वैश्विक

नफ़रत ‘हर एक के लिए खतरनाक है’, नफ़रत को समाप्त करने के लिए एकजुट प्रयासों का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतॉनियो गुटेरेश ने कहा है कि सभी धर्मों और मतों के श्रद्धालुओं के प्रति असहिष्णुता और नफ़रत से प्रेरित हिंसा एक बेहद चिंताजनक रुझान है और, इससे पहले कि बहुत देर हो जाए, इस पर तुरंत क़ाबू पाया जाना बहुत ज़रूरी.

चीन के बेल्ट एंड रोड फोरम में गुटेरेश ने टिकाऊ विकास के लिए हिमायत की

संयुक्त राष्ट्र महासचिव अंतॉनियो गुटेरेश ने कहा है कि चीन की अंतरराष्ट्रीय व्यापार और आर्थिक विकास योजना (बेल्ट एंड रोड इनीशिएटिव) अधिक समतामूलक व समृद्ध विश्व के निर्माण में योगदान दे सकती है और जलवायु परिवर्तन के नकारात्मक असर को पलट सकती है.

विश्‍व मलेरिया दिवस पर संयुक्‍त राष्‍ट्र स्‍वास्‍थ्‍य एजेंसी का आग्रह ''शून्य मलेरिया की शुरुआत मुझ से''

मलेरिया से संघर्ष में तक निरन्‍तर प्रगति एक दशक से भी अधिक समय के बाद थम सी गई है। इसलिए इस वर्ष विश्‍व मलेरिया दिवस पर विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन जमीनी स्‍तर पर एक अभियान को समर्थन दे रहा है जिससे मलेरिया की रोकथाम और देखभाल में सुधार के लिए समुदायों को सशक्‍त करने तथा कार्रवाई एवं जिम्‍मेदारी देशों को सौंपने पर बल दिया जा सके।

टीकाकरण से तैयार हो सकता है - ख़सरा जैसे रोग के प्रकोप से ‘प्रतिरक्षा का कवच’

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनीसेफ़) ने बुधवार को कहा कि वर्ष 2010 और 2017 के बीच औसतन दो करोड़ 11 लाख करोड़ बच्चों को ख़सरा का पहला टीका नहीं लगा. संगठन ने इस टीके का महत्व बताते हुए कहा कि इससे ख़सरा जैसे रोग से ‘प्रतिरक्षा का कवच’ तैयार हो सकता है. 

इस प्रथम अंतर्राष्‍ट्रीय दिवस पर बहुपक्षवाद के सिद्ध सेवा रिकॉर्ड पर फोकस

संयुक्‍त राष्‍ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेश ने बुधवार को पहली बार अंतर्राष्‍ट्रीय बहुपक्षवाद दिवस आयोजन के अवसर पर कहा, ''अंतर्राष्‍ट्रीय बहुपक्षवाद एवं शांति राजनय दिवस के आयोजन से सबकी भलाई के लिए अंतर्राष्‍ट्रीय सहायोग का महत्‍व उजागर होता है।'' 

मलेरिया से मुक़ाबले के प्रयासों को नए टीके से मिली मज़बूती

मलेरिया की घातक बीमारी से निपटने के लिए 30 सालों से जिस टीके को विकसित किया जा रहा था उसे पहली बार मलावी में नवजात शिशुओं को लगाया गया. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इसे नवप्रवर्तन (इनोवेशन) में मील का पत्थर करार दिया है.

संघर्ष के दौरान और उसके बाद महिला अधिकारों की रक्षा ज़रूरी

लड़ाई के दौरान यौन हिंसा से अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा पर पड़ने वाले असर के विनाशकारी प्रभावों को समझने में हाल के दशक में बड़ा बदलाव आया है. सुरक्षा परिषद में मंगलवार को इस मुद्दे पर उच्चस्तरीय चर्चा के दौरान संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा कि यौन हिंसा और ऐसे अपराधों की तत्काल रोकथाम होनी चाहिए और दंडमुक्ति की संस्कृति को हटा कर दोषियों की जवाबदेही तय होनी ज़रूरी है.

मूल निवासियों की 'धरोहर के केंद्र में है पारंपरिक ज्ञान'

पारंपरिक ज्ञान दुनिया भर में मूल निवासी समुदायों की पहचान, संस्कृति और धरोहर के केंद्र में है. मूल निवासियों के मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र की स्थायी फ़ॉरम की प्रमुख एन नुओरगम ने कहा कि इनकी हर हाल में रक्षा की जानी चाहिए.

जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए हरसंभव प्रयास पर ज़ोर

अंतरराष्ट्रीय पृथ्वी दिवस पर संयुक्त राष्ट्र महासभा में दुनिया में सभी के लिए टिकाऊ और न्योयचित भविष्य के निर्माण का सर्वश्रेष्ठ रास्ता तलाशने पर चर्चा हुई. इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए शिक्षा और जलवायु कार्रवाई को बढ़ावा देने अहम माना गया है. जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए इस साल सितंबर में न्यूय़ॉर्क में अंतरराष्ट्रीय शिखर वार्ता होनी है.

काम के तनाव, ओवरटाइम और बीमारियों से हर साल 28 लाख मौतें

कार्यस्थलों पर असुरक्षित और स्वास्थ्य के लिए हानिकारक माहौल, ज़्यादा तनाव, काम करने के लंबे घंटों और बीमारियों की वजह से हर साल 28 लाख कामगारों की मौत होती है. हर साल 37.4 करोड़ लोग नौकरी से जुड़ी वजहों के चलते या तो बीमार पड़ते हैं या फिर ज़ख़्मी होते हैं. अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन (ILO) की एक नई रिपोर्ट में ये तथ्य उभरकर सामने आए हैं.