वैश्विक

कोविड-19: 'नाज़ुक हालात का फ़ायदा उठाने' से रोकना होगा आतंकी गुटों को

 संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि इस्लामिक स्टेट (दाएश), अल-क़ायदा, नवनात्ज़ी और श्वेत वर्चस्ववादी समूहों सहित अन्य आतंकवादी गुट वैश्विक महामारी कोविड-19 से उपजे संकट का इस्तेमाल अपने फ़ायदे के लिए करने का प्रयास कर रहे हैं जिसे रोका जाना होगा. सोमवार को उन्होंने आतंकवाद के उभरते नए रूपों, जैसेकि डिजिटल टैक्नॉलॉजी के ग़लत इस्तेमाल, साइबर हमलों और जैविक आतंकवाद के ख़तरे के प्रति आगाह करते हुए जवाबी कार्रवाई के लिए पाँच अहम क्षेत्रों में कार्रवाई का ख़ाका भी पेश किया है. 

मानसिक स्वास्थ्य चुनौतियों को समझने और निपटने के तरीक़ों में 'बदलाव लाने होंगे' 

संयुक्त राष्ट्र के एक स्वतन्त्र मानवाधिकार विशेषज्ञ ने सदस्य देशों, नागरिक समाज, मनोवैज्ञानिक संगठनों और विश्व स्वास्थ्य संगठन से आग्रह किया है कि मानसिक स्वास्थ्य चुनौतियों को समझने और उनसे निपटने के नज़रिये में बदलाव लाना होगा. विशेष रैपोर्टेयर डेनियस पूरस ने कहा कि मानसिक स्वास्थ देखभाल के मौजूदा मॉडल में दवाओं पर निर्भरता और मानसिक स्वास्थ्य मुश्किलों का सामना कर रहे लोगों को ख़तरनाक क़रार दिये जाने या उनकी मर्ज़ी के बिना ही उनका इलाज किये जाने पर ज़्यादा ज़ोर है जिससे अलग हटना होगा. 

नई महामारियों से बचाव के लिए मानव, पशु और पर्यावरण स्वास्थ्य की रक्षा की पुकार

विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 से इन्सानों की ज़िन्दगियों और अर्थव्यवस्थाओं पर गहराते संकट के बीच एक नई रिपोर्ट में चेतावनी दी गई है कि अगर पशुजनित बीमारियों की रोकथाम के प्रयास नहीं किये गए तो कोविड-19 जैसी अन्य महामारियों का आगे भी सामना करना पड़ेगा. संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) और ‘International Livestock Research Institute’ की साझा रिपोर्ट में  बढ़ती महामारियों के लिए पशुओं से मिलने वाले प्रोटीन की माँग में इज़ाफ़ा होने, सघन व ग़ैर-टिकाऊ खेती के बढ़ने, वन्यजीवों के दोहन और इस्तेमाल में वृद्धि और जलवायु संकट जैसे कारकों को ज़िम्मेदार बताया गया है. 

कोविड-19 से उबरने के लिए मज़बूत एकजुटता बेहद ज़रूरी - महासचिव

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने आगाह करते हुए कहा है कि 2030 के सतत विकास लक्ष्य का प्रत्येक लक्ष्य कोविड-19 महामारी से प्रभावित हुआ है. महासचिव की ये चेतावनी मानव और पृथ्वी के लिए एक निष्पक्ष भविष्य की दिशा में हो रही प्रगति के आकलन पर संयुक्त राष्ट्र के एक उच्च स्तरीय फ़ोरम के आयोजन के मौक़े पर आई है.

बिज़नेस सैक्टर टिकाऊ विकास एजेण्डा की रफ़्तार में बहुत धीमा

निजी क्षेत्र पर संयुक्त राष्ट्र की एक नई रिपोर्ट में कहा गया है कि इन्सानों और पृथ्वी ग्रह के लिए एक टिकाऊ भविष्य सुनिश्चित करने के काम पर प्रगति बहुत धीमी है, और यूएन ग्लोबल कॉम्पैक्ट में शामिल कम्पनियाँ संयुक्त राष्ट्र के 2030 टिकाऊ विकास एजेण्डा पर अमल करने के लिए समुचित क़दम नहीं उठा रही हैं. ये रिपोर्ट यूएन ग्लोबल कॉम्पैक्ट ने जारी की है.

ट्राँसफ़ैट के सेवन से बढ़ सकता है अण्डाशय कैंसर का ख़तरा

संयुक्त राष्ट्र के वैज्ञानिकों ने तले हुए खाने-पीने के पदार्थों और प्रोसेस्ड फ़ूड यानि खाने के लिए लम्बे समय तक संरक्षित किए जाने वाले खाद्य पदार्थों में पाए जाने वाले ‘ट्राँसफैट्स’ (Transfats) और अण्डाशय (Ovarian) कैंसर में सम्बन्ध होने की बात कही है. 

'युवाओं को सहारा देने से होगा पूरी दुनिया का फ़ायदा'

संयुक्त राष्ट्र के अर्थशास्त्रियों ने कहा है कि जो युवा अपने कामकाज के ज़रिये समुदायों पर सकारात्मक छाप छोड़ना चाहते हैं, उन्हें कामयाब होने और कोविड-19 महामारी का असर कम करने के लिये, सरकारों से और ज़्यादा मदद की तत्काल ज़रूरत है.

कोविड-19: विश्व शान्ति और सुरक्षा पर ख़तरा बरक़रार

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि कोविड-19 महामारी से वैश्विक शान्ति और सुरक्षा पर गहरा असर पड़ा है और दुनिया अनेक मोर्चों पर संकट का सामना कर रही है. उन्होंने कोविड-19 से उपजे हालात के बारे में गुरूवार को सुरक्षा परिषद को अवगत कराते हुए कहा कि आज लोगों की ज़िन्दगियाँ बचाना और भविष्य के लिए सुरक्षा के स्तम्भों को मज़बूती से खड़ा करना असल चुनौती है.

यूएन की भूमिका की कुछ झलकियाँ

संयुक्त राष्ट्र हर साल एक छोटे आकार का कार्ड प्रकाशित करता है, जिसमें दस सरल उदाहरणों के ज़रिये ये बताया जाता है कि इस वैश्विक संगठन ने दुनिया को एक बेहतर स्थान बनाने में कैसे मदद की. संयुक्त राष्ट्र की 75वीं वर्षगाँठ के अवसर पर इस वर्ष, इसमें एक ग्यारहवीं वजह भी जोड़ी गई यानि कोविड-19 महामारी से मुक़ाबला.

 

देखें वीडियो फ़ीचर...

वैश्विक युद्धविराम की अपील के समर्थन में सुरक्षा परिषद में प्रस्ताव पारित 

सुरक्षा परिषद ने यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश की वैश्विक युद्धविराम की पुकार को बुधवार को अपना समर्थन देते हुए एकमत से प्रस्ताव पारित किया है जिसमें युद्धरत पक्षों से कम से कम 90 दिनों के लिए हिंसा रोकने का आहवान किया गया है ताकि प्रभावितों तक जीवनदाई मदद पहुँचाई जा सके.  यूएन प्रमुख ने इस वर्ष मार्च महीने में एक अपील जारी करके सभी से लड़ाई-झगड़े छोड़कर अपनी ऊर्जा कोरोनावायरस संकट से निपटने के प्रयासों में लगाने का आग्रह किया था जिससे अब तक पाँच लाख से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है.