नवीनतम समाचार

जलवायु इमरजेंसी से विश्व शांति को ख़तरा

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने टिकाऊ और शांतिपूर्ण विश्व के निर्माण के लिए तत्काल जलवायु कार्रवाई की अहमियत को रेखांकित किया है ताकि पर्यावरण और मानव सुरक्षा व कल्याण को उपज रहे ख़तरों की रोकथाम हो सके. न्यूयॉर्क में शुक्रवार को एक शांति सभा संबोधित करते हुए महासचिव गुटेरेश ने आगाह किया है कि मौजूदा दौर में विश्व शांति के समक्ष नई चुनौतियां पैदा हो रही हैं जिनसे तत्काल निपटा जाना ज़रूरी है.

इंटरव्यू: शांति और पृथ्वी की हिफ़ाज़त के लिए ज़रूरी कार्रवाई करने की पुकार

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने विश्व नेताओं से दुनिया के सामने तमाम नाटकीय समस्याओं का समाधान निकालने के लिए आवश्यक कार्रवाई करने का आहवान किया है. महासचिव ने संयुक्त राष्ट्र के 74वें शुरू होने के अवसर पर यूएन समाचार के साथ एक ख़ास इंटरव्यू में ये पुकार लगाई है.

सीरिया के इदलिब में संघर्षविराम पर सुरक्षा परिषद सहमति से दूर

सीरिया के इदलिब प्रांत में सरकारी सुरक्षा बलों और विद्रोहियों के बीच चल रही लड़ाई को रोकने के लिए सुरक्षा परिषद में गुरूवार को दो प्रस्ताव लाए गए लेकिन दोनों ही पारित नहीं हो पाए. लंबे समय से गृहयुद्ध से जूझ रहे सीरिया के इदलिब प्रांत में विद्रोहियों का व्यापक दबदबा है जिसे तोड़ने के लिए सुरक्षा बल अभियान चला रहे हैं लेकिन इससे बड़ी संख्या में लोग विस्थापन का शिकार हुए हैं और वहां मानवीय संकट खड़ा हो गया है.

संयुक्त राष्ट्र महासभा: इन पांच सम्मेलनों पर रहेगी नज़र

एक बार फिर वही समय आ गया है सितंबर महीने का जब पूरी दुनिया की नज़रें न्यूयॉर्क स्थित संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय पर आकर टिकती हैं. मौक़ा होता है महासभा के वार्षिक सत्र का जिसमें विश्व के नेता जनरल डीबेट में शिरकत करने के लिए मुख्यालय पहुँचते हैं. इस साल परपंरागत रूप में देशों के प्रतिनिधियों के संबोधन के अलावा पाँच अति महत्वपूर्ण सम्मेलन व उच्च स्तरीय बैठकें भी आयोजित हो रहे हैं जिनमें मौजूदा समय के महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा होगी.

प्रसव के दौरान मौतों के मामलों में गिरावट लेकिन चुनौती बरक़रार

संयुक्त राष्ट्र की एक नई रिपोर्ट दर्शाती है कि प्रसव के दौरान गर्भवती महिलाओं और बच्चों की मौतों के मामलों में पिछले दो दशकों के दौरान बड़ी गिरावट दर्ज की गई है लेकिन अब भी हर 11 सेकेंड में एक गर्भवती महिला या उसके शिशु की मौत होती है. अधिकांश मौतें जिन कारणों से होती हैं उनकी रोकथाम की जा सकती है. स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि वर्ष 2000 की तुलना में स्थिति में सुधार सुलभ और क़िफ़ायती स्वास्थ्य सेवाओं के ज़रिए संभव हो पाया है.

जलवायु संकट से निपटने के प्रयासों को मज़बूती देगी नई रिपोर्ट

संयुक्त राष्ट्र उपमहासचिव आमिना जे. मोहम्मद ने 23 सितंबर को जलवायु शिखर वार्ता के लिए न्यूयॉर्क में विश्व नेताओं के आगमन से पहले एक रिपोर्ट जारी की है जो बताती है कि जलवायु परिवर्तन की गति कम करने के लिए दुनिया किस तरह सार्थक और त्वरित क़दम उठा सकती है. बताया गया है कि इस रिपोर्ट से यह समझने में मदद मिलेगी कि जलवायु शिखर वार्ता में नेता ठोस समाधान साथ लाए हैं या फिर सिर्फ़ भाषणों के साथ यहां एकत्र हुए हैं.

जलवायु कार्रवाई और टिकाऊ विकास पर महत्वांकाक्षी कार्रवाई की पुकार

न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा के वार्षिक सत्र के उच्चस्तरीय खंड की शुरुआत से पहले यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश कहा है कि सत्र के दौरान होने वाली पांच महत्वपूर्ण बैठकों के ज़रिए सदस्य देश जलवायु संकट और अन्य वैश्विक चुनौतियों का समाधान ढूंढने का प्रयास करेंगे. यूएन प्रमुख के मुताबिक़ इन पांच अहम बैठकों का होना दर्शाता है कि संयुक्त राष्ट्र विश्व में किस तरह एक अर्थपूर्ण और सकारात्मक बदलाव लाने में अग्रणी भूमिका निभा रहा है.

संयुक्त राष्ट्र महासभा का 74वाँ वार्षिक सत्र शुरू

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि महासभा के 74वें सत्र के लिए अध्यक्ष तिजानी मोहम्मद-बांडे के पास वर्षों तक यूएन के साथ काम करने का अनुभव है. यूएन महासभा के नए अध्यक्ष ने ग़रीबी उन्मूलन, जलवायु कार्रवाई, गुणवत्तापरक शिक्षा और समावेशन को अपनी प्राथमिकताओं में शुमार करते हुए मंगलवार को परंपरा के अनुरूप हथौड़े की चोट के ज़रिए अपना एक वर्ष का कार्यकाल शुरू किया है.

प्रवासी संख्या में जनसंख्या वृद्धि की गति से भी तेज़ बढ़ोत्तरी

दुनिया भर में अंतरराष्ट्रीय प्रवासियों की संख्या बढ़कर 27 करोड़ 20 लाख हो गई है जिसने विश्व  की जनसंख्या वृद्धि की दर को भी पीछे छोड़ दिया है. संयुक्त राष्ट्र आर्थिक एवं सामाजिक मामलों के विभाग (UNDESA) की नई रिपोर्ट के अनुसार दुनिया के हर क्षेत्र में प्रवासियों की संख्या बढ़ने का रुझान सामने आ रहा है.

मरीज़ों के स्वास्थ्य की सुरक्षित देखभाल सर्वोपरि

असुरक्षित ढंग से मरीज़ों की देखरेख किए जाने की वजह से प्रति मिनट कम से कम पांच लोगों की मौत हो जाती है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने स्थिति की गंभीरता को देखते हुए स्वास्थ्यकर्मियों, नीत-निर्धारकों, स्वास्थ्य देखरेख के काम में जुटे लोगों से मरीज़ों की समुचित तरीक़े से देखभाल करने की पुकार लगाई है ताकि इलाज कराते समय ख़तरों की रोकथाम हो सके. मंगलवार, 17 सितंबर, को ‘मरीज़ सुरक्षा दिवस’ मनाया जा रहा है.