नवीनतम समाचार

कोरोनावायरस के ख़तरे पर स्वास्थ्य विशेषज्ञों की गहन चर्चा जारी

चीन में नॉवल कोरोनावायरस फैलने से उपजी चिंता के बीच स्विट्ज़रलैंड के जिनीवा शहर में  विश्व स्वास्थ्य संगठन की आपात समिति की बुधवार को हुई  बैठक बेनतीजा रही है. देर शाम तक चली इस बैठक में कोरोनावायरस को अंतरराष्ट्रीय चिंता वाली सार्वजनिक स्वास्थ्य एमरजेंसी घोषित करने पर फ़ैसला लिया जाना था. अब इस विषय पर गुरुवार को फिर विचार-विमर्श होगा.

ऐमेज़ॉन सीईओ के फ़ोन हैकिंग मामले की जांच की मांग

संयुक्त राष्ट्र के दो स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने ‘द वॉशिंगटन पोस्ट’ अख़बार के मालिक जैफ़ बेज़ोस के आईफ़ोन को हैक किए जाने के आरोपों पर गहरी चिंता जताई है. रिपोर्टों के मुताबिक़ हैकिंग के लिए सऊदी युवराज मोहम्मद बिन सलमान के व्हॉट्सएप अकाउंट का इस्तेमाल किया गया. यूएन विशेषज्ञों ने इस मामले की गंभीरता को देखते हुए अमेरिका में स्थानीय प्रशासन द्वारा जांच कराए जाने की अपील की है.

वैश्विक भविष्य पर मंडराते ख़तरों पर पार पाने के लिए नए समाधान

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने वर्ष 2020 के लिए अपनी प्राथमिकताएँ पेश करते हुए कहा है कि 21वीं सदी की समस्याओं से निपटने के लिए 21वीं सदी के ही समाधानों का सहारा लेना ज़रूरी है. यूएन प्रमुख ने बुधवार को सदस्य देशों को संबोधित करते हुए भू-रणनीतिक तनाव, जलवायु संकट, वैश्विक भरोसे के अभाव और टैक्नोलॉजी के नकारात्मक पहलुओं को नए दशक की बड़ी चुनौतियां क़रार दिया है.

दो तिहाई आबादी है 'असमान', व्यापक सुधार की ज़रूरत

संयुक्त राष्ट्र की एक ताज़ी रिपोर्ट में कहा गया है कि दुनिया भर की लगभग 70 प्रतिशत जनसंख्या के लिए विषमता बढ़ रही है जिससे समाजों में दरारें पड़ने और आर्थिक व सामाजिक विकास के बाधित होने का जोखिम बढ़ रहा है. मंगलवार को जारी विश्व सामाजिक रिपोर्ट 2020 संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक व सामाजिक मामलों के विभाग (डेसा) ने प्रकाशित की है.

'अच्छा स्वास्थ्य सबका मानवधिकार, केवल अमीरों का विशेषाधिकार नहीं'

संयुक्त राष्ट्र ने कहा है कि अच्छा स्वास्थ्य पाने का अधिकार सभी लोगों को है और ये केवल धनी लोगों का विशेषाधिकार नहीं हो सकता. यूएन एड्स ने सरकारों का आहवान किया है कि तमाम लोगों के अच्छा स्वास्थ्य रखने के अधिकार को वास्तविक रूप देने के लिए स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में सरकारी धन निवेश को प्राथमिकता देनी होगी.

पत्रकारों के लिए दुनिया में हर स्थान है जोखिम भरा

दुनिया भर में लोक हित के लिए आवाज़ बुलन्द करने वाले पत्रकारों को सभी स्थानों पर बहुत जोखिम का सामना करना पड़ रहा है और पत्रकारों की असुरक्षा के मामले में सबसे ज़्यादा ख़तरनाक़ लैटिन अमेरिका और कैरीबियाई क्षेत्र रहे जहाँ साल 2019 में 22 पत्रकारों की हत्याएँ हुईं. इस तरह प्रेस के लिए ये सबसे ज़्यादा ख़तनाक़ स्थान रहे. उनके बाद एशिया-प्रशांत में 15 ओर अरब देशों में 10 पत्रकारों की हत्याएं हुईं.

'तंबाकू सेवन ऑपरेशन में भी जटिलताएँ पैदा कर सकता है'

विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक ताज़ा रिपोर्ट में कहा गया है कि धूम्रपान किसी मरीज़ की रोग प्रतिरोधी क्षमता को गहराई से प्रभावित करता है और ना सिर्फ़ घाव के भरने में देरी कर सकता है बल्कि घाव में संक्रमण का जोखिम भी बढ़ाता है.

50 करोड़ लोगों को नहीं मिल पाता समुचित मेहनताना

दुनिया भर में 50 करोड़ से भी ज़्यादा ऐसे लोग हैं जिन्हें कामकाज करने के बदले धन मिलने वाली स्थिति में उतना काम नहीं मिल पाता जितना वो करना चाहते हैं या फिर उन्हें ऐसा समुचित कामकाज ही नहीं मिल पाता है जिसमें उन्हें काम के बदले धन मिल सके.

सरकारी शिक्षा ख़र्च में 'शर्मनाक विषमताओं" को दूर करने की पुकार

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष – यूनीसेफ़ की एक ताज़ा रिपोर्ट में कहा गया है कि ग़रीब परिवारों की एक तिहाई किशोरी लड़कियों को कभी स्कूली शिक्षा की सुविधा हासिल नहीं हुई और शिक्षा पर ख़र्च धनी परिवारों की तरफ़ भारी रूप में झुका हुआ है.

पूर्व महासचिव पेरेज़ डी कुएइए को 100वें जन्म दिवस पर बधाई

संयुक्त राष्ट्र के पाँचवें महासचिव जेवियर पेरेज़ डी कुएइए ने रविवार 19 जनवरी 2020 को अपना 100वाँ जन्म दिवस मनाया. पेरेज़ डी कुएइए का संयुक्त राष्ट्र के साथ बिल्कुल पहला कामकाज महासभा की 1946 में हुई बैठक के साथ शुरू हुआ था.