स्वास्थ्य

यूनीसेफ़ की चेतावनी - संकटग्रस्त क्षेत्रों में लाखों बच्चे, अकाल के निकट

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष – यूनीसेफ़ ने कहा है कि वर्ष 2021 के दौरान, काँगो लोकतान्त्रिक गणराज्य, नाइजीरिया के पूर्वोत्तर इलाक़े, मध्य सहेल, दक्षिण सूडान और यमन में एक करोड़ से भी अधिक बच्चे अत्यन्त गम्भीर कुपोषण से जूझ रहे होंगे. यूनीसेफ़ ने चेतावनी देते हुए कहा है कि अगर तत्काल ठोस क़दम नहीं उठाए गए तो ये संख्या और भी बढ़ सकती है.

2020: प्रवासियों और शरणार्थियों पर, कोरोनावायरस की घातक मार

वर्ष 2020 के दौरान, कोविड-19 महामारी का प्रभाव शरणार्थियों और प्रवासियों पर भी बहुत व्यापक रूप में पड़ा; भीड़ भरे शिविरों में, वायरस की चपेट में आने के बहुत बड़े जोखिम से लेकर, यात्राओं पर लगी पाबन्दियों के कारण फँस जाने, और आपराधिक गुटों का निशाना बनने तक... 

'वैक्सीनों से कोरोनावायरस महामारी के पूर्ण उन्मूलन की गारंटी नहीं'

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के वरिष्ठ अधिकारियों ने, सोमवार को, वर्ष 2020 की अपनी अन्तिम प्रेस वार्ता में आगाह करते हुए कहा है कि, ज़रूरी नहीं है कि कोरोनावायरस बहुत बड़ा वायरस है, बल्कि दुनिया भर में, एक अन्य, कहीं ज़्यादा गम्भीर महामारी के फैलने की बहुत ज़्यादा सम्भावना है. उन्होंने ये भी कहा कि वैक्सीनों के ज़रिये, इस महामारी के पूरी तरह सफ़ाए की गारंटी नहीं दी जा सकती है.

वर्ष 2020: जिसे कोविड-19 ने बिल्कुल उलट-पलट कर दिया...

कोविड-19, वस्तुतः हर जगह है, और वर्ष 2020 के दौरान, इस महामारी का फैलाव और परिणामस्वरूप इसके प्रभावों ने एक असाधारण दायरे और विशालता वाला असाधारण वैश्विक संकट पैदा कर दिया है. वर्ष 2020 को अलविदा कहने के लिये, यहाँ प्रस्तुत है, महामारी के सन्दर्भ में, संयुक्त राष्ट्र के कामकाज और लोगों के जीवन में उसके महत्व की कुछ झलकियाँ. पिछले 12 महीनों के दौरान हुई प्रमुख घटनाओं पर एक नज़र...

एशिया-प्रशान्त में भी व्यापार पर कोविड का असर, मगर बाक़ी दुनिया से कम

संयुक्त राष्ट्र के एक विकास संगठन (ESCAP) ने कहा है कि कोविड-19 महामारी और लम्बे समय से चले आ रहे व्यापार तनावों के कारण, वर्ष 2020 के दौरान, वैश्विक व्यापार में आई भारी गिरावट के बावजूद, एशिया और प्रशान्त में, बाक़ी दुनिया की तुलना में, कुछ कम असर हुआ है. 

कोविड-19 के नए रूप पर सख़्त निगरानी, ब्रिटेन से यात्राओं पर अनेक देशों में रोक

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रमुख ने कहा है कि दक्षिण अफ्रीका और ब्रिटेन में, कोरोनावायरस के जो अन्य प्रकार या रूप पाए गए हैं, उनके बारे में और ज़्यादा जानकारी हासिल करने के लिये, वैज्ञानिक काम पर जुटे हुए हैं. 

फल व सब्ज़ियाँ - स्वस्थ जीवन व टिकाऊ दुनिया के लिये हैं बहुत अहम

संयुक्त राष्ट्र ने, मानव स्वास्थ्य में पोषण और खाद्य सुरक्षा में, फल व सब्ज़ियों की बहुत अहम भूमिका के बारे में जानकारी बढ़ाने के इरादे से, वर्ष 2021 को फल व सब्ज़ियों का अन्तरराष्ट्रीय वर्ष घोषित किया है. इस अवसर पर टिकाऊ खाद्य उत्पादन बढ़ाने और खाद्य पदार्थों को कूड़े-कचरे में तब्दील होने से रोकने के लिये और ज़्यादा प्रयास करने का भी आहवान किया गया है.

कोविड-19: वैक्सीन की दो अरब ख़ुराकों की ख़रीदारी तय

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रमुख ने शुक्रवार को कहा है कि कोविड-19 महामारी का अन्त सामने नज़र आने लगा है, मगर साथ ही हमें ये नहीं भूलना होगा कि ऐहतियात अब भी बहुत ज़रूरी है. संगठन के महानिदेशक टैड्रॉस ऐडहेनॉम घेबरेयेसस ने इस ख़बर का भी स्वागत किया कि वैश्विक वैक्सीन गठबन्धन-कोवैक्स ने महामारी की वैक्सीन की लगभग 2 अरब ख़ुराकों की ख़रीदारी के लिये तैयारियाँ की हैं.

शीतकालीन अवकाश के दौरान कोविड-19 संक्रमण से बचाव के लिये सलाह

सर्दी के मौसम में छुट्टियों का समय परिवार और समुदाय के लिये नज़दीक आने, घुलने-मिलने और भविष्य की तैयारी के लिये नई ऊर्जा के संचार का अवसर है. लेकिन इस वर्ष वैश्विक कोविड-19 महामारी के कारण योरोप में हालात बेहद ख़राब हैं और सामूहिक आयोजनों में शिरकत के प्रति लोगों में आशंका और बेचनी है. इन हालात के मद्देनज़र योरोप में विश्व स्वास्थ्य संगठन के क्षेत्रीय कार्यालय ने धार्मिक व सामाजिक आयोजनों में संक्रमण की रोकथाम के लिये पर्याप्त ऐहतियात बरते जाने के दिशानिर्देश जारी किये हैं.

'कोविड-19 की रोकथाम के लिये, 28 अरब डॉलर वाली एसीटी परियोजना ही सर्वश्रेष्ठ सौदा'

विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार को कहा है कि कोविड-19 महामारी का मुक़ाबला करने के लिये वजूद में आए एक अन्तरराष्ट्रीय गठबन्धन को, इस मक़सद के लिये 28 अरब डॉलर की रक़म की ज़रूरत है, जोकि महामारी द्वारा पिछले एक साल में की गई विशाल तबाही को और ज़्यादा फैलने से रोकने के लिये बहुत अच्छा सौदा है.