़ोत्तरी

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने बुधवार को बताया कि पहली बार ऐसा हुआ है जब कोरोनावायरस (COVID-19) संक्रमण के नए मामले चीन से ज़्यादा अन्य देशों में सामने आए हैं. यूएन एजेंसी ने भरोसा जताया है कि इस वायरस को अब भी रोका जा सकता है लेकिन संभावित विश्वव्यापी महामारी जैसे हालात के मद्देनज़र सभी देशों से अपनी तैयारियों में कोई कसर ना छोड़ने की भी अपील की गई है.

कोरोनावायरस: फ़िलहाल विश्वव्यापी महामारी जैसी स्थिति नहीं

विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टैड्रोस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने कहा है कि कोरोनावायरस (COVID-19) को फ़िलहाल ‘विश्वव्यापी महामारी’ घोषित करने से इंकार किया है लेकिन अन्य देशों में संक्रमण के तेज़ी से बढ़ने को चिंताजनक बताया है. उन्होंने सभी देशों से इस पर क़ाबू पाने और संक्रमण के मामलों से निपटने के लिए हरसंभव प्रयास करने की पुरज़ोर अपील की है.

अफ़्रीकी देशों में कोरोनावायरस फैलने की आशंका चिंता का सबब

विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टैड्रोस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने कहा है कि उनकी चिंता की सबसे बड़ी वजह अफ़्रीका में कमज़ोर स्वास्थ्य प्रणालियों वाले देशों में कोरोनावायरस (COVID-19) के फैलने की आशंका है. इस चुनौती के मद्देनज़र यूएन एजेंसी स्थानीय स्वास्थ्य प्रणालियों के साथ मिलकर क्षमता विकसित करने के काम में जुटे हैं. अभी तक मिस्र में संक्रमण के एक मामले की पुष्टि हुई है.

कोरोनावायरस से निपटने की तैयारी में कोताही ना बरतने की अपील

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोनावायरस (COVID-19) के ऐसे मामलों के पता चलने पर चिंता ज़ाहिर की है जिनमें संक्रमित मरीज़ों का चीन से सीधा संबंध नहीं था. यूएन स्वास्थ्य एजेंसी प्रमुख टैड्रोस एडहेनॉम घेबरेयेसस  ने ज़ोर देकर कहा है कि देशों को जितना समय मिला है उसका पूरा लाभ उठाते हुए पुख़्ता तैयारी सुनिश्चित की जानी चाहिए.

जलवायु परिवर्तन व बाज़ारी शक्तियों के दबाव से बाल स्वास्थ्य को ख़तरा

विश्व का भविष्य बच्चों में मौजूद संभावनाओं के अनुरूप उनके फलने-फूलने और स्वास्थ्य-कल्याण पर निर्भर है लेकिन उनका बेहतर और टिकाऊ भविष्य सुनिश्चित करने के लिए कोई भी देश पर्याप्त प्रयास नहीं कर रहा है. अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य विशेषज्ञों के एक आयोग ने बुधवार को अपनी नई रिपोर्ट जारी करते हुए बाल एवं किशोर स्वास्थ्य पर जलवायु परिवर्तन और बाज़ारी शक्तियों के दुष्प्रभाव की तरफ़ ध्यान आकृष्ट किया है.  

'पोलियो उन्मूलन यूएन की प्राथमिकता'

इंसानों को विकलांग बनाने वाली और संभवतः घातक बीमारी से बचाने के लिए पाकिस्तान में लाखों बच्चों को वैक्सीन पिलाने का अभियान ज़ोर-शोर से चलाया गया है. विश्व भर में पोलियो के प्रकोप के कुछ आख़िरी ठिकानों में पाकिस्तान भी शामिल है.

कोरोनावायरस को 'वैश्विक संकट में तब्दील होने से रोकना अब भी संभव'

यूएन स्वास्थ्य एजेंसी ने चीन सहित दुनिया के अन्य देशों में कोरोनावायरस संक्रमण के मामले सामने आने के मद्देनज़र कहा है कि इस वायरस को वैश्विक संकट बनने से अब भी रोका जा सकता है.  यूएन स्वास्थ्य एजेंसी के महानिदेशक टैड्रोस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने बताया कि जिनीवा समय के मुताबिक मंगलवार सुबह 6 बजे तक चीन में 72 हज़ार 528 मामलों की पुष्टि हो चुकी है और एक हज़ार 870 लोगों की मौत हुई है.