अफ्रीका

मोज़ाम्बीक़ की मदद के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय से पुकार

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने गुरुवार को मोज़ाम्बीक़ की यात्रा शुरू करते हुए वहाँ विनाशकारी चक्रवाती तूफ़ानों – इडाई और कैनेथ – से प्रभावित लोगों के साथ एकजुटता का प्रदर्शन किया. यूएन प्रमुख ने तूफ़ानों से हुई तबाही के बाद पुनर्निर्माण कार्यों में मदद के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय से और अधिक प्रयास करने की पुकार लगाई है.

'लौटने के लिए कुछ नहीं बचा': मोज़ाम्बीक़ में तूफ़ान प्रभावितों की दास्तान

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश गुरुवार को दो दिवसीय दौरे के लिए दक्षिणी अफ्रीकी देश मोज़ाम्बीक़ पहुंचे हैं जहां वह 2019 के शुरू में आए घातक चक्रवाती तूफ़ानों से हुए नुक़सान का जायज़ा लेंगे. यूएन प्रमुख गुरुवार को राष्ट्रपति फ़िलिपे न्यूसी से मिलकर अपने मिशन की शुरूआत करेंगे जिसके बाद वह प्रभावित क्षेत्रों में यूएन एजेंसियों द्वारा चलाए जा रहे राहत अभियानों का भी आकलन करेंगे. 

ईबोला प्रभावित इलाक़े में ख़सरा टीकाकरण अभियान

कॉंगो लोकतांत्रिक गणराज्य के पूर्वोत्तर हिस्से में स्वास्थ्यकर्मियों ने बड़े पैमाने पर ख़सरा टीकाकरण अभियान शुरू किया है. यह वही क्षेत्र है जिसे घातक ईबोला वायरस ने अपनी जकड़ में ले रखा है और दूसरी बार इतने बड़े पैमाने पर यह बीमारी फैलने से अब तक डेढ़ हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. 2019 में बड़ी संख्या में ख़सरा के मामले भी सामने आए हैं. 

आतंकवाद और हिंसक चरमपंथ के फैलाव से बढ़ रही है अस्थिरता: यूएन प्रमुख

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि आतंकवाद से परिवारों और समुदायों को सदमा पहुंचता है और प्रभावित क्षेत्रों में अस्थिरता फैलती है. केनया की राजधानी नैरोबी में बुधवार को आतंकवाद विरोधी सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने क्षेत्र में बढ़ती चुनौतियों का ज़िक्र किया और अफ़्रीका में चरमपंथी हमलों के पीड़ितों के साथ एकजुटता जताई.

कॉंगो लोकतांत्रिक गणराज्य में खाद्य सहायता तीन गुना बढ़ाई गई

कॉंगो लोकतांत्रिक गणराज्य का इतुरी प्रांत व्यापक पैमाने पर भुखमरी, अंतरजातीय समूहों में हिंसा और ईबोला वायरस का सामना कर रहा है जिससे वहां चुनौतीपूर्ण हालात पैदा हो गए हैं. प्रभावित लोगों को सहारा देने के उद्देश्य से विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) ने भोजन सामग्री के रूप में दी जाने वाली सहायता को बढ़ाकर तीन गुना कर दिया है . यूएन एजेंसी के अनुसार यमन के बाद वहां दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा भुखमरी का संकट पैदा हो रहा है.

मेडागास्कर के ग्रामीणों ने ‘खुले में शौच’ के ख़तरों को समझा

ग्रामीणों के साथ चर्चा तड़के से ही शुरू हो जाती है.  स्वयंसेवकों को चॉक से ज़मीन पर अपने गांव का नक्शा तैयार करने को कहा जाता है. एक महिला के स्कैच से पता चला कि उस गाँव में 17 परिवारों के 65 लोग कुल 11 लाल मिट्टी के घरों में रहते हैं. वह बताती हैं कि वे सभी लोग केवल तीन शौचालयों से काम चलाते हैं, जो वहां काफी समय से हैं.

सोमालिया और केन्या में आतंकवादी हमलों की निंदा

केन्या की वजीर काउंटी और सोमालिया की राजधानी मोगादिशु में दो अलग-अलग आतंकवादी हमले हुए हैं जिनमें 16 की मौत हुई है और कई अन्य घायल हुए हैं. संयुक्त राष्ट्र  महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने इन हमलों की निंदा की है और मृतकों के परिजनों के प्रति संवेदना जताई है. 

दक्षिण सूडान में भोजन की भारी कमी, अकाल जैसे हालात

दक्षिण सूडान में लगभग 70 लाख लोगों के पास रोज़मर्रा की ज़रूरतें पूरी करने के लिए पर्याप्त भोजन नहीं बचा है और 20 हज़ार से ज़्यादा लोग भुखमरी के कगार पर पहुँच गए हैं. विश्व खाद्य कार्यक्रम ने शुक्रवार को ये चेतावनी जारी की है.

सूडान में प्रदर्शनकारियों के साथ बलात्कार की रिपोर्टों पर चिंता

हिंसा और संघर्ष के दौरान यौन हिंसा पर संयुक्त राष्ट्र की विशेष प्रतिनिधि प्रमिला पैटन ने सूडान की राजधानी खार्तूम में लोकतंत्र के समर्थन में प्रदर्शन कर रहे लोगों के विरुद्ध सुरक्षा बलों की कार्रवाई और बलात्कार की रिपोर्टों पर गहरी चिंता जताई है. उन्होंने सैन्य मुख्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन कर रहे लोगों के ख़िलाफ़ हिंसा को तत्काल रोके जाने का आग्रह किया है.

यूगांडा में ईबोला वायरस से दूसरी मौत के बाद यूएन एजेंसियां सतर्क

यूगांडा में ईबोला वायरस से दो लोगों की मौत होने के बाद संयुक्त राष्ट्र की मानवीय राहत एजेंसियां स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए सरकार के साथ मिलकर काम कर रही हैं.  पड़ोसी देश काँगो लोकतांत्रिक गणराज्य में पहले से ही बड़े पैमाने पर ईबोला फैला हुआ है और अब यूगांडा में भी इसके मामले सामने आए हैं.