वैश्विक

'वैश्विक प्रगति के लिए अहम है' महिला सशक्तिकरण

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर अपने संदेश में कहा है कि महिला सशक्तिकरण और लैंगिक समानता, वैश्विक प्रगति के लिए आवश्यक हैं.  महिलाओं और लड़कियों द्वारा किए जाने वाले अभिनव प्रयास लैंगिक समानता हासिल करने के लक्ष्य में बड़ी भूमिका निभा सकते हैं. 

अभिनव प्रयासों से खुल सकता है समानता का रास्ता

इस वर्ष अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस की विषय वस्तु “समान सोचें, स्मार्ट बनाएं, बदलाव के लिए अन्वेषण (इनोवेशन) करें” है. दुपहिया साइकिल से लेकर इंटरनेट तक, ऐसे कई साधनों ने महिलाओं के जीवन में बड़ा बदलाव लाने में अहम भूमिका निभाई है.  

नौकरियां पाने के लिए अब भी संघर्ष करती हैं महिलाएं

संयुक्त राष्ट्र श्रम विशेषज्ञों ने कहा है कि महिलाओं के लिए नौकरियों के अवसरों में 1990 के दशक की शुरुआत से अब तक कोई विशेष बेहतरी नहीं देखने को मिली है. उन्होंने सचेत किया है कि महिला कर्मचारियों को बच्चे पैदा करने और उनकी देखभाल  करने का ख़ामियाज़ा अब भी उठाना पड़ता है. 

असमानता से निपटे बिना बड़ी समस्याओं को सुलझाना कठिन

दुनिया में फैली असमानता, मानवाधिकारों के उल्लंघन के मामलों का सबसे बड़ा कारण बनी हुई है लेकिन कई देशों ने इस समस्या पर लगाम कसने में उल्लेखनीय सफलता भी दर्ज की है. संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त (OHCHR) मिशेल बाशलेट ने बुधवार को कहा कि महिलाओं के अधिकार सुनिश्चित करने की दिशा में भी प्रगति हो रही है.

एचआईवी संक्रमण से 'मुक्त' हुआ मरीज़, यूएन एजेंसी 'उत्साहित'

एड्स के अंत के लिए वैश्विक स्तर पर प्रयासों की अगुवाई कर रही संयुक्त राष्ट्र एजेंसी यूएनएड्स (UNAIDS) ने कहा है कि इलाज के बाद एक मरीज़ के 'एचआईवी संक्रमण से मुक्त' होने की ख़बर उत्साहजनक है लेकिन इस बीमारी को पूरी तरह जड़ से उखाड़ने के लिए अभी एक लंबा रास्ता तय करना है.  

नशीले पदार्थों के शौकिया इस्तेमाल से युवाओं को ख़तरा

कैनेबिस (भांग) के चिकित्सीय उपयोग पर लचर नियंत्रण इसके शौकिया  इस्तेमाल को बढ़ा सकता है जबकि आम लोगों को इसके दुष्प्रभावों के बारे में सही जानकारी ही नहीं है. नशीले पदार्थों पर नियंत्रण के लिए काम करने वाली संयुक्त राष्ट्र समर्थित संस्था, अंतरराष्ट्रीय नारकोटिक्स नियंत्रण बोर्ड (आईएनसीबी) ने अपनी नई रिपोर्ट में भांग और गांजे (मारिजुआना) के जोखिम के  प्रति सचेत किया है. 

'ख़ामोश हत्यारा' बन गया है वायु प्रदूषण

संयुक्त राष्ट्र द्वारा नियुक्त एक स्वतंत्र मानवाधिकार आयोग ने  कहा है कि दुनिया में छह अरब लोग नियमित रूप से प्रदूषित हवा में सांस लेने को मजबूर हैं जिससे उनके जीवन, स्वास्थ्य और कल्याण पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है. नवीनीकृत ऊर्जा का इस्तेमाल इस सदी के अंत तक 15 करोड़ जिंदगियों को बचाने में सहायक साबित हो सकता है.

लाख़ों विकलांग बच्चे झेल रहे हैं पीछे छूट जाने का ख़तरा

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बाशलेट ने कहा है कि विकलांगता का दंश झेल रहे 90 लाख से ज़्यादा बच्चों की सहायता के लिए देशों को और प्रयास करने होंगे. जिनिवा में मानवाधिकार परिषद के एक कार्यक्रम में उन्होंने चिंता जताई कि विकलांग बच्चों की आवाज़ नहीं सुनी जा रही है और ऐसे में उनके पीछे रह जाने की संभावना है.

संकट में है समुद्री जीवन

कई ख़तरों से जूझ रहे समुद्री जीवन पर ज़बरदस्त असर पड़ रहा है लेकिन उसके संरक्षण को सुनिश्चित करने के लिए निरंतर प्रयास हो रहे हैं. रविवार को 'विश्व वन्यजीव दिवस 2019' मनाया जा रहा है और यह पहली बार है जब इस दिवस के तहत समुद्री जीवन पर ध्यान आकृष्ट किया जा रहा है. 

टिकाऊ विकास लक्ष्य-5: लैंगिक समानता

लैंगिक असमानता, मानव इतिहास में अन्‍याय का एक सबसे निरन्‍तर और व्‍यापक रूप है. महिलाओं और लड़कियों को शिक्षा, स्वास्थ्य, कामकाज और राजनीतिक और आर्थिक प्रक्रिया में समान प्रतिनिधित्व दुनिया में बड़ा बदलाव लाने में अहम भूमिका निभा सकता है.  2030 टिकाऊ विकास एजेंडे का पांचवा लक्ष्य  महिलाओं के प्रति हर तरह के भेदभाव और हिंसा का अंत करने तथा उन्हें आर्थिक संसाधनों पर समान अधिकार सुनिश्चित करने पर केंद्रित है.