वैश्विक

100वां जन्मदिन मना रहे हैं यूएन के पूर्व अधिकारी

संयुक्त राष्ट्र में लंबे समय तक काम कर चुके सर ब्रायन अर्कहार्ट के सौवें जन्मदिन पर महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने उन्हें शुभकामनाएं दी हैं. सिद्धांतों पर आधारित और बीसवीं शताब्दी की बड़ी घटनाओं को नज़दीक से देखने वाले और अभूतपूर्व काम करने के लिए नाम कमाने वाले सर ब्रायन अर्कहार्ट को दुनिया भर से बधाई संदेश मिले हैं. 

'प्रवासन और टिकाऊ विकास में निकट संबंध'

संयुक्त राष्ट्र महासभा की अध्यक्ष मारिया फ़र्नान्डा एस्पिनोसा ने कहा है कि प्रवासन और टिकाऊ विकास के मुद्दे गहराई तक आपस में जुड़े हुए हैं.. ऐसे में टिकाऊ विकास लक्ष्यों से जुड़ा संयुक्त राष्ट्र का 2030 एजेंडा तब तक पूरा नहीं हो सकता जब तक उसमें व्यापक रूप से प्रवासियों को सम्मिलित न किया जाए. 

हथियारों पर नियंत्रण के लिए नए सिरे से प्रयासों की ज़रूरत

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा की दृष्टि से जटिल वातावरण में हथियारों पर नियंत्रण कसने के लिए एक नई वैश्विक दृष्टि की आवश्यकता है. उन्होंने आगाह किया कि सदस्य देशों को बिना सोचे-समझे परमाणु हथियारों की दौड़ में शामिल नहीं हो जाना चाहिए. 

मानवाधिकारों को चुनौतियां कई लेकिन उम्मीद कायम

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने मानवाधिकार परिषद को संबोधित करते हुए कहा है कि दुनिया के कई हिस्सों में आम जन के अधिकार ख़तरे में हैं. इसके बावजूद उन्होंने आशा का दामन नहीं छोड़ा है क्योंकि सामाजिक न्याय के लिए हो रहे सशक्त आंदोलन प्रगति लाने में सफल भी हो रहे हैं. 

सिकुड़ती जैव विविधता खाद्य और कृषि प्रणाली के लिए ख़तरा

संयुक्त राष्ट्र खाद्य एवं कृषि संगठन (FAO) की एक नई रिपोर्ट दर्शाती है कि खाद्य प्रणाली को मज़बूत आधार प्रदान करने वाली जैव विविधता धीरे धीरे गायब हो रही है. इससे भोजन, आजीविका, स्वास्थ्य और पर्यावरण के भविष्य के लिए  बड़ा ख़तरा पैदा होता जा रहा है. 

वि-औपनिवेशीकरण की प्रक्रिया में मिली सफलता 'प्रेरणादायी'

संयुक्त राष्ट्र के इतिहास में वि-उपनिवेशीकरण एक बेहद अहम अध्याय  है लेकिन इस अध्याय का लेखन अभी जारी है क्योंकि अब भी दुनिया में 17 ऐसे क्षेत्र हैं जो स्वयं-शासित नहीं हैं. यूएन वि-औपनिवेशीकरण समिति के  वर्ष 2019 सत्र को संबोधित करते हुए महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने ये बात कही. 

सांस्कृतिक विरासत की पहचान है मातृभाषा

हर दो हफ़्ते में दुनिया में एक भाषा विलुप्त हो जाती है, और उसके साथ ही उससे जुड़ा मानवीय इतिहास और सांस्कृतिक विरासत भी खो जाती है.  21 फ़रवरी को अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर भाषाई विविधता को सम्मान देते हुए मूल निवासियों की भाषाओं को संरक्षित रखने की अहमियत के प्रति जागरूकता बढ़ाने के प्रयास हो रहे हैं. 

ख़सरा के मामले एक साल में हुए दोगुना

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि दुनिया भर में ख़सरा के मामलों में बढ़ोत्तरी देखने को मिल रही है जो चिंता का कारण है. शुरुआती आंकड़े दिखाते हैं कि 2017 की तुलना में 2018 में ख़सरा के दोगुने मामले सामने आए हैं. इनसे निपटने के लिए टीकाकरण कार्यक्रमों की आवश्यकता पर ज़ोर दिया जा रहा है. 

संवाद, सहिष्णुता और शांति का शक्तिशाली माध्यम है रेडियो

विश्व रेडियो दिवस के अवसर पर संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने अपने संदेश में कहा है कि रेडियो एक ऐसा शक्तिशाली माध्यम है जिसने संवाद, सहिष्णुता और शांति फैलाने के काम को जारी रखने में सहायता की है. 

दूषित भोजन से होने वाली मौतों को रोकना 'साझा दायित्व'

हर साल, जीवाणुओं, विषाणुओं, परजीवियों, विषैले तत्वों और रसायनों से दूषित भोजन 60 करोड़ से अधिक लोगों की बीमारियों का कारण बनता है. चार लाख से ज़्यादा लोगों की मौत प्रति वर्ष असुरक्षित भोजन की वजह से होती है. ऐसे में खाद्य श्रृंखला को सुरक्षित बनाने के प्रयासों के तहत अंतरराष्ट्रीय सहयोग बढ़ाने के रास्तों पर एक सम्मेलन में विचार हो रहा है.