मध्य पूर्व

सीरिया: 10 साल के दौरान, औसतन हर आठ घण्टे में एक बच्चा हताहत

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष – यूनीसेफ़ ने कहा है कि सीरिया में, 10 वर्ष से चल रहे गृहयुद्ध के कारण, देश के लगभग 90 प्रतिशत बच्चों को मदद की ज़रूरत है, क्योंकि हिंसा, आर्थिक मुसीबतों और कोविड-19 महामारी ने, परिवारों को गहरी मायूसी के कगार पर धकेल दिया है. एजेंसी के अनुसार, पिछले 10 वर्षों के दौरान, गृहयुद्ध में, औसतन हर आठ घण्टे में, एक बच्चा हताहत हुआ है.

सीरिया: हिंसक संघर्ष, दस वर्ष बाद भी एक भयावह सपना

 संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गेटरेश ने सीरिया में गृहयुद्ध के राजनैतिक हल की तलाश के लिये, यूएन के दृढ़ संकल्प को रेखांकित किया है. उन्होंने, बुधवार को, यूएन के न्यूयॉर्क स्थित मुख्यालय में पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए कहा कि पिछले एक दशक से जारी हिंसक संघर्ष, स्थानीय आबादी के लिये एक “जीवित दुस्वप्न” बनकर रह गया है.     

इराक़: पोप की यात्रा, 'शान्ति, धार्मिक समरसता व इनसानी सहनशीलता का सन्देश'

संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष सांस्कृतिक अधिकारी ऑड्री अज़ूले ने कहा है कि ईसाइयों के धर्मगुरू पोप फ्रांसिस की इराक़ के उत्तरी क्षेत्र में स्थित एक प्राचीन चर्च में प्रार्थना करने के लिये ऐतिहासिक यात्रा करना, विश्व के लिये एक स्पष्ट सन्देश दर्शाता है कि तमाम धर्मों के अनुयाइयों के बीच समरसता और एकजुटता ही, मानवता की प्रगति व आगे बढ़ने का एकमात्र रास्ता है. 

पोप फ़्रांसिस की इराक़ यात्रा, ‘शान्ति का प्रतीक’ 

संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक एवँ सांस्कृतिक संगठन (यूनेस्को) ने कहा है कि पोप फ़्रांसिस का इराक़ी शहर मोसुल का दौरा, आशा का प्रतीक होगा और शान्ति व एकता के लिये एक साथ आने का अवसर प्रदान करेगा. पोप फ़्रांसिस, शुक्रवार को इराक़ की राजधानी बग़दाद पहुँचे हैं, और उनका रविवार को मोसुल जाने का कार्यक्रम है.

यमन: मानवीय सहायता के लिये धनराशि का वादा ‘निराशाजनक’ 

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने यमन के लिये मानवीय राहत का इन्तज़ाम करने के लिये आयोजित 'सहायता राशि संकल्प सम्मेलन' के नतीजे को निराशाजनक क़रार दिया है. यूएन प्रमुख ने बताया कि पिछले वर्ष की मानवीय राहत कार्रवाई की तुलना में आधी संख्या में ही संकल्प व्यक्त किये गए हैं और संकल्प की धनराशि, वर्ष 2019 के आँकड़े की तुलना में एक अरब डॉलर कम है. 

सीरिया: जेलों में बन्द लाखों आम लोगों का भाग्य अब भी अनिश्चित

संयुक्त राष्ट्र के जाँचकर्ताओं ने कहा है कि सीरिया में गृहयुद्ध को 10 वर्ष से भी अधिक समय हो चुका है, लेकिन अब भी वहाँ की कुख्यात जेलों या बन्दीगृहों में रखे गए, लाखों आम लोगों का भविष्य और भाग्य स्पष्ट नहीं है.

सीरियाई शिविर में आग लगने की घटना चिन्ताजनक – बच्चों की स्वदेश वापसी का आग्रह 

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने आग्रह किया है कि सीरिया में विस्थापितों के लिये बनाए गए सबसे बड़े शिविर में रह रहे बच्चों को, उनकी राष्ट्रीयता वाले देशों में सुरक्षित व गरिमामय ढँग से वापिस भेजा जाना होगा. अल-होल शिविर में इस सप्ताहान्त आग लगने की घटना में कम से कम तीन बच्चों की मौत हो गई और 15 अन्य घायल हुए हैं.

सीरिया: आर्थिक बदहाली, फैलती भुखमरी, बढ़ती मानवीय राहत ज़रूरतें

सीरिया की अर्थव्यवस्था एक बेहद कठिन दौर से गुज़र रही है और पिछले डेढ़ वर्षों में, देश ने आर्थिक मोर्चे पर अनेक झटकों का सामना किया है. संयुक्त राष्ट्र में आपात राहत मामलों के समन्वयक मार्क लोकॉक ने गुरुवार को सुरक्षा परिषद को, हालात से अवगत कराते हुए बताया कि सीरियाई मुद्रा के लुड़कने और बेरोज़गारी बढ़ने से स्थानीय लोगों के लिये बुनियादी आवश्यकताओं को पूरा करना संघर्षपूर्ण साबित हो रहा है. 

ईरान: परमाणु निरीक्षण जारी रखने के लिये अस्थाई सहमति

संयुक्त राष्ट्र द्वारा समर्थित अन्तरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जी एजेंसी (IAEA) ने ईरान के साथ एक अस्थाई समझौता किया है जिसके तहत, उसके परमाणु कार्यक्रम का निरीक्षण जारी रखा जा सके. एजेंसी के महानिदेशक रफ़ाएल मारियानो ग्रॉस्सी ने रविवार को वियेना में, एक प्रेस सम्मेलन में ये घोषणा की.

एक करोड़ से ज़्यादा सीरियाई नागरिकों को नहीं मिलता भरपेट भोजन - WFP

एक दशक पुराने हिंसक संघर्ष से पीड़ित सीरिया में, कुल आबादी का लगभग 60 फ़ीसदी हिस्सा – एक करोड़ 24 लाख लोग - खाद्य असुरक्षा का शिकार है, यानी उन्हें पर्याप्त भोजन उपलब्ध नहीं है. विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) की एक नई रिपोर्ट दर्शाती है कि देश में पिछले एक वर्ष में बुनियादी खाद्य वस्तुओं की क़ीमतों में 250 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है और मौजूदा हालात में वर्ष 2021 में बहुत से परिवारों के लिये पर्याप्त भोजन का इन्तज़ाम कर पाना मुश्किल होगा.