ग़रीबी मिटाने के नुस्ख़े आज़माते नोबेल विजेता अभिजीत बैनर्जी से बातचीत

8 नवंबर 2019

वर्ष 2019 का अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार तीन विद्वानों को दिया गया है जिनके नाम हैं – एस्थर डफ़लो, अभिजीत बैनर्जी और माइकल क्रेमर. एस्थर डफ़लो औरअभिजीत बैनर्जी एमआईटी में अर्धशास्त्र के प्रोफ़ेसर हैं जबकि माइकल क्रेमर हॉर्वर्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ाते हैं.

इन तीनों अर्थशास्त्रियों ने ग़रीबी दूर करने के लिए भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश सहित अनेक देशों में ऐसे प्रयोग किए हैं - जिनके तहत ग़रीब लोगों को कुछ संपदा व कारोबार करने का कुछ प्रशिक्षण देकर उन्हें हालात सुधारने का मौक़ा दिया जाता है.

यूएन हिन्दी न्यूज़ के प्रमुख महबूब ख़ान ने सह-विजेता प्रोफ़ेसर अभिजीत बैनर्जी से अमरीका के बोस्टन स्थित एमआईटी में फ़ोन से बात की और पहला सवाल यही पूछा कि उनका काम या रीसर्च क्या है जिसके आधार पर उन्हें नोबेल पुरस्कार मिला है...

Audio Credit:
UN News Hindi / Mehboob Khan
अवधि
12'5"

 

♦ समाचार अपडेट रोज़ाना सीधे अपने इनबॉक्स में पाने के लिए यहाँ किसी विषय को सब्सक्राइब करें
♦ अपनी मोबाइल डिवाइस में यूएन समाचार का ऐप डाउनलोड करें – आईफ़ोन iOS या एंड्रॉयड