जलवायु और पर्यावरण

पेरिस जलवायु समझौते पर एक वीडियो नज़र...

पेरिस जलवायु समझौता, देशों को नैट शून्य कार्बन उत्सर्जन के लिये अपने स्वयं के रास्ते बनाने देता है. यह राष्ट्रों, व्यवसायों और लोगों के ऊपर है कि वे यह करने के नए तरीक़े खोजें. ऊर्जा उत्पादन से लेकर परिवहन, विनिर्माण और खेती तक. एक वीडियो परिचय...

भारत: अनोखी मुहिम, जहाँ प्लास्टिक कचरा है शिक्षा पाने का टिकट

भारत के असम राज्य में, संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) और अक्षर फाउण्डेशन ने मिलकर एक ऐसा अनूठा कार्यक्रम शुरू किया है, जिसके ज़रिये निर्धन परिवारों के बच्चे, स्कूली पढ़ाई का शुल्क के रूप में, प्लास्टिक कचरा री-सायकलिंग के लिये देकर, निजी स्कूलों में गुणवत्ता वाली शिक्षा प्राप्त कर सकेंगे.  

वैश्विक तापमान में बढ़ोत्तरी के बीच दुनिया जलवायु ‘रसातल’ के कगार पर

संयुक्त राष्ट्र की मौसम विज्ञान एजेंसी (WMO) द्वारा सोमवार को जारी नई रिपोर्ट दर्शाती है कि पृथ्वी के तापमान में बढ़ोत्तरी बेरोकटोक जारी है, और साल 2020, अब तक के तीन सबसे गर्म वर्षों में दर्ज किया गया है. "State of the Global Climate" रिपोर्ट के मुताबिक़ वर्ष 2020 में वैश्विक औसत तापमान, औद्योगिक काल से पूर्व के स्तर की तुलना में 1.2 डिग्री सेल्सियस अधिक रहा, जोकि चिन्ताजनक है.

नगरों से जलवायु कार्रवाई और टिकाऊ विकास के तरीक़े अपनाने का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने नगरीय नियोजन व नगरीय परिवहन में क्रान्तिकारी बदलाव लाए जाने का आहवान किया ताकि जलवायु परिवर्तन के प्रभावों का सामना करके, सर्वजन के लिये हरित व टिकाऊ भविष्य बनाया जा सके.

बांग्लादेश: 'सौर घर प्रणाली कार्यक्रम' साबित हुआ नया विकास वाहक

विश्व बैंक (World Bank) ने अन्य साझीदारों के साथ मिलकर, बांग्लादेश में घरों तक बिजली पहुँचाने के लिये 'सौर ऊर्जा घर प्रणाली' (SHS) कार्यक्रम को वित्तीय पोषण प्रदान किया, जिससे देश की विकास प्रक्रिया में अहम सहयोग मिला है. इस कार्यक्रम के ज़रिये, दूर-दराज़ के क्षेत्रों में समुदायों तक बिजली पहुँचाने वाले एक 'ऑफ़-ग्रिड सौर बाज़ार' के निर्माण के लिये सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के बीच भागीदारी को समर्थन दिया गया. 

 

कैमरून के निर्धन समुदायों तक नवीकरणीय ऊर्जा पहुँचाने की पहल

नवीकरणीय ऊर्जा और ऊर्जा दक्षता प्रौद्योगिकियों के उपयोग को बढ़ावा देने वाली एक परियोजना के परिणामस्वरूप, कैमरून के उत्तर और सुदूर उत्तर के एक हज़ार से अधिक घर और छह हज़ार से अधिक लोग, जल्द ही स्वच्छ और टिकाऊ ऊर्जा का लाभ उठा सकेंगे. कैमरून में संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक एवं सांस्कृतिक संगठन (UNESCO) के देशीय कार्यालय ने, भारत और कैमरून सरकार की साझेदारी में इस दिशा में बढ़त हासिल करने की बात कही है.   

फ़ुकुशिमा संयंत्र: दूषित जल के निस्तारण में, यूएन एजेंसी देगी जापान को मदद

जापान में वर्ष 2011 में आए भूकम्प व सूनामी से प्रभावित फ़ुकुशिमा परमाणु ऊर्जा संयंत्र को ठण्डा करने के लिये इस्तेमाल किये गए दूषित समुद्री जल के विसर्जन की तैयारियाँ की जा रही है. अन्तरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (IAEA) के महानिदेशक रफ़ाएल मारिआनो ग्रोसी ने जापान के समाधान को, तकनीकी रूप से सम्भव और अन्तरराष्ट्रीय परिपाटी के अनुरूप बताते हुए इस योजना में हरसम्भव सहयोग देने की बात कही है. 

प्रथम मानव अन्तरिक्ष उड़ान ने शुरू किया था मानव सभ्यता का नया दौर

संयुक्त राष्ट्र, सोमवार, 12 अप्रैल को, अन्तरिक्ष में मानव उड़ान का अन्तरराष्ट्रीय दिवस मना रहा है. यह दिवस मनाते हुए, अन्तरिक्ष यात्रियों द्वारा हासिल की गई उपलब्धियों को रेखांकित किया जा रहा है जो मानव सभ्यता द्वारा हासिल की जा सकने वाली उपलब्धियों की सीमाओं का दायरा बढ़ा रहे हैं.

तिमोर-लेस्ते: बाढ़ से भारी तबाही, यूएन एजेंसियाँ भी मदद करने में सक्रिय

संयुक्त राष्ट्र एजेंसियाँ, तिमोर-लेस्ते में, बाढ़ और भूस्खलन का सामना करने के प्रयासों में सक्रिय मदद कर रही हैं. देश भर में आई बाढ़ और भूस्खलन से व्यापक तबाही हुई है और प्रभावित स्थानों में राजधानी दीली भी शामिल है.

यूनेस्को सर्वे के अनुसार, अगले दशक में, जलवायु परिवर्तन शीर्ष चुनौती

संयुक्त राष्ट्र के शैक्षिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन – यूनेस्को ने ‘2030 में विश्व की स्थिति’ नामक सर्वे की रिपोर्ट प्रकाशित की है जिसके अनुसार, जलवायु परिवर्तन और जैव-विविधता के नुक़सान को, इस दशक के दौरान सबसे बड़ी चुनौती के रूप में देखा जा रहा है.