वैश्विक

संकट में संस्कृति: कोविड-19 के कारण कला जगत पर मंडराया ख़तरा

संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन (यूनेस्को) ने कहा है कि पूरे विश्व में 3 करोड़ से अधिक लोगों को रोज़गार देने वाले सांस्कृतिक क्षेत्र पर, कोरोनोवायरस महामारी के कारण अपेक्षा से अधिक मार पड़ी है. यूनेस्को से मुताबिक इस संकट से उबरने के लिये क्षेत्र को लक्षित नीतियों और कार्रवाई की ज़रूरत है.

कोविड-19 के नए रूप पर सख़्त निगरानी, ब्रिटेन से यात्राओं पर अनेक देशों में रोक

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रमुख ने कहा है कि दक्षिण अफ्रीका और ब्रिटेन में, कोरोनावायरस के जो अन्य प्रकार या रूप पाए गए हैं, उनके बारे में और ज़्यादा जानकारी हासिल करने के लिये, वैज्ञानिक काम पर जुटे हुए हैं. 

फल व सब्ज़ियाँ - स्वस्थ जीवन व टिकाऊ दुनिया के लिये हैं बहुत अहम

संयुक्त राष्ट्र ने, मानव स्वास्थ्य में पोषण और खाद्य सुरक्षा में, फल व सब्ज़ियों की बहुत अहम भूमिका के बारे में जानकारी बढ़ाने के इरादे से, वर्ष 2021 को फल व सब्ज़ियों का अन्तरराष्ट्रीय वर्ष घोषित किया है. इस अवसर पर टिकाऊ खाद्य उत्पादन बढ़ाने और खाद्य पदार्थों को कूड़े-कचरे में तब्दील होने से रोकने के लिये और ज़्यादा प्रयास करने का भी आहवान किया गया है.

कोविड-19: वैक्सीन की दो अरब ख़ुराकों की ख़रीदारी तय

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रमुख ने शुक्रवार को कहा है कि कोविड-19 महामारी का अन्त सामने नज़र आने लगा है, मगर साथ ही हमें ये नहीं भूलना होगा कि ऐहतियात अब भी बहुत ज़रूरी है. संगठन के महानिदेशक टैड्रॉस ऐडहेनॉम घेबरेयेसस ने इस ख़बर का भी स्वागत किया कि वैश्विक वैक्सीन गठबन्धन-कोवैक्स ने महामारी की वैक्सीन की लगभग 2 अरब ख़ुराकों की ख़रीदारी के लिये तैयारियाँ की हैं.

'कोविड-19 की रोकथाम के लिये, 28 अरब डॉलर वाली एसीटी परियोजना ही सर्वश्रेष्ठ सौदा'

विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार को कहा है कि कोविड-19 महामारी का मुक़ाबला करने के लिये वजूद में आए एक अन्तरराष्ट्रीय गठबन्धन को, इस मक़सद के लिये 28 अरब डॉलर की रक़म की ज़रूरत है, जोकि महामारी द्वारा पिछले एक साल में की गई विशाल तबाही को और ज़्यादा फैलने से रोकने के लिये बहुत अच्छा सौदा है.

शरणार्थी उच्चायुक्त की चुनौती: अन्तरराष्ट्रीय समुदाय उन्हें 'बेकार' करके दिखाए तो मानें

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी (UNHCR) के प्रमुख फ़िलिपो ग्रैण्डी ने विश्व नेताओं को चुनौती देने के अन्दाज़ में कहा है कि अगर वो चाहें तो, युद्ध और असुरक्षा के कारण, करोड़ों लोगों को अपने घर छोड़कर दर-दर भटकने के लिये मजबूर करने वाले कारणों के हल निकालकर, शरणार्थी एजेंसी के कामकाज को बेमानी साबित कर सकते हैं.

मानव और ग्रह, टकराव की राह पर, यूएनडीपी की चेतावनी

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) की एक ताज़ा और प्रमुख रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर प्राकृतिक दुनिया और पर्यावरण को नुक़सान में कमी लानी है तो, तमाम देशों को अपने विकास रास्तों पर फिर से ग़ौर करना होगा, नहीं तो पूरी मानवता के लिये प्रगति व्यवधान पैदा हो जाने का जोखिम है.

जलवायु महत्वाकाँक्षा सम्मेलन-2020 के अवसर पर विशेष सामग्री

जलवायु महत्वाकाँक्षा सम्मेलन-2020

ऐतिहासिक पेरिस समझौता वजूद में आने के पाँच वर्ष बाद, विश्व नेताओं ने जलवायु परिवर्तन का सामना करने के लिये, और अब तक हुई प्रगति को आगे बढ़ाने के लिये, जलवायु महत्वाकाँक्षा सम्मेलन-2020 में, नए संकल्प व्यक्त किये. कुछ झलकियाँ... (वीडियो)

एस्टोनिया, भारत और रवाण्डा की निवेश प्रोत्साहन एजेंसियाँ पुरस्कृत

संयुक्त राष्ट्र के व्यापार और विकास संगठन - UNCTAD ने कोविड-19 महामारी से निपटने के प्रयासों में उत्कृष्टता के लिये भारत, रवाण्डा और एस्टोनिया की निवेश प्रोत्साहन एजेंसियों को सम्मानित किया है.

मातृत्व स्वास्थ्य से जुड़े "गम्भीर परिणामों" की रोकथाम की अपील

दुनिया भर में प्रजनन और मातृत्व स्वास्थ्य में सुधार के लिये समर्पित एजेंसी, संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष UNFPA ने,  गर्भावस्था और मातृत्व स्वास्थ्य से जुड़े गम्भीर परिणामों की रोकथाम करने के लिये, वर्ष 2030 तक ढाई अरब डॉलर की रक़म जुटाने की अपील की है.