जलवायु और पर्यावरण

"आर्द्रभूमि हमें सभी कुछ देती है" - महत्वपूर्ण पर्वतीय पारिस्थितिक तंत्र की रक्षा की मुहिम

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP), भारत सरकार के साथ मिलकर ‘SECURE Himalaya’ नामक एक पहल पर काम कर रहा है, जिसके तहत पर्वतीय पारिस्थितिकी तंत्र के लिये बेहद अहम, ऊँचे इलाक़ों में स्थित आर्द्रभूमि के संरक्षण हेतु, हिमालयी क्षेत्रों के स्थानीय समुदायों को प्रशिक्षण दिया जाता है. 

'नज़र आने लगा है जलवायु परिवर्तन का असर', अनूकूलन पर बल

संयुक्त राष्ट्र के अन्तरसरकारी आयोग (IPCC) की सोमवार को एक वर्चुअल बैठक शुरू हुई है, जिसमें जलवायु परिवर्तन के प्रभावों, अनुकूलन और सम्वेदनशीलता पर आधारित एक रिपोर्ट पर चर्चा होगी.

‘हज़ार झरनों वाली पहल’ - ओडिशा के स्थानीय समुदायों के लिये वरदान

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) और भारत सरकार ने देश के पूर्वी प्रदेश ओडिशा में ‘1000 स्प्रिंग्स पहल’ नामक एक योजना शुरू की है, जिसके तहत स्थानीय झरनों का संरक्षण करके, जल की समस्या वाले दुर्गम पहाड़ी इलाक़ों में स्थानीय समुदायों को चौबीसों घण्टे पीने का स्वच्छ पानी मिल रहा है.

महासागरों को जलवायु परिवर्तन से बचाने के लिये, 'मार्ग बदलाव' ज़रूरी

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने शुक्रवार को कहा है कि पृथ्वी ग्रह, जलवायु व्यवधान, जैव-विविधता की हानि और प्रदूषण के रूप में तिहरे संकटों का सामना कर रहा है. उन्होंने फ्रांस में आयोजित हो रहे “एक महासागर सम्मेलन” को सम्बोधित करते हुए आगाह भी किया कि इन संकटों का ज़्यादातर बोझ महासागरों को वहन करना पड़ रहा है.

शिक्षा में निहित है, महासागरों की बेहतर रक्षा की कुंजी 

संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक एवं सांस्कृतिक संगठन (UNESCO) ने वर्ष 2025 तक, 193 सदस्य देशों के स्कूली पाठ्यक्रमों में महासागरों से जुड़ी जानकारी को शामिल किये जाने का लक्ष्य तय किया है. यूनेस्को ने फ़्रांस के ब्रेस्त शहर में ‘एक महासागर’ (One Ocean) शिखर बैठक के अवसर पर यह घोषणा की है.

सिगरेट में माइक्रोप्लास्टिक से निपटने के लिये नया अभियान

संयुक्त राष्ट्र ने सिगरेट में होटों पर लगाए जाने वाले हिस्से – फ़िल्टर या बट में प्लास्टिक के अति सूक्ष्म कड़ों यानि माइक्रोप्लास्टिक के, स्वास्थ्य और पर्यावरणीय प्रभावों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से, बुधवार को एक नई साझेदारी की घोषणा की है.

आर्द्रभूमि: जलवायु परिवर्तन के विरुद्ध जीवन रेखा

संयुक्त राष्ट्र, बुधवार 2 फ़रवरी को पहला विश्व आर्द्रभूमि दिवस (World Wetlands Day) मना रहा है, जिस मौक़े पर ये स्वीकार किया गया है कि ये भंगुर पारिस्थितिकी तंत्र, जैव विविधता, जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को कम करने, ताज़ा पानी की उपलब्धता और आर्थिक सहनशीलता में महत्वपूर्ण योगदान करता है. 

प्रकृति-आधारित समाधानों में निवेश बढ़ाएँ जी20 देश, नई रिपोर्ट

संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) और उसके साझीदार संगठनों की एक नई रिपोर्ट के अनुसार, जलवायु, जैवविविधता और भूमि-क्षरण संकटों से निपटने के लिये, जी20 समूह के देशों को प्रकृति-आधारित समाधानों में निवेश, 2050 तक प्रतिवर्ष 285 अरब डॉलर तक ले जाना होगा. 

पाँच वैश्विक ख़तरों से निपटने के लिये, महासचिव ने गिनाए पाँच आपात उपाय

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने दुनिया के सामने दरपेश, पाँच विशाल ख़तरों से निपटने के लिये आपात उपाय अपनाए जाने की पुकार लगाई है. उन्होंने वर्ष 2022 के आरम्भ में, यूएन महासभा की एक बैठक को सम्बोधित करते हुए, अपनी प्राथमिकताओं में कोविड-19 महामारी पर क़ाबू पाने, वैश्विक वित्तीय प्रणाली में बदलाव लाने, जलवायु संकट पर कार्रवाई करने, सर्वजन की भलाई के लिये टैक्नॉलॉजी का इस्तेमाल सुनिश्चित करने और वैश्विक शान्ति के प्रसार के प्रयासों पर बल दिया है. 

जलवायु परिवर्तन: वर्ष 2021, सात सर्वाधिक गर्म वर्षों की सूची में शामिल

विश्व मौसम संगठन (WMO) ने बुधवार को कहा है कि वर्ष 2021, रिकॉर्ड में दर्ज सात सर्वाधिक गर्म वर्षों की सूची में शामिल हो गया है. साथ ही वर्ष 2021, लगातार सातवाँ ऐसा वर्ष रहा जिस दौरान वैश्विक तापमान, पूर्व - औद्योगिक स्तर की तुलना में, एक डिग्री सेल्सियस से भी ऊपर रहा.