नवीनतम समाचार

सीरिया: नए संविधान पर वार्ता से हिंसा पर विराम लगाने की उम्मीद

सीरिया में युद्धरत पक्षों में गहरा अविश्वास क़ायम है, इसके बावजूद हाल ही में जिनीवा में संवैधानिक समिति की बैठक में आशा की एक धूमिल लेकिन वास्तविक किरण उभरती दिखाई दी है. यह बैठक नौ महीने के अन्तराल के बाद आयोजित की गई थी. शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत गेयर पैडरसन ने सुरक्षा परिषद को एक दशक से जारी हिंसा से सीरिया को उबारने के लिये किये जा रहे प्रयासों के सम्बन्ध में अवगत कराया है. 

टिकाऊ विकास लक्ष्य हैं भविष्य के मार्गदर्शक - कार्रवाई की पुकार

वैश्विक लक्ष्य उन लाखों-करोड़ों लड़कियों, महिलाओं और युवाओं के भविष्य का प्रतिनिधित्व करते हैं जो शिक्षा पाने, समानता हासिल करने और साँस लेने के लिये स्वच्छ हवा के अधिकारों की लड़ाई लड़ रहे हैं. संयुक्त राष्ट्र शान्ति दूत मलाला युसूफ़ज़ई ने शुक्रवार को एक कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए सदस्य देशों को ध्यान दिलाया कि टिकाऊ विकास लक्ष्य के एजेण्डे पर हस्ताक्षरों के बावजूद कार्य अधूरा है जिसे जल्द पूरा किये जाने की ज़रूरत है.

गरिमामय और न्यायसंगत विश्व के लिये समान वेतन सुनिश्चित करने की पुकार

महिलाओं और पुरुषों को समान कार्य के लिये मिलने वाले वेतनों में अन्तर और गहराई से समाई व्यवस्थागत विषमताओं की ओर ध्यान आकृष्ट करने के प्रयासों के तहत शुक्रवार, 18 सितम्बर, को ‘अन्तरराष्ट्रीय समान वेतन दिवस’ मनाया गया. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने पहली बार मनाए गए इस दिवस पर अपने सन्देश में कहा कि कार्यस्थलों पर महिलाओं के लिये ग़ैर-बराबरी का दर्जा जीवन के अन्य क्षेत्रों में विषमता को पनपने का मौक़ा देता है.  

यमन: युद्ध और कोविड-19 से लाखों लोग तबाही के कगार पर

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने गुरुवार को बताया कि पाँच साल से अधिक समय से चल रहे युद्ध ने "यमन के करोड़ों लोगों का जीवन तबाह कर दिया है." विशेषज्ञों का अनुमान है कि यमन में लगभग दस लाख लोग कोविड-19 से प्रभावित हुए हैं.

बेहतर भविष्य के लिये युवाओं के जोश का सदुपयोग अहम, 2020 के युवा चैम्पियन

संयुक्त राष्ट्र ने टिकाऊ विकास लक्ष्यों की प्राप्ति के प्रयासों में उल्लेखनीय भूमिका निभाने वाले 17 पैरोकारों को वर्ष 2020 के युवा चैम्पियन के रूप में मान्यता दी है.

यूएन महासभा का 75वाँ सत्र शुरू

संयुक्त राष्ट्र महासभा का 75वाँ वार्षिक सत्र ऐतिहासिक कोविड संकट के बीच शुरू हो गया है. नए अध्यक्ष के रूप में वोल्कान बोज़किर ने निवर्तमान अध्यक्ष तिजानी मोहम्मद-बाँडे से बागडोर संभाली. इस बार महासभा का स्वरूप थोड़ा अलग यानि वर्चुअल होगा और सभी जगह कोविड-19 महामारी के कारण मास्क, सामाजिक दूरी जैसे सुरक्षा उपाय दिखेंगे. साथ ही पहली बार, देशों के नेता वीडियो द्वारा उच्च-स्तरीय बहस को सम्बोधित करेंगे. 

महासभा का 75वाँ सत्र: उच्चस्तरीय कार्यक्रमों पर एक नज़र

संयुक्त राष्ट्र की स्थापना की 75वीं वर्षगाँठ पर विश्व नेता वैश्विक महामारी कोविड-19 के कारण वर्चुअल माध्यम से विश्व मंच पर मौजूदा चुनौतियों और समाधानों पर अपनी बात रखेंगे, और ऐसा इतिहास में पहली बार होगा. इस दौरान जनरल डिबेट यानि आम चर्चा के साथ-साथ अनेक महत्वपूर्ण कार्यक्रम आयोजित किये जाएँगे जिनका उद्देश्य दुनिया को एक ज़्यादा सुरक्षित, स्वस्थ्य शान्तिपूर्ण और समृद्ध भविष्य की दिशा में अग्रसर करना है. एक नज़र अहम कार्यक्रमों पर...

दरकती दुनिया को कोविड-19 से ख़तरा, शान्ति की पुकार

जापान में प्रचलित एक सिद्धान्त के अनुसार टूटी हुई वस्तुओं में भी ख़ूबियाँ तलाश की जाती हैं. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने गुरुवार को यूएन मुख्यालय में 21 सितम्बर को मनाए जाने वाले अन्तरराष्ट्रीय शान्ति दिवस से पहले गुरूवार को आयोजित एक वार्षिक कार्यक्रम में वैश्विक आग्रह किया कि ऐसे समय जब दुनिया दरक रही है, कोविड-19 से उबरने की प्रक्रिया के दौरान इसी सिद्धान्त को अपनाए जाने की आवश्यकता है.  

शिक्षा: गर्म भोजन और कुछ ‘पौष्टिक पाउडर’

विश्व खाद्य कार्यक्रम (World Food Programme) भारत में एक ऐसा अनूठा कार्यक्रम चला रहा है, जिसके तहत स्कूल के बच्चों को सरकारी अपरान्ह भोजन योजना के साथ-साथ, पूर्ण पोषण सुनिश्चित करने के लिये विटामिन और खनिजों से भरपूर पोषक सहायक ख़ुराक दी जाती है. बच्चे प्यार से इसे ‘जादुई बुरादा’ कहते हैं. 

भारत: बिहार में बाढ़ से राहत में लैंगिक संवेदनशीलता

भारत के पूर्वी प्रदेश बिहार में बढ़ती कोविड-19 महामारी और ऊपर से बाढ़ की मार ने लोगों की मुसीबतें कई गुना बढ़ा दी हैं. ख़ासतौर पर किशोरियों और महिलाओं के लिये ज़रूरी सेवाओं तक पहुँच बहुत कठिन हो गई है. ऐसे में भारत में संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष (यूएनएफ़पीए) ने महिलाओं और किशोरियों को स्वास्थ्य व स्वच्छता सम्बन्धी विभिन्न आवश्यक सेवाएँ देने का बीड़ा उठाया है.