नवीनतम समाचार

कोविड-19: ‘वैक्सीन की जमाखोरी’ से अफ़्रीका पर मँडराता जोखिम

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने गुरुवार को एक चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि कोविड-19 महामारी से बचाव के लिये अन्य क्षेत्रों में स्थित देश टीकों की जमाखोरी और द्विपक्षीय समझौते कर रहे हैं. इसके परिणामस्वरूप वैक्सीन की क़ीमतों में बढ़ोत्तरी हो रही है जिससे महामारी के ख़िलाफ़ लड़ाई में अफ़्रीका के पीछे छूट जाने का जोखिम है. 

पेरिस जलवायु समझौता: एक नज़र

अमेरिका के नव निर्वाचित राष्ट्रपति जोसेफ़ बाइडेन ने पेरिस जलवायु समझौते में, फिर से शामिल होने की घोषणा की है. पूर्व राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प ने, वर्ष 2020 में, अमेरिका को पेरिस जलवायु समझौते से हटा लिया था. इस सन्दर्भ में, पेरिस जलवायु समझौता एक बार फिर से ज़ोरदार चर्चा में आ गया है. यहाँ प्रस्तुत है - कुछ बुनियादी जानकारी...

 

अमेरिका: वैश्विक स्वास्थ्य में फिर से अहम भूमिका निभाने की घोषणा

अमेरिका के शीर्ष चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर एंथनी फ़ाउची ने कहा है कि अमेरिका, यूएन स्वास्थ्य एजेंसी (WHO) द्वारा, कोविड-19 पर क़ाबू पाने के लिये निर्धन देशों की मदद के उद्देश्य से शुरू की गई पहल में शामिल होने के लिये तैयार है. इसके अतिरिक्त उन्होंने सार्वभौमिक स्वास्थ्य देखभाल सुलभता और गर्भपात सेवाओं सहित अन्य स्वास्थ्य उपायों के समर्थन में खड़े होने का संकल्प व्यक्त किया है. 

WHO में अमेरिका की वापसी का स्वागत, वैश्विक एकजुटता का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने अमेरिका के नए राष्ट्रपति जोसेफ़ बाइडेन के उस फ़ैसले का स्वागत किया है जिसमें उन्होंने विश्व स्वास्थ्य संगठन के साथ सम्बन्ध फिर से स्थापित करने की घोषणा की है. जो बाइडेन ने बुधवार को इस घोषणा में, वैश्विक स्तर पर स्वास्थ्य और सुरक्षा को आगे बढ़ाने में पूर्ण भागीदारी जारी रखने की बात भी कही है.

पेरिस समझौते में अमेरिका की वापसी का स्वागत

अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन ने बुधवार, 20 जनवरी, को शपथ ग्रहण समारोह के तुरन्त बाद, पेरिस जलवायु समझौते में फिर शामिल होने की घोषणा की है. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने राष्ट्रपति बाइडेन की इस घोषणा का स्वागत किया है और वैश्विक जलवायु कार्रवाई की रफ़्तार को आगे बढ़ाने के लिये, नए नेतृत्व के साथ काम करने की उत्सुकता ज़ाहिर की है.

दशकों की हिंसा से पीड़ित सीरिया संकटों की 'धीमी सूनामी' की जकड़ में

सीरिया के लिये संयुक्त राष्ट्र के विशेष यूएन दूत गेयर पैडरसन ने कहा है कि एक दशक से चले आ रहे हिंसक संघर्ष और कोविड-19, भ्रष्टाचार व कुप्रबन्धन के कारण देश आर्थिक बदहाली का शिकार है. उन्होंने बुधवार को सुरक्षा परिषद को हालात से अवगत कराते हुए कहा कि एक धीमी सूनामी पूरे देश को अपनी चपेट में ले रही है. 

भूमध्यसागर में एक और हादसा, बचाव अभियान फिर शुरू किये जाने की पुकार

लीबियाई तट के पास एक नाव हादसे में 43 लोगों की मौत के बाद संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों ने भूमध्यसागर में तलाश एवँ बचाव अभियान फिर शुरू किये जाने की पुकार लगाई है. अन्तरराष्ट्रीय प्रवासन संगठन (IOM) और संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी (UNHCR) ने बुधवार को एक बयान जारी करके इस त्रासदीपूर्ण हादसे पर खेद व्यक्त किया है. 

एशिया-प्रशान्त क्षेत्र में लगभग 1.9 अरब लोग स्वस्थ ख़ुराकों से वंचित

संयुक्त राष्ट्र की विभिन्न एजेंसियों ने एक ताज़ा रिपोर्ट में कहा है कि कोरोनावायरस महामारी और खाद्य पदार्थों की बढ़ती क़ीमतों के कारण, एशिया प्रशान्त क्षेत्र में, लगभग दो अरब लोगों को भोजन की सम्पूर्ण और स्वस्थ ख़ुराकें नहीं मिल पा रही हैं. 

सैलमन संरक्षण के लिये वर्चुअल रियलिटी का सहारा

संयुक्त राष्ट्र ने अमेरिका की एक युवती को युवा पृथ्वी चैम्पियन के रूप में पहचान दी है, जो वर्चुअल रियलिटी की मदद से, सैलमन मछलियों के संरक्षण अभियान में सक्रिय हैं. 

कोविड-19: स्वतन्त्र आयोग की अन्तरिम रिपोर्ट, जवाबी कार्रवाई में मिली कमियाँ

कोरोनावायरस संकट की पृष्ठभूमि में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा नियुक्त विशेषज्ञों ने कहा है कि मौजूदा वैश्विक स्वास्थ्य प्रणाली, विश्वव्यापी महामारियों के प्रति समय रहते आगाह करने और पुख़्ता जवाबी कार्रवाई करने के लिये पूरी तरह सक्षम नहीं है. इन विशेषज्ञों ने मंगलवार को अपनी एक अन्तरिम रिपोर्ट जारी की है जिसमें कोविड-19 महामारी और अन्य स्वास्थ्य जोखिमों से निपटने के लिये एक नए ढाँचे की आवश्यकता को रेखांकित किया गया है.