नवीनतम समाचार

अफ़ग़ान शान्ति प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के लिये इस्ताम्बुल में होगा सम्मेलन

संयुक्त राष्ट्र, तुर्की और क़तर ने अफ़ग़ान सरकार और तालेबान संगठन के प्रतिनिधियों के बीच एक उच्चस्तरीय व समावेशी बैठक, 24 अप्रैल से 4 मई 2021 तक साझा रूप से आयोजित करने की घोषणा की है. तुर्की के इस्ताम्बुल शहर में आयोजित की जाने वाली इस वार्ता का उद्देश्य, अफ़ग़ानिस्तान में शान्ति स्थापना के लिये प्रयासों को मज़बूती देना और देश में मौजूदा संकट के राजनैतिक समाधान की तलाश करना है. 

पारम्परिक खाद्य बाज़ारों में वन्य स्तनधारी जीवों की बिक्री पर रोक की माँग 

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और उसके साझीदार संगठनों ने देशों से पारम्परिक खाद्य बाज़ारों में जीवित जंगली स्तनपायी पशुओं की बिक्री पर रोक लगाने का आग्रह किया है. यूएन एजेंसी के मुताबिक़ वैश्विक महामारी कोविड-19 जैसी अन्य घातक संक्रामक बीमारियों को उभरने व फैलने से रोकने के लिये यह ज़रूरी है कि इन पारम्परिक बाज़ारों (Wet markets) में सुरक्षा व स्वच्छता मानकों का सख़्ती से पालन किया जाए.  

फ़ुकुशिमा संयंत्र: दूषित जल के निस्तारण में, यूएन एजेंसी देगी जापान को मदद

जापान में वर्ष 2011 में आए भूकम्प व सूनामी से प्रभावित फ़ुकुशिमा परमाणु ऊर्जा संयंत्र को ठण्डा करने के लिये इस्तेमाल किये गए दूषित समुद्री जल के विसर्जन की तैयारियाँ की जा रही है. अन्तरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (IAEA) के महानिदेशक रफ़ाएल मारिआनो ग्रोसी ने जापान के समाधान को, तकनीकी रूप से सम्भव और अन्तरराष्ट्रीय परिपाटी के अनुरूप बताते हुए इस योजना में हरसम्भव सहयोग देने की बात कही है. 

म्याँमार: देश पूर्ण व गम्भीर संघर्ष के रास्ते पर, मानवाधिकार प्रमुख की चेतावनी

संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष मानवाधिकार अधिकारी मिशेल बाशेलेट ने चेतावनी भरे शब्दों में कहा है कि म्याँमार में, प्रदर्शनों पर किया जाने वाला मौजूदा दमन, सीरिया की ही तरह, गम्भीर व पूर्ण संघर्ष का रूप भी ले सकता है. उन्होंने प्रभाव वाले देशों से, आम नागरिकों की “हत्याएँ” रोकने के लिये, तुरन्त और असरदार कार्रवाई किये जाने का आग्रह भी किया है.

ब्रिटेन: 'सैन्य बल विधेयक' से युद्धापराधों की जवाबदेही सीमित होने की आशंका

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बाशेलेट ने कहा है कि ब्रिटेन में, सशस्त्र सैनिकों के सम्बन्ध में एक विचाराधीन विधेयक अगर मौजूदा रूप में ही क़ानून बन गया तो उसके कारण, युद्धापराधों के लिये जवाबदेही सीमित होने की आशंका है.

सीरिया: सैन्य हैलीकॉप्टर द्वारा रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल के 'पर्याप्त आधार'

विश्व को रासायनिक हथियारों से मुक्त कराने के लिये समर्पित संस्था (OPCW) की सोमवार को जारी एक रिपोर्ट में कहा गया है कि उसके पास ऐसा विश्वास करने के पर्याप्त आधार हैं कि सीरियाई सेना के एक हैलीकॉप्टर ने, 2018 में सराक़िब क़स्बे पर रासायनिक हमला किया था.

कोविड-19: ड्रग्स तस्करों पर अंकुश लगाने के प्रयासों में मुश्किलें

विश्व में ड्रग्स समस्या की बढ़ती जटिलताओं की वजह से इस दशक के अन्त तक टिकाऊ विकास लक्ष्य हासिल करने के प्रयासों में नए अवरोध पैदा हो रहे हैं. संयुक्त राष्ट्र के ड्रग्स व अपराध रोकथाम कार्यालय – UNODC की कार्यकारी निदेशक ग़ादा वॉली ने सोमवार को सचेत किया कि कोविड-19 महामारी के दौरान हालात और विकट हो गए हैं. 

कोविड-19: विफलताओं से उबरने के लिये सोच-पद्धति में बदलाव की पुकार

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने विकास के लिये वित्तीय पोषण (Financing for Development) विषय पर आयोजित मंच को सम्बोधित करते हुए आगाह किया है कि कोविड-19 सहित भावी चुनौतियो से निपटने के लिये, निजी क्षेत्र को, ख़ुद को, वैश्विक लक्ष्यों के अनुरूप तैयार करना होगा. उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि ऐसा सम्भव बनाने के लिये सोच-विचार के ढाँचे और कार्यपद्धतियों में पूर्ण रूप से बदलाव की आवश्यकता होगी.

कोविड-19: महामारी का अन्त अभी दूर, मगर आशावान होने की वजह भी

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने कहा है कि अनेक देशों में कोविड-19 संक्रमण के मामलों में तेज़ बढ़ोत्तरी दर्शाती है कि दुनिया अभी, महामारी पर पूर्ण रूप से क़ाबू पाने से दूर है. मगर उन्होंने स्पष्ट किया है कि न्यायसंगत टीकाकरण और साबित हो चुके सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों के ज़रिये, कोरोनावायरस को नियन्त्रण में किया जा सकता है, जैसाकि बहुत से देशों ने करके दिखाया है.  

रमदान: वैश्विक महामारी से सबसे ज़्यादा प्रभावितों की मदद करने की पुकार

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी (UNHCR) ने रमदान का पवित्र महीना शुरू होने के अवसर पर उन लाखों शरणार्थियों और अपने देशों के भीतर ही विस्थापित हुए लोगों को और ज़्यादा सहायता व समर्थन दिये जाने का आग्रह किया है जो कोविड-19 महामारी से, सबसे ज़्यादा प्रभावित हुए हैं.