वैश्विक

गन्दगी साफ़ करने का अदम्य साहस

अनेक देशों में अब भी मानव मल व कचरा साफ़ करने के लिए स्वच्छता कर्मचारियों की ही सेवाएँ ली जाती हैं. ये कम लोग ही जानते हैं कि ये काम कितना जोखिम भरा है. कई बार तो स्वच्छता कर्मचारियों की मौत भी हो जाती है. और समाज में उनकी इस महत्वपूर्ण सेवा और बुनियादी कार्य को हिकारत की नज़र से देखा जाता है, ये तो किसी से छुपा नहीं है. ऐसे ही कुछ स्वच्छता कर्मचारियों की कहानी...

हर तीन में से एक महिला है शारीरिक व यौन हिंसा का शिकार

विश्व में महिलाओं और लड़कियों के विरुद्ध हिंसा व्यापक रूप से व्याप्त है और यह मानवाधिकार उल्लंघन के सबसे भयानक रूपों में से एक है. लैंगिक असमानता, शर्मिंदगी और सज़ा के प्रति भय ना होने की वजह से अक्सर ऐसे मामलों का पता भी नहीं चल पाता है जो एक बड़ी चुनौती है. संयुक्त राष्ट्र सोमवार को 'महिलाओं के प्रति हिंसा के उन्मूलन के अंतरराष्ट्रीय दिवस' पर इसी समस्या को जड़ से उखाड़ने की पुकार लगा रहा है.

यौन हिंसा: कला के ज़रिए तकलीफ़ों की दास्तान

दुनिया भर में करोड़ों महिलाएँ और लड़कियाँ यौन हिंसा का शिकार होती हैं और भयावह तकलीफ़ में जीवन जीती हैं. यौन हिंसा अब भी युद्ध के एक हथियार के तौर पर इस्तेमाल की जाती है. यौन हिंसा के दंश की तकलीफ़ को बयाँ करती एक प्रदर्शनी. प्रस्तुति शिवानी काला...

बच्चों की पुकार - हमारे अधिकार

1989 में बाल अधिकारों पर कन्वेंशन वजूद में आई थी जिसमें बच्चों के अधिकारों को लागू करने के वादे किए गए थे. तीस साल पूरे होने पर यूनीसेफ़ की रिपोर्ट में कहा गया है कि अभी बहुत कुछ करने की ज़रूरत है. बाल अधिकारों के लिए एक पुकार, उन्हीं की ज़ुबानी...