जलवायु और पर्यावरण

जलवायु कार्रवाई के लिये महत्वपूर्ण संकल्पों का स्वागत 

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने विश्व की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं द्वारा, जलवायु कार्रवाई के लिये अहम संकल्प लिये जाने का स्वागत किया है. न्यूयॉर्क में यूएन महासभा के 76वें उच्चस्तरीय सत्र की जनरल डिबेट के दौरान मंगलवार को ये घोषणाएँ की गई हैं.

जलवायु त्रासदी टालने के लिये, बिल्कुल अभी निर्णायक कार्रवाई की पुकार

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने सोमवार को विश्व नेताओं का आहवान करते हुए, जलवायु त्रासदी को टालने की ख़ातिर, बिल्कुल अभी निर्णायक कार्रवाई करने की पुकार लगाई है. यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने 31 अक्टूबर से स्कॉटलैण्ड के ग्लासगो शहर में शुरू होने वाले अगले जलवायु सम्मेलन कॉप26 से पहले, आयोजित एक आपदा सम्मेलन में शिरकत करते हुए ये आहवान किया है.

तापमान में 'ख़तरनाक बढ़ोत्तरी' की ओर बढ़ती दुनिया - महत्वाकाँक्षी जलवायु कार्रवाई की पुकार

कोविड-19 महामारी के बावजूद जलवायु परिवर्तन की रफ़्तार में कोई कमी नहीं आई है. संयुक्त राष्ट्र की एक नई रिपोर्ट दर्शाती है कि विश्व भर में आर्थिक गतिविधियों में आए ठहराव के कारण, कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन की मात्रा में अस्थाई तौर पर कुछ कमी आई थी, मगर अब यह फिर तेज़ गति से बढ़ रही है. रिपोर्ट में चेतावनी जारी की गई है कि दुनिया आने वाले वर्षों में, तापमान में ख़तरनाक बढ़ोत्तरी की ओर बढ़ रही है.

जंगली माँस के सेवन से बढ़ता है पशुजन्य बीमारियों का जोखिम – यूएन रिपोर्ट

संयुक्त राष्ट्र की एक ताज़ा रिपोर्ट में कहा गया है कि जंगली पशुओं के माँस की घरेलू खपत का ऐसी अनेक प्रजातियों पर असर हो रहा है, जिन्हें जंगली जानवरों की प्रवासी प्रजातियों की रक्षा पर संयुक्त राष्ट्र की एक सन्धि (Convention on the Conservation of Migratory Species of Wild Animals / CMS) के तहत संरक्षण प्राप्त है. 

कृषि-सम्बन्धी समर्थन उपायों से मानव व पर्यावरण स्वास्थ्य को ख़तरा – यूएन रिपोर्ट

विश्व भर में कृषि उत्पादकों को दिये जाने वाले कुल 540 अरब डॉलर के सरकारी समर्थन में, क़रीब 87 फ़ीसदी धनराशि ऐसे रूपों में है, जो कि क़ीमतों को प्रभावित करते हैं और जिनसे प्रकृति व स्वास्थ्य को नुक़सान पहुँच सकता है. 

हेती में घातक भूकम्प के बाद, भुखमरी में तेज़ बढ़ोत्तरी

संयुक्त राष्ट्र के गुरूवार को जारी खाद्य सुरक्षा आँकड़ों में कहा गया है कि हेती में 14 अगस्त को आए भूकम्प से सर्वाधिक प्रभावित चार ज़िलों में, लगभग 9 लाख 80 हज़ार लोगों को, अत्यन्त गम्भीर खाद्य असुरक्षा के बीच रहना पड़ रहा है.

नीला आकाश विचार: वायु प्रदूषण के बार में कुछ अहम जानकारी

दुनिया भर में, कुल आबादी का लगभग 90 प्रतिशत हिस्सा, अपने दैनिक जीवन में, हर दिन, हानिकारक प्रदूषित हवा में साँस लेता है, जिसे संयुक्त राष्ट्र ने, मौजूदा दौर का सर्वाधिक महत्वपूर्ण स्वास्थ्य मुद्दा क़रार दिया है. 7 सितम्बर को, ‘नीले आसमानों के  प्रथम अन्तरराष्ट्रीय स्वच्छ वायु दिवस’ के अवसर पर, यूएन न्यूज़ की प्रस्तुति – कि ये स्थिति कितनी बुरी है और इसका सामना करने के लिये क्या किया जा रहा है.

आगों और बाढ़ों के मौसम को शान्त करने के लिये जलवायु कार्रवाई की दरकार

संयुक्त राष्ट्र की उप महासचिव आमिना जे मोहम्मद ने दुनिया भर में चरम मौसम की बढ़ती घटनाओं से प्रभावित होने वाले देशों की बढ़ती संख्या की पृष्ठभूमि में, सोमवार को ध्यान दिलाते हुए, विश्व में तापमान वृद्धि को, अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर सहमत डेढ़ डिग्री तक सीमित रखने की अहमियत को रेखांकित किया है.

पर्यावरणीय जोखिमों के स्वास्थ्य दुष्प्रभावों से निपटने के लिये कार्रवाई का पुलिन्दा

संयुक्त राष्ट्र की विभिन्न एजेंसियों ने एक साथ मिलकर 500 कार्रवाई उपायों का एक नया सार-संग्रह (compendium) तैयार किया है जिसका उद्देश्य पर्यावरणीय जोखिमों से होने वाली मौतों व बीमारियों में कमी लाना है. 

कोविड-19 के दौरान तालाबन्दियों से वायु गुणवत्ता में अल्पकालीन सुधार

कोविड-19 महामारी के दौरान लागू की गई तालाबन्दियों से, दुनिया के कुछ हिस्सों में वायु गुणवत्ता में तेज़ी से अभूतपूर्व सुधार दर्ज किया गया, मगर वैश्विक तापमान में बढ़ोत्तरी की वजह से होने वाले जलवायु परिवर्तन को थामने के लिये ये पर्याप्त नहीं हैं.