एशिया प्रशांत

रोहिंज्या शरणार्थी शिविर में भीषण आग

बांग्लादेश के कॉक्सेस बाज़ार के कुटुपलाँग शिविर में, 22 मार्च को भीषण आग लगने से, कम से कम 15 लोगों की मौत हुई और 560 से ज़्यादा घायल हुए. महाशिविर में आग लगने से 45 हज़ार से ज़्यादा लोग विस्थापित हुए हैं, जिनमें अधिकतर लोग, पड़ोसी देश म्याँमार से शरण लेने वाले रोहिंज्या शरणार्थी हैं. एक वीडियो रिपोर्ट.

बांग्लादेश: यूएन एजेंसियों के आग उपरान्त सहायता प्रयास तेज़

संयुक्त राष्ट्र की एजेंसियों ने बांग्लादेश के दक्षिणी हिस्से में स्थित कुटुपलाँग शरणार्थी शिविर में, 22 मार्च को लगी भीषण आग के बाद बेघर हुए हज़ारों रोहिंज्या शरणार्थी परिवारों की मदद के लिये प्रयास तेज़ कर दिये हैं.

दक्षिण एशिया में, समुद्री प्लास्टिक प्रदूषण से निपटने का संकल्प - ब्लॉग

प्लास्टिक के अनुमानतः 5.2 खरब टुकड़े पहले से ही महासागर को प्रदूषित कर रहे हैं, और इस मात्रा में प्रत्येक वर्ष, 80 लाख टन की बढ़ोत्तरी होती है. इस समस्या से निपटने के लिये दक्षिण एशियाई देशों ने साथ मिलकर इसका समाधान करने की ठानी है. इस बारे में विस्तृत जानकारी के लिये विश्व बैंक की क्षेत्रीय एकीकरण मामलों की निदेशिका सेसली फ्रूमेन, दक्षिण एशियाई सतत विकास के क्षेत्रीय निदेशक जॉन रूमे और पवन पाटिल का ब्लॉग.

सीरिया: ‘मृत्यु, विनाश, विस्थापन, बीमारी, क्रूरता और निराशा’ का दशक

संयुक्त राष्ट्र के आपातकालीन राहत समन्वयक ने सुरक्षा परिषद को बताया है कि यह वक़्त, सीरिया के लिये मानवीय सहायता में कमी करने का नहीं है. देश में, 10 साल के संघर्ष व भीषण तबाही के बाद, भविष्य में हालात अधिक "नाटकीय और व्यापक" रूप से बदतर होने से बचाने के लिये, अधिक योगदान की आवश्यकता है.

म्याँमार: सैन्य बलों की दमनात्मक कार्रवाई की कठोरतम शब्दों में निन्दा

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने शनिवार को, म्याँमार में विरोध प्रदर्शनों के दौरान बड़ी संख्या में लोगों के मारे जाने की कड़ी निन्दा की है. सुरक्षा बलों की कार्रवाई में बच्चों व युवाओं सहित अनेक आम नागरिकों के मारे जाने की ख़बर है, और फ़रवरी में सैन्य तख़्ता पलट के बाद यह अब तक का सबसे रक्तरंजित दिन साबित हुआ है.  

म्याँमार की सेना, देश के भविष्य के लिये ख़तरा - यूएन दूत की चेतावनी

म्याँमार के लिये संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत क्रिस्टीन श्रेनर बर्गनर ने कहा है कि देश की सेना अपने ही नागरिकों के ख़िलाफ़ खड़ी हो गई है, जिससे देश के भविष्य पर जोखिम मंडरा रहा है. विशेष दूत ने म्याँमार में वार्षिक 'सैन्य बल दिवस' की पूर्व संध्या पर, शुक्रवार को जारी अपने बयान में म्याँमार मे हालात पर चिन्ता जताई है.  

म्याँमार में ‘हालात बिगड़ने की आशंका’, आपात बैठक बुलाए जाने का आग्रह

म्याँमार में मानवाधिकारों की स्थिति पर यूएन के विशेष रैपोर्टेयर टॉम एण्ड्रयूज़ ने मौजूदा हालात पर चर्चा के लिये अन्तरराष्ट्रीय समुदाय से सभी हितधारकों की एक आपात बैठक बुलाए जाने की अपील की है. उन्होंने कहा है कि इस वार्ता में उन सांसदों को भी आमन्त्रित किया जाना होगा जो फ़रवरी मे सैन्य तख़्ता पलट से पहले चुनावों में लोकतान्त्रिक रूप से चुने गए थे.

भीषण आग से प्रभावित रोहिंज्या शरणार्थियों के लिये वित्तीय मदद जारी

संयुक्त राष्ट्र के शीर्ष मानवीय राहत अधिकारी ने कुटुपलाँग महाशिविर में भीषण आग से प्रभावित हज़ारों रोहिंज्या परिवारों तक जीवनदायी सहायता पहुँचाने के लिये, बुधवार को एक करोड़ 40 लाख डॉलर की आपात धनराशि जारी की है. दक्षिणी बांग्लादेश में स्थित इस महाशिविर में आग लगने से कम से कम 11 लोगों की मौत होने की ख़बर है, और 400 से ज़्यादा लापता बताए गए हैं.

बेहतर पुनर्बहाली व पुनर्निर्माण के लिये ‘मौजूदा लम्हे का लाभ उठाएँ’

संयुक्त राष्ट्र उपमहासचिव आमिना मोहम्मद ने कहा है कि एशिया और प्रशान्त क्षेत्र के देशों को कोरोनोवायरस संकट के दौरान मिली विफलताओं से निपटते हुए, एक साथ मिलकर बेहतर पुनर्निर्माण के लिये "मौजूदा लम्हे’ का पूर्ण रूप से इस्तेमाल" करना होगा.

अफ़ग़ानिस्तान: हिंसा पर विराम, समावेशी शान्ति प्रक्रिया की दरकार

अफ़ग़ानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र की विशेष प्रतिनिधि डेबराह लियोन्स ने कहा है कि अफ़ग़ान जनता की पीड़ा, विस्थापन और मौतों के सिलसिले पर अब विराम लगाया जाना होगा. उन्होंने मंगलवार को सुरक्षा परिषद में सदस्य देशों को देश में मौजूदा हालात से अवगत कराते हुए कहा कि यह समय परिस्थितियों की समीक्षा करने और शान्ति मार्ग पर आगे बढ़ने के लिये ज़रूरी प्रयासों को समर्थन दिये जाने का है.