एड्स के ख़िलाफ़ लड़ाई में अहम है मरीज़ों को सशक्त बनाना

5 दिसम्बर 2019

हर साल एक दिसंबर को विश्व एड्स दिवस मनाया जाता है.

इस वर्ष इस अवसर पर यूएनएड्स ने एक रिपोर्ट जारी की है – ‘पॉवर टू द पीपुल’ यानी लोगों को सशक्त बनाना.

एचआईवी - एड्स के ख़िलाफ़ लड़ाई में संयुक्त राष्ट्र के प्रयासों की अगुवाई कर रहे यूएनएड्स कार्यक्रम ने कहा है कि एचआईवी से संक्रमित लोगों को जब उनकी ख़ुद की देखभाल करने के प्रयासों में सक्रिय भागीदारी करने का मौक़ा मिलता है तो संक्रमण के नए मामले कम होते हैं और ऐसी स्थिति में ज़्यादा संख्या में संक्रमित लोगों को इलाज की सुविधा हासिल होती है.

इस बारे में और जानकारी के लिए हमारी सहयोगी अंशु शर्मा ने भारत में यूएनए्ड्स कार्यालय में वरिष्ठ सलाहकार नंदिनी कपूर से बात की.

अवधि
8'

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिए यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एंड्रॉयड