वैश्विक परिप्रेक्ष्य मानव कहानियां

सीरिया

पश्चिमोत्तर सीरिया में बमबारी से प्रभावित बच्चों ने एक अस्थाई केन्द्र में शरण ली है.
© OCHA/Bilal Al Hammoud

मध्य पूर्व में भड़के तनाव में तुरन्त कमी लाए जाने की अपील

सीरिया के लिए संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत गेयर पैडरसन ने सचेत किया है कि मध्य पूर्व में हिंसक टकराव और सीरिया में जारी लड़ाई का स्थानीय आबादी पर विनाशकारी असर हो रहा है. इसके मद्देनज़र, उन्होंने क्षेत्र में व्याप्त तनाव में तुरन्त कमी लाने की अपील की है.

सीरिया के पूर्वोत्तर क्षेत्र में स्थित अल होल शिविर में एक परिवार को, यूनीसेफ़ की तरफ़ से सर्दियों के कपड़े मुहैया कराए गए.
© UNICEF/Delil Souleiman

सीरिया: देश लौटने वाले लोगों के साथ, मानवाधिकार उल्लंघन मामलों पर चिन्ता

सीरिया में लगभग एक दशक से जारी युद्ध के कारण देश छोड़कर जाने वाले लोग बड़ी संख्या में अब वापिस लौट रहे हैं, मगर यहाँ उन्हें मानवाधिकारों के गम्भीर उल्लंघन और अपने साथ दुर्व्यवहार का सामना करना पड़ रहा है. संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय (OHCHR) द्वारा मंगलवार को जारी की गई एक नई रिपोर्ट में ऐसे मामलों पर चिन्ता व्यक्त की गई है. 

सीरिया में वर्ष 2023 के आरम्भ में भीषण भूकम्प आए थे जिसमें जानमाल की भारी तबाही हुई थी और हज़ारों अन्य लोग विस्थापित हुए थे.
© UNICEF/OCHA/Madevi Sun-Suon

सीरिया: युद्ध समाप्ति के लिए, राजनैतिक समाधान की दिशा में, ठोस प्रगति ज़रूरी

सीरिया के लिए संयुक्त राष्ट्र दूत गेयर पैडरसन ने गुरूवार को कहा है कि वर्ष 2023 ने सीरिया के सामने और भी अधिक चुनौतियाँ पेश  की हैं, जिनमें विनाशकारी भूकम्प भी शामिल हैं, जिन्होंने मानवीय ज़रूरतों और गम्भीर लड़ाई को और भड़का दिया.

सीरिया के पूर्वी ग्रामीण इलाक़े - रक़्क़ा की एक अनौपचारिक बस्ती में, एक महिला अपने बच्चे के साथ, सर्दियों के कपड़े लेने के इन्तेज़ार में.
© UNICEF/Delil Souleiman

सीरिया: सुरक्षा परिषद से, सीमा पार सहायता आगे बढ़ाने की अपील

संयुक्त राष्ट्र की अनेक एजेंसियों के प्रमुखों ने मंगलवार को सुरक्षा परिषद से, सीरिया के उत्तरी इलाक़े में, सीमा पार से उपलब्ध कराई जाने वाली मानवीय सहायता सुनिश्चित करने वाले प्रस्ताव को आगे बढ़ाने की अपील की है, जिसकी समय सीमा 10 जनवरी को समाप्त होने वाली है.

पूर्व जर्मन चांसलर ऐंगेला मैर्केल शरणार्थी समुदाय के बच्चों के साथ.
© Bundesregierung/Steffen Kugler

पूर्व जर्मन चांसलर ऐंगेला मर्केल को 'नेनसन शरणार्थी सम्मान'

सीरिया में शरणार्थी संकट के दौरान 'नैतिक व राजनैतिक साहस' दर्शाने के लिये, जर्मनी की पूर्व चांसलर ऐंगेला मैर्केल को, वर्ष 2022 के लिये UNHCR ‘नेनसन’ शरणार्थी पुरस्कार से सम्मानित किया गया है. नेनसन पुरस्कार चयन समिति ने कहा कि पूर्व जर्मन नेता को उनके नेतृत्व, साहस और करुणा के लिये चुना गया है, जिससे शरण की तलाश कर रहे लाखों हताश लोगों का संरक्षण सुनिश्चित करने में मदद मिली. यह पुरस्कार हर वर्ष नॉर्वे के वैज्ञानिक, राजनयिक और मानव कल्याण कार्यों के लिये समर्पित फ़्रिडजोफ़ नेनसन की स्मृति में दिया जाता है. एक वीडियो रिपोर्ट...

सीरिया के पश्चिमोत्तर क्षेत्र में, लगभग 17 लाख विस्थापित लोग, 1,414 शिविरों में रह रहे हैं.
UNOCHA/Ahmad Alito

सीरिया: देश को युद्ध से उबारने के लिये लोगों में 'एकजुटता सम्भव'

सीरिया में संयुक्त राष्ट्र की उप विशेष दूत नजत रोश्दी ने बुधवार को सुरक्षा परिषद को बताया है कि देश में तमाम लोगों के लिये एक शान्तिपूर्ण भविष्य बनाने की ख़ातिर, 11 वर्षों से जारी युद्ध को रोकने के प्रयासों में “प्रगति सम्भव” है. 

सीरिया के पूर्वी ग्रामीण इलाक़े - रक़्क़ा की एक अनौपचारिक बस्ती में, एक महिला अपने बच्चे के साथ, सर्दियों के कपड़े लेने के इन्तेज़ार में.
© UNICEF/Delil Souleiman

सीरिया: ‘बच्चों की एक पूरी पीढ़ी ग़ायब हो जाने का जोखिम’

संयुक्त राष्ट्र के मानवीय सहायता मामलों की सहायक महासचिव जॉयस म्सूया ने सोमवार को सुरक्षा परिषद को बताया है कि सीरिया में अन्तरराष्ट्रीय प्रयासों के लिये पर्याप्त धन उपलब्ध नहीं होने के कारण, आम लोगों को अपरिवर्तनीय नुक़सान हो रहा है, और एक पूरी पीढ़ी का भविष्य दाव पर लग गया है.

सीरिया के पश्चिमोत्तर क्षेत्र में, लगभग 17 लाख विस्थापित लोग, 1414 शिविरों में रह रहे हैं.
UNOCHA/Ahmad Alito

सीरिया: जीवनरक्षक सहायता की आपूर्ति

सीरिया: संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने सीरिया के पश्चिमोत्तर इलाक़े में सीमापार से सहायता आपूर्ति, जनवरी 2023 तक जारी रखने को दी स्वीकृति दे दी है.

सीरिया के दोऊमा इलाक़े में कुछ बच्चे.
© UNICEF/Omar Sanadiki

सीरिया की ज़रूरतें उच्चतम स्तर पर, यूएन जाँच प्रमुख

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद की एक शीर्ष जाँच टीम ने बुधवार को बताया है कि सीरिया की मानवीय ज़रूरतें, अभी तक के सबसे उच्च स्तर पर पहुँच गई हैं; और इस युद्धग्रस्त देश में पहुँचने वाली सहायता को रोकने के लिये किसी भी तरह के क़दम का ज़ोरदार विरोध किया जाना होगा.

सीरिया के पूर्वी ग़ूता इलाक़े में एक ध्वस्त इमारत के पास बच्चे खेलते हुए.
© UNICEF/Amer Al-Mohibany

सीरिया: अन्तिम सहायता सीमा चौकी को बन्द करना - नैतिक अत्याचार होगा

संयुक्त राष्ट्र के सीरिया जाँच आयोग ने गुरूवार को कहा है कि सीमा पार से पहुँचने वाली सहायता का दायरा अन्य मार्गों तक नहीं बढ़ाना, अपने आप में बहुत ऊँचे स्तर की नाकामी होगी. सुरक्षा परिषद में दी गई ये चेतावनी ऐसे समय में आई है जब पूरे सीरिया में मानवीय ज़रूरतें, 11 वर्ष पहले शुरू हुए विनाशकारी और विध्वंसक युद्ध के बाद से, अपने उच्चतम स्तर पर हैं.