मध्य पूर्व

कोविड-19 महामारी से यमन में मानवीय संकट और गहराया

पिछले कई वर्षों से युद्ध से बदहाल यमन में वैश्विक महामारी कोविड-19 का फैलाव पहले से ही गम्भीर हालात को और विकट बना सकता है. देश में स्वास्थ्य सेवाएँ चरमरा रही हैं और अतिरिक्त वित्तीय मदद के अभाव में वे ढह जाँएगी. मानवीय राहत मामलों में समन्वय के संयुक्त राष्ट्र कार्यालय ने यह चेतावनी शुक्रवार को जारी की है.

मध्य पूर्व: इसराइली एकतरफ़ा कार्रवाई के ख़िलाफ़ चेतावनी

मध्य पूर्व के लिए संयुक्त राष्ट्र के विशेष शान्ति दूत निकोलाय म्लादेनॉफ़ ने पश्चिमी तट के कुछ हिस्सों को इसराइल द्वारा फिर से छीने जाने की कार्रवाई सहित किसी भी प्रकार की एकतरफ़ा कार्रवाई के ख़िलाफ़ बुधवार को कड़ी चेतावनी जारी की है. उन्होंने सुरक्षा परिषद को जानकारी देते बताया कि ऐसी किसी भी कार्रवाई से फ़लस्तीन और इसराइल को वार्ता की मेज़ पर वापिस लाने के कूटनैतिक प्रयास कमज़ोर होंगे.  

सीरिया: 'भरोसे और विश्वास की पुनर्बहाली व सहयोग खोल सकते हैं प्रगति का रास्ता'

सीरिया के लिए संयुक्त राष्ट्र के दूत गियर ओ पैडरसन ने कहा है कि नए भरोसे, विश्वास और अन्तरराष्ट्रीय पक्षों व सीरियाई लोगों के बीच सहयोग से आख़िरकार प्रगति का रास्ता खोला जा सकता है जिससे देश एक टिकाऊ शान्ति की तरफ़ जाने वाले रास्ते पर अग्रसर हो सकता है. विशेष दूत ने सोमवार को एक खुली वीडियो कॉन्फ्रेन्सिन्ग के ज़रिए सुरक्षा परिषद के सामने ये बात रखी.

लैगो रोबोट की हाथ सफ़ाई

जॉर्डन के ज़ैतारी शरणार्थी शिविर में नवीकरण का इस्तेमाल करके एक ऐसा लैगो रोबोट बनाया गया है जो हाथ लगाए बिना ही लोगों की हाथ सफ़ाई में मदद करता है. संक्रमण का फैलाव रोकने के प्रयासों के तहत इस तकनीक को ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक पहुँचाया जा रहा है. देखें वीडियो...

'इराक़ को तुच्छ राजनीति के दलदल से निकलकर रचनात्मक बनना होगा'

इराक़ में संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष अधिकारी जीनिन हैनिस प्लैसशाएर्ट ने कहा है कि इराक़ में कोविड-19 महामारी और घटते तेल भंडारों जैसे जटिल संकटों के बावजूद अगर राजनैतिक इच्छाशक्ति से काम लिया जाए तो देश को ज़्यादा ख़ुशहाल और समावेशी बनाया जा सकता है. इराक़ दूत ने देश के ताज़ा हालात की जानकारी देते हुए मंगलवार को सुरक्षा परिषद की एक वर्चुअल बैठक में ये बात कही.

इसराइल संचालित जेलों में बन्दी फ़लस्तीनी बच्चों की रिहाई की पुकार

मध्य पूर्व क्षेत्र में संयुक्त राष्ट्र के तीन बड़े अधिकारियों ने इसराइल द्वारा संचालित जेलों में बन्द फ़लस्तीनी बच्चों को रिहा करने का आहवान किया है. उनका कहना है कि मौजूदा हालात में उन बच्चों का कोविड-19 महामारी के संक्रमण में आने की बहुत ज़्यादा आशंका है. इनका कहना है कि मार्च के अन्त तक के आँकड़ों के अनुसार 194 फ़लस्तीनी बच्चों को बन्दी बनाकर इसराइल द्वारा संचालित जेलों में रखा गया था.

सीरिया में 'टाइम बम' जैसे हालात, 'और उपेक्षा ना करे दुनिया'

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त (OHCHR) मिशेल बाशेलेट ने शुक्रवार को चिंता जताई है इस्लामिक स्टेट (दाएश) सहित हिंसा में शामिल कुछ पक्ष कोविड-19 महामारी का इस्तेमाल फिर से संगठित होने और आम आबादी को निशाना बनाने के लिए कर रहे हैं. सीरिया में हिंसा में हताहत होने वाले आम लोगों की बढ़ती संख्या और मानवाधिकार हनन के मामल निर्बाध गति से जारी रहने के बीच उन्होंने यह बात कही है.    

कोविड-19: 'साझा दुश्मन' से लड़ाई में सहयोग से खुल सकता है शांति का रास्ता

विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 से निपटने के प्रयासों में आपसी सहयोग से इसराइल और फ़लस्तीन के लिए ऐसे अवसरों का सृजन संभव है जिन्हें अपनाकर दोनों पक्ष मध्यपूर्व में शांति स्थापित करने और दशकों से चले आ रहे विवाद पर विराम लगाने में कर सकते हैं. मध्यपूर्व शांति वार्ता के लिए यूएन के विशेष समन्वयक निकोलय म्लादेनॉफ़ ने गुरुवार को वीडियो कान्फ़्रेंसिंग ज़रिए सुरक्षा परिषद को क्षेत्र में हालात से अवगत कराते हुए यह बात कही है. 

'यमन दो मोर्चों पर युद्ध नहीं लड़ सकता'

यमन में वैश्विक महामारी कोविड-19 के और ज़्यादा गंभीर होते जाने के कारण अब बिल्कुल सही वक़्त है कि युद्धरत पक्ष अपनी अदावत ख़त्म करके लड़ाई बन्द कर दें. यमन के लिए संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने गुरूवार को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के ज़रिए सुरक्षा परिषद की एक अनौपचारिक बैठक में कही.  

यूनिफ़िल में भारतीय दल की पहल

लेबनान में संयुक्त राष्ट्र का अंतरिम बल - यूनिफ़िल दुनियाभर के उन सभी डॉक्टरों और नर्सों का सम्मान करता है, जो कोविड-19 के ख़िलाफ़ जंग लड़ रहे हैं. यूनिफ़िल ने भी स्थानीय समुदाय की मदद करने के सटीक उपाय किए हैं. देखिए इस वीडियो में...