अफ्रीका

यमन: कोविड-19 के माहौल में लोग डर, नफ़रत और विस्थापन की भी चपेट में

संयुक्त राष्ट्र के मानवीय सहायता कार्यकर्ताओं ने कहा है कि यमन में कोविड-19 महामारी के फैलने के डर ने लोगों को नए सिरे से विस्थापित होने के लिये मजबूर कर दिया है. अनेक वर्षों से युद्धग्रस्त देश यमन में बहुत से लोगों को जीवित रहने की ख़ातिर अपने पास बचा-खुचा सामान बेचने के लिये भी मजबूर होना पड़ा है. 

नेलसन मण्डेला पुरस्कार 2020

मानवीय भलाई के कार्यों के लिये दिया जाने वाला दूसरा नेलसन मण्डेला पुरस्कार दो समाज सेवियों - मारियाना वी वार्दिनॉयानिस (ग्रीस) और डॉक्टर मॉरीसैण्डा कोयाते (गिनी) को दिया गया है. संयुक्त राष्ट्र महासभा ने नेलसन मण्डेला पुरस्कार का प्रस्ताव 2014 में पारित किया था और पहला पुरस्कार 2015 में नामीबिया की डॉक्टर हेलेना न्ड्यूमे और पुर्तगाल के होर्गे फ़र्नाण्डो सैम्पाइयो को दिया गया था. ये पुरस्कार हर पाँच वर्ष में एक महिला और एक पुरुष को दिया जाता है... वीडियो....

फ़र्ज़ी अफ़्रीकी कलाकृतियों पर कलाप्रेमियों को यूनेस्को की चेतावनी

संयुक्त राष्ट्र ने अफ़्रीकी सांस्कृतिक कलाकृतियों को लेकर एक अवैध तस्करी घोटाले का भण्डाफोड़ किया है जो यूनेस्को की नक़ली मुहर लगाकर, ख़रीदारों को बेचे जा रहे हैं.

डीआरसी: यूनीसेफ़ द्वारा बाल हत्याओं की कड़ी निन्दा

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष – यूनीसेफ़ ने काँगो लोकतान्त्रिक गणराज्य (डीआरसी) के पूर्वोत्तर क्षेत्र में हुए एक हमले की कड़ी निन्दा की है जिसमें 16 लोग मारे गए हैं, इनमें 15 वर्ष से कम उम्र की पाँच लड़कियाँ भी हैं.

कोविड-19: व्यवसायों को महामारी के सामाजिक प्रभावों से निपटना ज़रूरी

दुनिया की सबसे बड़ी कॉरपोरेट सततता पहल, यूएन ग्लोबल कॉम्पैक्ट की प्रमुख लीज़ किंगो का मानना है कि जिस तरह सभी व्यवसाय कोविड-19 महामारी से उत्पन्न आर्थिक गिरावट से निपटने के लिए संघर्ष कर रहे हैं, उन्हें एक स्थाई भविष्य के निर्माण के लिए अपनी ज़िम्मेदारियों के प्रति भी सजग रहना होगा. लीज़ किंगो इस पद पर अपना पाँच साल का कार्यकाल जल्द ही पूरा कर रही हैं.

काँगो लोकतान्त्रिक गणराज्य में ईबोला का 11वाँ फैलाव

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि काँगो लोकतान्त्रिक गणराज्य में ईबोला के नए मामले सामने आने के बाद उससे और कोविड-19 से निपटने में देश की मदद की जाएगी.

यमन में धन की कमी के कारण लाखों महिलाओं व लड़कियों पर जोखिम

युद्धग्रस्त देश यमन में मध्य मई में जब कोविड-19 महामारी पहुँची तो लगभग उसी समय प्रजनन स्वास्थ्य सेवाओं के लिए संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष के पास धनराशि भी ख़त्म हो गई. इस कारण एजेंसी को देश के 180 स्वास्थ्य केन्द्रों व अस्पतालों में से 140 में प्रजनन स्वास्थ्य सम्बन्धी सेवाएँ स्थगित करनी पड़ी हैं.

ब्राज़ील और भारत की महिला शान्तिरक्षकों को साझा रूप से पुरस्कार

लैंगिक समानता पर उत्कृष्ट कार्य के लिए भारतीय और ब्राज़ीलियाई महिला शान्तिरक्षकों को वर्ष 2019 के लिए संयुक्त रूप से 'यूएन मिलिट्री जैन्डर एडवोकेट ऑफ़ द ईयर' अवॉर्ड से सम्मानित किए जाने की घोषणा की गई है. ब्राज़ील की नौसैनिक अधिकारी कमान्डर कार्ला मोन्तिएरो डे कास्त्रो अराउजो मध्य अफ़्रीका गणराज्य में यूएन मिशन (MINUSCA) में कार्यरत हैं और भारतीय सेना में मेजर सुमन गवानी दक्षिण सूडान के यूएन मिशन (UNMISS) में सैन्य पर्यवेक्षक के तौर पर ज़िम्मेदारी संभाल चुकी हैं.

कोविड-19: 'अफ्रीकी प्रगति को बचाने के लिए एकजुटता की दरकार'

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि कोविड-19 वैश्विक महामारी ने अफ्रीकी महाद्वीप में अभी तक हासिल की गई प्रगति के खो जाने का जोखिम पैदा कर दिया है. उन्होंने बुधवार को तमाम दुनिया से अफ्रीकी लोगों के साथ मज़बूती से खड़े होने का आग्रह किया है – अभी और महामारी से बेहतर तरीक़े से उबरने के प्रयासों के दौरान.

सूडान में महिला ख़तना पर प्रतिबंध, मगर रास्ता बहुत कठिन है... (ब्लॉग)

जहाँ पूरी दुनिया कोरोनावायरस महामारी के दौरान एक अदृश्य दुश्मन से जंग लड़ने में में लगी हुई है, वहीं सूडान ने महिला जननांग विकृति पर रोक लगाने के उपायों के तहत इस प्रथा को अपराध क़रार दे दिया गया  है. यह ऐतिहासिक उपाय 1 मई को विश्व मज़दूर दिवस के मौक़े पर लागू हो गया है. लेकिन  इन उपायों के तहत महिलाओं को इस दर्दनाक प्रथा से मुक्ति दिलाना कितना मुश्किल व आसान होगा?  इस विषय पर केनया में संयुक्त राष्ट्र के रैज़िडेंट कोऑर्डिनेटर, सिद्धार्थ चैटर्जी का ब्लॉग...