नवीनतम समाचार

बेरूत: विस्फोट से शरणार्थियों पर भी असर, राहत कार्य में तेज़ी

लेबनान की राजधानी बेरूत के बन्दरगाह पर एक सप्ताह पहले हुए भीषण विस्फोट में अनेक शरणार्थी भी हताहत हुए हैं. शरणार्थी मामलों की संयुक्त राष्ट्र एजेंसी (UNHCR) ने मंगलवार को बताया कि अब तक कम से कम 34 शरणार्थियों की मौत होने की पुष्टि हो चुकी है लेकिन यह संख्या और बढ़ने की आशंका है. 124 शरणार्थी घायल हुए हैं जिनमें 20 की हालत गम्भीर बताई गई है जबकि सात अन्य लापता हैं.

कोविड-19: युवा पीढ़ी के लिए शिक्षा व रोज़गार के अवसरों पर संकट का साया 

अन्तरराष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) का एक नया विश्लेषण दर्शाता है कि विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 से युवाओं की शिक्षा व प्रशिक्षण के अवसरों पर तबाहीपूर्ण असर पड़ा है जिससे विषमताएँ गहरी हो रही हैं और एक पूरी पीढ़ी की सम्भावनाओं पर जोखिम मँडरा रहा है. महामारी की शुरुआत से अब तक शिक्षा और पढ़ाई-लिखाई के साथ-साथ कामकाज में जुटे 70 फ़ीसदी से ज़्यादा युवा स्कूल, विश्वविद्यालय और प्रशिक्षण केंद्र बन्द होने से बुरी तरह प्रभावित हुए हैं.

कोविड-19: पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान में फिर शुरू हुआ पोलियो टीकाकरण अभियान

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने कहा है कि विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 से टीकाकरण अभियानों में आए व्यवधान के बाद पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान में पोलियो उन्मूलन अभियान फिर से शुरू हो गए हैं. महामारी के कारण पोलियो टीकाकरण कार्यक्रमों की रफ़्तार थमने से लगभग पाँच करोड़ बच्चे पोलियो वैक्सीन की खुराक तक पहुँच से दूर थे और दोनों देशों में पोलियो के नए मामले सामने आए थे. 

कोविड-19: प्रवासी कामगारों की मदद के लिए नए दिशा-निर्देश

विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 के ख़िलाफ़ सामूहिक जवाबी कार्रवाई के तहत प्रवासी कामगार अग्रिम मोर्चों पर डटे हैं लेकिन वे अनेक चुनौतियों का भी सामना कर रहे हैं. मौजूदा हालात के मद्देनज़र अन्तरराष्ट्रीय प्रवासन संगठन (IOM) और इन्टरनेशनल चैम्बर ऑफ़ कॉमर्स ने नियोक्ताओं (Employers) के लिए नए दिशा-निर्देश तैयार किए हैं ताकि प्रवासी कामगारों को सहायता प्रदान करने के लिए उपायों को अपनाया जा सके. 

बेरूत विस्फोट: लेबनान को हरसम्भव सहायता का संकल्प

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने लेबनान में पिछले सप्ताह हुए भीषण विस्फोट के बाद स्थानीय जनता के साथ एकजुटता ज़ाहिर करते हुए भरोसा दिलाया है कि यूएन और उसके साझीदार संगठन प्रभावितों तक आपात राहत पहुँचाने के काम में दिन-रात जुटे हैं.  यूएन प्रमुख ने विस्फोट के कारणों की तह तक जाने व जवाबदेही तय करने के लिए घटना की विश्वसनीय व पारदर्शी जाँच कराए जाने का आग्रह किया है.

कोविड-19: महामारी के ख़िलाफ़ लड़ाई में ‘उम्मीद की किरण’

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने चेतावनी भरे अन्दाज़ में कहा है कि कोरोनावायरस संक्रमण के पुष्ट मामलों की संख्या इस सप्ताह दो करोड़ का आँकड़ा पार कर जाने की सम्भावना है. यूएन एजेंसी प्रमुख ने ध्यान दिलाया कि बहुत से देशों को महामारी पर क़ाबू पाने में काफ़ी हद तक सफलता भी मिली है जो इस लड़ाई में आशा का संचार करता है और फैलाव पर क़ाबू पाने में बुनियादी स्वास्थ्य उपायों की अहमियत को रेखांकित करता है. 

कोविड-19 के दौर में आदिवासी लोगों की सहनशीलता की तरफ़ ध्यान

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि कोविड-19 महामारी का मुक़ाबला करने के प्रयासों में दुनिया भर में रह रहे लगभग 47 करोड़ 60 लाख आदिवासी लोगों कों शामिल करना और उनकी भागीदारी सुनिश्चित करना  बहुत ज़रूरी है. 

नागासाकी: जीवितों का साहस बने परमाणु हथियारों के उन्मूलन की प्रेरणा

संयुक्त राष्ट्र महासचिव  एंतोनियो गुटेरेश ने जापान के नागासाकी शहर में परमाणु हमले के 75 वर्ष पूरे होने के अवसर पर हीमाकुशा लोगों के साहस और सहनशील नज़रिये की सराहना की है. उस परमाणु हमले में जीवित बचे लोगों को हीबाकुशा कहा जाता है. 

लेबनान विस्फोट: 'त्वरित कार्रवाई से ही तकलीफ़ें कम की जा सकेंगी'

संयुक्त राष्ट्र की उप महासचिव आमिना जे मोहम्मद ने कहा है कि लेबनान को विस्फोक से उत्पन्न हुए संकट उबरने और बेहतर तरीक़े से पुनर्निर्माण करने के लिये “हम सभी को एकजुट होने की ज़रूरत होगी”. रविवार को दानदाताओं के एक वर्चुअल सम्मेलन में आमिना जे मोहम्मद ने ये पुकार लगाई.

लेबनान को तत्काल सहायता मुहैया कराने में लगीं यूएन एजेंसियाँ

लेबनान की राजधानी बेरूत में मंगलवार को हुए घातक बम विस्फोट हज़ारों लोग घायल हुए और लाखों लोगों को बेघर भी होना पड़ा, तबाही के स्तर को देखते हुए, संयुक्त राष्ट्र ने प्रभावितों के लिये राहत कार्य तत्काल और बहुत तेज़ी से शुरू किये. संयुक्त राष्ट्र की विशेषीकृत एजेंसियों का व्यापक नैटवर्क एक जुट होकर राजधानी बेरूत में प्रभावित लोगों की मदद करने में लग गया है ताकि लोगों को फिर से उनके पैरों पर खड़ा किया जा सके. अगर आप भी बेरूत के लोगों की मदद करने के बारे में सोच रहे हैं तो हमने यहाँ यूएन एजेंसियों द्वारा किये जा रहे सहायता व राहत कार्यों के बारे में कुछ विवरण प्रस्तुत किया है और आप चाहें तो किस तरह योगदान कर सकते हैं.