वैश्विक

सुपर सायक्लोन ‘अम्फन’ गुज़रा, छोड़ गया बर्बादी के निशान

संयुक्त राष्ट्र और साझीदार संगठनों के राहतकर्मी भारत और बांग्लादेश में चक्रवाती तूफ़ान ‘अम्फन’ से बुरी तरह प्रभावित हुए लोगों तक मदद पहुँचाने के काम में जुट गए हैं. बुधवार को पूर्वी भारत के तटीय इलाक़ों से टकराने वाला यह सुपर सायक्लोन अपने साथ बर्बादी लाया और प्रभावित इलाक़ों में जान-माल का भारी नुक़सान करके चला गया.

पहाड़ों का महत्व, ख़ासकर युवाओं के लिए!

पृथ्वी के लगभग 27 प्रतिशत हिस्से पर पहाड़ विराजमान हैं और ये भी ध्यान देने की बात है कि ये पहाड़ एक टिकाऊ आर्थिक विकास की तरफ़ दुनिया की बढ़त में बहुत अहम भूमिका निभाते हैं. भविष्य को ध्यान में रखते हुए वर्ष 2019 के अंतरराष्ट्रीय पर्वत दिवस पर युवाओं की भूमिका को रेखांकित किया गया है. बुधवार, 11 दिसंबर को मनाए गए इस दिवस के मौक़े पर इस वर्ष की थीम रखी गई है - Mountains matter for Youth.

असमानता की वजह से मानव विकास के रास्ते में गंभीर रुकावट

दुनिया के कई देशों में हो रहे विरोध प्रदर्शन दर्शाते हैं कि ग़रीबी, भुखमरी और बीमारियों के मोर्चों पर अभूतपूर्व प्रगति के बावजूद कई समाजों को अब भी समुचित विकास का एक लंबा रास्ता तय करना है. संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) की एक नई रिपोर्ट में विश्व में बढ़ती असमानताओं व विकास चुनौतियों को रेखांकित करते हुए हालात बेहतर बनाने के लिए सिफ़ारिशें पेश की गई है. 

खुले में शौच से गरिमा और जीवन पर मंडराता है ख़तरा

शौच के बाद और भोजन करने से पहले साबुन से हाथ नहीं धोने जैसी स्वच्छता और साफ़-सफ़ाई की आदतें न होने से सालाना 8 लाख से ज़्यादा लोग मौत का शिकार हो जाते हैं – जोकि मलेरिया से होने वाली मौतों की संख्या  से भी अधिक है. खुले में शौच करना मनुष्य की गरिमा, स्वास्थ्य और कल्याण का अपमान है – ख़ासतौर पर लड़कियों और महिलाओं का.

इंटरव्यू: ग़रीबी मिटाने के तरीक़ों पर नोबेल सह-विजेता प्रोफ़ेसर अभिजीत बैनर्जी

वर्ष 2019 का अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार तीन विद्वानों – एस्थर डफ़लो, अभिजीत बैनर्जी और माइकल क्रेमर - को दिया गया है.  डॉक्टर अभिजीत बैनर्जी अमेरिका के एमआईटी संस्थान में अर्धशास्त्र के प्रोफ़ेसर हैं और अनेक देशों में ऐसे प्रयोगों का हिस्सा रहे हैं जिनके तहत ग़रीब लोगों को कुछ प्रशिक्षण देकर हालात सुधारने का मौक़ा दिया जाता है. पेश है सह-विजेता प्रोफ़ेसर अभिजीत बैनर्जी के साथ यूएन हिन्दी न्यूज़ के प्रमुख महबूब ख़ान की एक ख़ास बातचीत.

जलवायु परिवर्तन के समाधान में योग से मिल सकती है मदद

संयुक्त राष्ट्र उपमहासचिव अमीना मोहम्मद ने कहा है कि जलवायु परिवर्तन से उपजते ख़तरों से निपटने में योग और उससे प्रेरित टिकाऊ जीवनशैली की अहम भूमिका है. अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर गुरुवार को न्यूयॉर्क में यूएन महासभा में आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि योग के ज़रिए जीवन, समाज और प्रकृति के साथ समरसता स्थापित करने में मदद मिलती है. 

नशीले पदार्थों के शौकिया इस्तेमाल से युवाओं को ख़तरा

कैनेबिस (भांग) के चिकित्सीय उपयोग पर लचर नियंत्रण इसके शौकिया  इस्तेमाल को बढ़ा सकता है जबकि आम लोगों को इसके दुष्प्रभावों के बारे में सही जानकारी ही नहीं है. नशीले पदार्थों पर नियंत्रण के लिए काम करने वाली संयुक्त राष्ट्र समर्थित संस्था, अंतरराष्ट्रीय नारकोटिक्स नियंत्रण बोर्ड (आईएनसीबी) ने अपनी नई रिपोर्ट में भांग और गांजे (मारिजुआना) के जोखिम के  प्रति सचेत किया है. 

सांस्कृतिक विरासत की पहचान है मातृभाषा

हर दो हफ़्ते में दुनिया में एक भाषा विलुप्त हो जाती है, और उसके साथ ही उससे जुड़ा मानवीय इतिहास और सांस्कृतिक विरासत भी खो जाती है.  21 फ़रवरी को अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर भाषाई विविधता को सम्मान देते हुए मूल निवासियों की भाषाओं को संरक्षित रखने की अहमियत के प्रति जागरूकता बढ़ाने के प्रयास हो रहे हैं. 

क्यों पड़ रहे हैं जीने के लाले!

मंगलवार 16 अक्तूबर को विश्व खाद्य दिवस मनाते हुए इन हालात पर गहरी चिन्ता जताई गई कि अब भी लड़ाई-झगड़ों, संघर्षों या फिर राजनातिक अस्थिरता वाले अब भी बहुत से ऐसे देश हैं जहाँ जीवित रहने के लिए खाने-पीने का सामान कम पड़ता जा रहा है.