एशिया प्रशांत

प्लास्टिक कचरा प्रबन्धन पर सरकारों को करने होंगे ज़्यादा प्रयास

प्लास्टिक कचरे को कम करने के लिए ऊँची उम्मीदों के बावजूद वास्तविकता के धरातल पर असरदार कार्रवाई’ के बीच में अब भी एक बड़ा अन्तर  बना हुआ है. संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) और 'फ़ूड इन्डस्ट्री एशिया'(FIA) ने मंगलवार को दक्षिण-पूर्व एशिया में उपभोक्ताओं और खाद्य व पेय व्यवसायों के एक क्षेत्रीय सर्वेक्षण के नतीजे जारी किये हैं जिसमें यह बात उजागर हुई है. पिछले कुछ महीनों में कोविड-19 महामारी के कारण कचरे में बढ़ोत्तरी के अलावा प्लास्टिक प्रदूषण की चुनौतियाँ भी बढ़ी हैं.

कोविड-19: दक्षिण एशिया में 60 करोड़ बच्चों के जीवन में उलट-पुलट

विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 दक्षिण एशियाई देशों में बच्चों के स्वास्थ्य, शिक्षा और अन्य क्षेत्रों में हुई प्रगति के लिए संकट का कारण बन रही है. संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने मंगलवार को जारी अपनी नई रिपोर्ट में देशों की सरकारों से त्वरित  कार्रवाई का आग्रह किया है ताकि एक पूरी पीढ़ी की आशाओं और आकाँक्षाओं को बर्बाद होने से बचाया जा सके. महामारी दक्षिण एशिया क्षेत्र में भारत, पाकिस्तान, अफ़ग़ानिस्तान, बांग्लादेश सहित अन्य देशों में तेज़ी से फैल रही है जहाँ विश्व की क़रीब एक चौथाई आबादी रहती है.

योगाभ्यास: विश्व को भारत का अनुपम उपहार

योग मन, तन और आत्मा के बीच अदभुत तारतम्य बिठाता है जिससे अन्ततः अच्छा शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य हासिल किया जा सकता है. दुनिया को योग की अनुपम भेंट देने वाले भारत में संयुक्त राष्ट्र की रेज़िडेंट कोऑर्डिनेटर, रेनाटा डेज़ालिएन का छठे अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस पर सन्देश. कुछ योगाभ्यास झलकियों के साथ...

अफ़ग़ानिस्तान में कोविड-19 के बावजूद स्वास्थ्य सेवाओं पर हमले घोर निन्दनीय

अफ़ग़ानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र सहायता मिशन (UNAMA) ने कहा है कि देश में कोविड-19 महामारी फैलने के दो महीने के भीतर स्वास्थ्य सेवाओं पर 15 हमले किए गए. रविवार को प्रकाशित एक ताज़ा रिपोर्ट में दिखाया गया है कि 11 मार्च और 23 मई के बीच हुए हमलों में किस तरह से स्वास्थ्यकर्मियों को निशाना बनाया गया और किस हद तक स्वास्थ्य सेवाओं को नुक़सान पहुँचा.

आईसीसी जाँचकर्ताओं पर अमेरिका द्वारा प्रतिबन्ध लगाने का फ़ैसला ‘खेदजनक’

अन्तरराष्ट्रीय आपराधिक न्यायालय (आईसीसी) के कामकाज की निगरानी करने वाली ‘असेम्बली ऑफ़ स्टेट पार्टीज़’ के अध्यक्ष ओ-गॉन क्वॉन ने अमेरिकी सरकार के उस फ़ैसले को ख़ारिज किया है जिसमें अफ़ग़ानिस्तान में कथित युद्धापराधों की जाँच कर रहे आईसीसी अधिकारियों के ख़िलाफ़ कड़े प्रतिबन्ध लगाए जाने की बात कही गई है. उन्होंने ताज़ा घटनाक्रम पर खेद जताते हुए कहा कि ऐसे फ़ैसलों से दण्डमुक्ति के ख़िलाफ़ और सामूहिक अत्याचारों की जवाबदेही तय करने के प्रयास कमज़ोर पड़ेंगे. 

पृथ्वी का ख़याल करें, तुरन्त!

भारत की अनेक आस्था व धार्मिक हस्तियों ने इस वर्ष पर्यावरण दिवस के मौक़े पर पृथ्वी की धरोहर को सहेजने के लिए विभिन्न उपाय करने की अपील की है. इनमें प्रकृति को नुक़सान नहीं पहुँचाना और बड़े पैमाने पर पेड़ लगाना शामिल है. पृथ्वी और आने वाली पीढ़ियों की बेहतरी के लिए ऐसा करना बहुत ज़रूरी है. इन धार्मिक हस्तियों का वीडियो सन्देश...

कोविड-19: नेपाल में तालाबन्दी से आर्थिक गतिविधियों पर बुरा असर

वैश्विक महामारी कोविड-19 और उसके ऐहतियाती उपायों के मद्देनज़र लागू तालाबन्दी व पाबन्दियों से नेपाल में पर्यटन, मनोरंजन और परिवहन सैक्टर पर भारी असर हुआ है जिससे आर्थिक विकास की सम्भावनाओं को गहरा झटका लगा है. नेपाल में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) द्वारा कराए गए एक अध्ययन के मुताबिक लघु और सूक्ष्म उद्यमों में काम कर रहे हर पाँच में तीन लोगों का रोज़गार ख़त्म हो गया है. 

आइए, चुप्पी तोड़ें!

क्या समलैंगिकता एक विकल्प है? यदि आप एक ट्रान्सजैन्डर महिला हैं और आप उस लिंग के प्रति आकर्षित हैं जो आप पहले ख़ुद थीं, तो इससे आप समलैंगिक हुईं या विषमलैंगिक? क्या आपको हिजड़ा कहना सही होगा?

ज़ैनब पटेल - एक ट्रान्सजैन्डर महिला हैं और ऐसे कई असहज प्रश्नों का उत्तर दे रहीं हैं जो लम्बे समय से एलजीबीटी समुदाय को लेकर लोगों के दिमाग़ में जड़ें जमाए हुए हैं...

भारत: 'भुलाए जा चुके' प्रवासी मज़दूरों को राहत पहुँचाने की पुकार

संयुक्त राष्ट्र के स्वतन्त्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने भारत सरकार से सुप्रीम कोर्ट के उस आदेश का तत्काल अनुपालन करने का आग्रह किया है जिसमें 10 करोड़ से ज़्यादा आन्तरिक प्रवासी कामगारों का कल्याण सुनिश्चित करने की बात कही गई है. वैश्विक महामारी कोविड-19 के कारण भारत में मार्च में तालाबन्दी लागू किए जाने बाद बड़ी संख्या में प्रवासी मज़दूरों को पैदल अपने गण्तव्य स्थानों तक पहुँचने के लिए लम्बी यात्राएँ करने के लिए मजबूर होना पड़ा था.

भारत के पश्चिमी तटों पर चक्रवात निसर्ग की डरावनी दस्तक

भारत के पश्चिमी तटीय क्षेत्रों पर स्थित महाराष्ट्र और गुजरात के कई इलाक़ों में बुधवार को निसर्ग तूफ़ान ने डरावनी दस्तक दी. तूफ़ान के कारण कम से कम 4 लोगों की मौत हो गई और कुछ घायल हो गए. मुम्बई, ठाणे, रायगढ़ समेत महाराष्ट्र के तटवर्ती ज़िलों के अलावा गुजरात के इलाक़ों में भी इस तूफ़ान का असर दिखाई दिया.