जलवायु और पर्यावरण

महिला दिवस: लैंगिक समानता के लिये ‘समय यही है’

संयुक्त राष्ट्र के अनेक शीर्ष अधिकारियों ने मंगलवार, 8 मार्च, को ‘अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस’ के अवसर पर जलवायु परिवर्तन व कोविड-19 महामारी से निपटने में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका को रेखांकित किया है. उन्होंने पर्यावरण, व्यवसाय और राजनीति में और अधिक संख्या में महिला नेतृत्वकर्ताओं की आवश्यकता पर बल देते हुए कहा कि एक टिकाऊ भविष्य के लिये लैंगिक समानता के वादे को अब साकार करना होगा.

IPCC रिपोर्ट: जलवायु परिवर्तन पर वैश्विक नेतृत्व की 'विफलता'

संयुक्त राष्ट्र के वैज्ञानिकों ने, पृथ्वी और तमाम दुनिया पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव के बारे में, सोमवार को एक तीखी चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि पारिस्थितिकी विघटन, प्रजातियों के विलुप्तिकरण, जानलेवा गर्मियाँ और बाढ़ें, ऐसे जलवायु ख़तरे हैं जिनका सामना दुनिया, वैश्विक तापमान वृद्धि के कारण, अगले दो दशकों तक करेगी...