वैश्विक

ग्रामीण महिलाओं को भविष्य के संकटों के मद्देनज़र मज़बूत करने की दरकार

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि ग्रामीण महिलाएँ कृषि, खाद्य सुरक्षा और भूमि व प्राकृतिक संसाधनों के प्रबन्धन में बहुत अहम भूमिका निभाती हैं मगर फिर भी वो भेदभाव का सामना करती हैं, उनके साथ व्यवस्थागत नस्लभेद होता है और वो ढाँचागत ग़रीबी में जीवन जीती हैं. 

भ्रष्टाचार एक अपराध होने के साथ-साथ, लोक विश्वास भंग करने का एक रूप

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि भ्रष्टाचार ना केवल एक अपराध है, बल्कि अनैतिक होने के साथ-साथ लोक विश्वास भंग करने का एक वृहद रूप भी है. यूएन महासचिव ने भ्रष्टाचार नामक वैश्विक अभिशाप को जड़ से मिटाने के लिये हर स्थान पर, हर एक इनसान से एकजुट होने का आहवान किया है.

करोड़ों लोग हाथ स्वच्छता की सुविधाओं से महरूम, संक्रामक बीमारियों का ख़तरा

विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 सहित अन्य संक्रामक बीमारियों के ख़िलाफ़ लड़ाई में हाथ स्वच्छता बेहद अहम है, लेकिन दुनिया भर में करोड़ों लोगों के पास हाथ स्वच्छता के लिये पर्याप्त साधनों का अभाव है. गुरूवार, 15 अक्टूबर, को विश्व हाथ स्वच्छता दिवस पर संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने यह बात कही है.  

लेबनान-इसराइल समुद्री सीमा विवाद के निपटारे के लिये बातचीत शुरू

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने बुधवार को लेबनान और इसराइल के बीच पूर्वी भूमध्यसागर में विवादित समुद्री सीमा पर वार्ता की शुरुआत का स्वागत किया है. दोनों देशों में अक्टूबर के शुरू में एक फ़्रेमवर्क पर सहमति बनी थी जिसके बाद यह बातचीत आयोजित की गई है.

खाद्य सप्ताह पर महासचिव का सन्देश

विश्व खाद्य सप्ताह पर यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश का सन्देश...

WHO: टीबी के ख़िलाफ़ लड़ाई में प्रगति पर ख़तरा

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि तपेदिक (टीबी) बीमारी के ख़िलाफ़ वैश्विक लड़ाई में प्रगति को बरक़रार रखने के लिये वित्तीय संसाधनों और कार्रवाई की तत्काल आवश्यकता है. यूएन स्वास्थ्य एजेंसी ने बुधवार को अपनी नई रिपोर्ट के साथ एक चेतावनी जारी करते हुए आगाह किया है कि समुचित उपायों के अभाव में टीबी की रोकथाम व उपचार के लिये निर्धारित लक्ष्यों को पाने में विफलता हाथ लगने की आशंका है.  

कोविड-19: स्वास्थ्य, सामाजिक व आर्थिक चुनौतियों से निपटने में एकजुटता की दरकार

विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 से दुनिया भर में ना सिर्फ़ मानव जीवन को भीषण नुक़सान हुआ है बल्कि सार्वजनिक स्वास्थ्य, खाद्य प्रणालियों और कामकाजी दुनिया के लिये एक अभूतपूर्व चुनौती पैदा हो गई है. संयुक्त राष्ट्र की अग्रणी एजेंसियों ने मंगलवार को एक साझा बयान जारी करके मौजूदा हालात की व्यापकता और विकरालता पर चिन्ता ज़ाहिर की है.  

ग़रीबों के साथ एकजुटता दिखानी होगी, कोविड-19 के बाद भी

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने ग़रीबी में जीवन गुज़ारने को मजबूर लोगों के साथ कोविड-19 महामारी के दौरान और उसके बाद के समय में भी एकजुटता की अपील की है. महासचिव ने ये अपील अन्तरराष्ट्रीय ग़रीबी उन्मूलन दिवस के मौक़े पर की है जो हर साल 17 अक्टूबर को मनाया जाता है.

ओह, मैंने फिर शेयर कर दिया !!!

Misinformation यानि दुष्प्रचार या ग़लत जानकारी फैलाने का मक़सद हमारी भावनाओं के साथ खिलवाड़ करना होता है, और हम में से बहुत से लोगों ने भी कुछ ना कुछ ऐसे सन्देश या जानकारी ज़रूर शेयर की होगी है यानि आगे बढ़ाई होगी जिसके बारे में बाद में मालूम हुआ होगा कि वो सच या सही नहीं थी. इस वीडियो में एक हल्के-फ़ुल्के अन्दाज़ में मगर बहुत सटीक बात कहने की कोशिश की गई है कि हम कितनी आसानी से दुष्प्रचार या ग़लत जानकारी फैलाने के भागीदार बन जाते हैं. ये सोचना बहुत अहम और ज़रूरी है कि ग़लत जानकारी या 'फ़ेक न्यूज़' को फैलने से रोकने के लिये क्या किया जा सकता है...


 

विश्व अर्थव्यवस्था गहरी मन्दी में, मगर असर की गम्भीरता कम होने का अनुमान

दुनिया पर विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 की छाया और उसके असर के बीच वैश्विक अर्थव्यवस्था का वर्ष 2020 में गहरी आर्थिक मन्दी के दौर से गुज़रना जारी रहेगा लेकिन यह मन्दी पहले की अपेक्षा थोड़ा कम गम्भीर होने की सम्भावना है. अन्तरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने मंगलवार को वैश्विक अर्थव्यवस्था पर जारी अपनी नई रिपोर्ट में यह ताज़ा जानकारी जारी की है.